Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Sunday / September 25.
Homeकहानियांकभी Air India में पायलट थे भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, अब 68 साल बाद TATA की हुई एयर इंडिया

कभी Air India में पायलट थे भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, अब 68 साल बाद TATA की हुई एयर इंडिया

air india
Share Now

एयर इंडिया(Air India) के विमान में सफर करना मतलब सरकारी सुविधा का लाभ उठाना, अब न तो कंपनी सरकारी रही और ना ही उसकी सुविधाएं सरकारी हैं. 68 साल बाद एयर इंडिया टाटा कंपनी(Tata Takeover Air India) की हो गई. इस 68 साल के सफर में एयर इंडिया ने बतौर सरकारी कंपनी कई प्रधानमंत्री देखें और कई सरकारें देखी जिन्होंने कंपनी को आगे बढ़ाने में कुछ न कुछ जरूर योगदान दिया.

कभी राजीव गांधी उड़ाते थे प्लेन

एयर इंडिया(Air India) का एक दौर वह भी था जब भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी(Rajiv Gandhi) इसके प्लेन उड़ाया करते थे. कहते हैं कि मां इंदिरा गांधी की हत्या के बाद और प्रधानमंत्री बनने से पहले राजीव गांधी दिल्ली-जयपुर रूट पर उड़ान भरा करते थे. तब उनकी सैलरी करीब 5 हजार रुपये थे. जिस दौर में एक अठन्नी में लोग भरपेट खाना खा लिया करते थे, उस दौर में राजीव गांधी बतौर पायलट इतना कमा लेते थे कि घर अच्छी तरह चल सके, फिर भी पायलट(Pilot) की नौकरी छोड़ते वक्त उन्हें ये डर था कि घर कैसे चलेगा.

rajiv gandhi

Image Courtesy: Google.om

संजय गांधी की हत्या के बाद राजनीति में आए राजीव गांधी

खैर संजय गांधी की हत्या के बाद कई कांग्रेस नेता राजीव गांधी(Former PM Rajiv Gandhi) को राजनीति में लाने के लिए कामयाब रहे. तब राजीव गांधी ने कहा था कि अगर मेरे राजनीति में आने से मां को मदद मिलती है तो मैं राजनीति में जरूर आऊंगा. खैर राजीव गांधी ने एक विमान के पायलट से देश के पायलट तक का सफर किया. उधर एयर इंडिया जिसकी स्थापना साल 1932 में जेआरडी टाटा ने की थी. साल 1946 में उसका नाम एयर इंडिया लिमिटेड कर दिया गया.

ऐसे बदलता रहा एयर इंडिया का दौर

देश की आजादी के बाद टाटा की एयर इंडिया(Air India) की किस्मत ऐसी बदली कि पहले साल 1947 में सरकार ने इसकी 49 फीसदी हिस्सेदारी ले ली और उसके बाद साल 1953 में इसका राष्ट्रीयकरण कर दिया गया. मतलब टाटा की एयर इंडिया पूरी तरह से अब सरकारी हो गई. आजादी के 75 सालों में देश ने हर दौर का देखा, कभी आर्थिक बदहाली तो कभी फसल क्रांति और डिजिटलाइजेशन का दौर भी देखा लेकिन एयर इंडिया समय के साथ-साथ कर्ज में डूबती चली गई.

pm modi

Image Courtesy: Google.om

पहले भी हुई थी बेचने की कोशिश

साल 2018 में यानि आज के चार साल पहले मोदी सरकार(Modi Government) ने एयर इंडिया को बेचने की कोशिश की थी लेकिन वह कोशिश नाकाम हो गई थी, शायद खरीददार न मिलने की वजह से ऐसा हुआ. एक बार फिर इसे बेचने की कोशिश की गई, केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह की नेतृत्व वाली पैनल ने टाटा की बोली को मंजूरी दी. ऐसी जानकारी सामने आई कि टाटा ने सबसे ज्यादा बोली लगाई थी. 27 जनवरी को टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(PM Modi) से मुलाकात की और उसके बाद एयर इंडिया की वापसी हो गई.

ये भी पढ़ें: केंद्र ने Air India विनिवेश प्रक्रिया को आसान किया, SPV को असेट्स ट्रांसफर पर नहीं लगेगा TDS और TCS

पहली उड़ान में पायलट ने किया ये अनाउंसमेंट

28 जनवरी 2022 को टाटा की एयर इंडिया(Air India) की फ्लाइट AI 665 ने पहली उड़ान भरी. जिसमें पायलट ने अनाउंस किया कि आज एयर इंडिया सात दशक बाद पूरी तरह से टाटा ग्रुप का हिस्सा बन चुकी है, आप सबका इस ऐतिहासिक उड़ान में स्वागत करना चाहूंगा. इस नए एयर इंडिया में आपका स्वागत है. नए एयर इंडिया(New Air India) में यात्रियों को अब कई तरह के बदलाव भी देखने को मिलेंगे. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment