Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 29.
Homeभक्तिजानें नए साल में कब है पहली अमावस्या, पितृदोष-करियर में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए करें ये उपाय

जानें नए साल में कब है पहली अमावस्या, पितृदोष-करियर में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए करें ये उपाय

amavasya 2022 january
Share Now

Amavasya 2022 In January: हिंदू धर्म में हर तिथि का खास महत्व है, लेकिन अमावस्या(Amavasya 2022) और पूर्णिमा तिथि का अपना विशेष महत्व है. कहते हैं कि पूर्णिमा तिथि का पुजारियों और अमावस्या तिथि का तांत्रिकों को खास इंतजार रहता है. हालांकि इन बातों का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है लेकिन आस्था के दृष्टिकोण से देखें तो हर तिथि अपने आप में खास है. पितृ दोष(Pitra Dosh) से लेकर करियर तक में आने वाली बाधाएं(Career Problems) इस दिन की पूजा-अर्चना से दूर हो जाती हैं.

नए साल में कब है अमावस्या तिथि

ग्रेगोरियन कैलेंडर(Gregorian calendar) के मुताबिक भले ही कल यानि शनिवार से साल बदल जाएगा. हम नए साल 2022(New Year 2022) में प्रवेश कर जाएंगे लेकिन हिंदू धर्म के पंचांग के हिसाब से अभी साल नहीं बदलेगा, बल्कि फाल्गुन (अमूमन मार्च) के महीना साल का आखिरी और चैत्र का महीना साल का पहला महीना होता है. फिलहाल हिंदू(Hindu) धर्म के मुताबिक पौष(Paush) का महीना चल रहा है.

paush

Image Courtesy: Google.com

पितृदोष दूर करने के लिए करें ये उपाय

साल बदलने पर लोगों को इस बात को लेकर कंफ्यूजन है कि आखिर अमावस्या(Amavasya) तिथि कब है. 2 जनवरी 2022 को पौष माह की अमावस्या तिथि हो रही है. इस दिन पितृदोष और करियर में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए पूजा-अर्चना किए जाने का विधान है. अमावस्या तिथि को जल से भरे पात्र में काला तिल डालकर उसे पीपल के पेड़ में डालें और फिर उसकी परिक्रमा करें. ऐसा करने से पितर प्रसन्न होते हैं, जिससे पितृदोष(Pitra Dosh) से मुक्ति मिलती है.

ऐसे दूर होगी करियर में आ रही बाधा

इसके अलावा ऐसा माना जाता है कि अगर करियर में बाधा(Career Problems) आ रही है तो अमावस्या तिथि को 5 लाल फूल और 5 दीया बहती नदी में प्रवाहित करने से हर काम में सफलता मिलती है. आपकी करियर में आने वाली हर तरह की बाधाएं दूर होती हैं.

snan

Image Courtesy: Google.com

ये भी पढ़ें: सूर्योदय से पूर्व स्नान न करने के नुकसान नहीं जानते तो ये जान लीजिए, मरने के बाद मिलेगी ऐसी सजा

अमावस्या तिथि के दिन खास तौर पर गंगा स्नान और दान-पुण्य का विशेष महत्व माना जाता है. 2 जनवरी को पड़ने वाली पौष माह अमावस्या तिथि के एक महीने बाद माघ महीने की अमावस्या तिथि जिसे मौनी अमावस्या(Mauni Amavasya) के नाम से जाना जाता है, उस दिन दान-पुण्य करने से भगवान की कृपा बनी रहती है.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment