Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / August 10.
Homeन्यूजअमूल दूध कैसे पीयेगा इंडिया? 7 महीने बाद दूसरी बार ग्राहकों को लगेगा झटका

अमूल दूध कैसे पीयेगा इंडिया? 7 महीने बाद दूसरी बार ग्राहकों को लगेगा झटका

amul
Share Now

Amul Milk Price Hike: आम जनता पर महंगाई की मार ऐसी पड़ रही है कि इसे अगर आर्थिक अत्याचार कहा जाए तो शायद गलत नहीं होगा. मतलब पहले से ही पेट्रोल-डीजल के महंगे दामों(Petrol-Diesel Price Hike) से परेशान जनता एक के बाद एक कई चीजों के दाम में बढ़ोत्तरी से लगातार कंगाल होती जा रही है. अब अमूल ने भी अपने दूध के दाम दो रुपये प्रति लीटर बढ़ाने(Amul Milk Price Hike) का फैसला लिया है.

7 महीने में 4 रुपये बढ़े दाम

जानने वाली बात ये है कि 7 महीने पहले ही अमूल ने दूध के दाम बढ़ाए थे, तब भी कंपनी की ओर से दो रुपये प्रति लीटर के हिसाब से दूध के दाम बढ़ाए गए थे और अब 1 मार्च 2021 से कंपनी एक बार फिर दाम बढ़ाने जा रही है. अमूल ने कहा है कि प्रोडक्शन कॉस्ट(Production Coast) में लागत बढ़ने की वजह से ऐसा किया जा रहा है. हालांकि दूध के दाम बढ़ाए जाने पर सोशल मीडिया पर लोग नाराजगी व्यक्त कर रहे हैं.

ये होगी नई कीमत

कीमत बढ़ाए जाने के बाद अब 1 मार्च से अहमदाबाद और सौराष्ट्र के बाजारों में अमूल गोल्ड 60 रुपये प्रति लीटर, अमूल ताजा दूध 48 रुपये प्रति लीटर और अमूल शक्ति 54 रुपये प्रति लीटर मिलेगा. जब जुलाई 2021 में अमूल दूध के दाम बढ़ाए(Amul Milk Price Hike) गए थे तो करीब डेढ़ साल बाद कंपनी ने ऐसा फैसला लिया था. लेकिन 7 महीने के भीतर ही कंपनी ने चार रुपये प्रति लीटर के हिसाब से दाम बढ़ा दिए हैं.

डेयरी प्रोड्क्टस पर भी पड़ेगी महंगाई की मार

बता दें कि दूध के दाम बढ़ाए जाने के बाद अब डेयरी प्रोड्क्ट्स(Dairy Products) भी महंगे होंगे. पनीर, घी, मक्खन, आइसक्रीम और छाछ भी अब महंगा हो सकता है, ऐसे में जनता की जेब पर और आर्थिक बोझ पड़ने वाला है. बता दें कि अमूल की शुरुआत अंग्रेजों के जमाने में हुई थी. 1946 में अंग्रेजों ने फैसला किया कि दूध एक प्राइवेट कंपनी(Private Company) को देना पड़ेगा. तब सरदार पटेल ने कहा कि जब तक आप दूध बेचने का इंतजाम नहीं करते तब तक आंदोलन सफल नहीं होगा.

ये भी पढ़ें: National Cooperative Conference: केन्द्रीय मंत्री ने सुनाई अमूल और लिज्जत पापड़ के शुरू होने की कहानी

तब त्रिभुवन भाई पटेल ने सरदार पटेल के नेतृत्व में दो प्राथमिक दुग्ध उत्पादक समिति बनाई जिसमें सिर्फ 80 किसान थे, आज उसका टर्न ओवर 53 हजार करोड़ पार कर गया. इसमें 36 लाख किसान परिवार जुड़े हुए हैं, खासकर महिलाएं सशक्त हो रही हैं. बड़े से बड़े कॉरपोरेट डेयरी जो नहीं कर सकते वह अमूल ने कर दिखाया है. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment