Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 29.
Homeट्रैवेलजानिये, गुवाहाटी का यह मंदिर सात शक्तिपीठों में से एक क्यूँ है?

जानिये, गुवाहाटी का यह मंदिर सात शक्तिपीठों में से एक क्यूँ है?

Basistha temple
Share Now

Basistha temple: असम एक ऐसा राज्य है, जहां पर स्थापित मंदिरों से जुड़ी कई सारी ऐतिहासिक घटनाएं हैं। मंदिरों के अंदर सदियों पुरानी शिल्पकारी, कलाकृतियाँ नजर आती है। आस-पास घूमने के लिए आकर्षित जगह भी हैं। असम के कई जिले और शहर पर्यटन के लिए प्रसिद्ध हैं। नदियों, झीलों की वजह से यह जगह लोगों का आकर्षण केंद्र है। ऐसा ही एक और धार्मिक स्थान गुवाहाटी से कुछ किलोमीटर दूर बेलटोला क्षेत्र में स्थित है। 

भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर सात शक्तिपीठों में से एक है:- 

भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर सात शक्तिपीठों में से एक माना जाता है। इस मंदिर का नाम वशिष्ठ मंदिर है। क्यूंकी मंदिर के नाम में इसका इतिहास जुड़ा हुआ है। पुराणों में उल्लेख किया गया है कि, भगवान शिव के इस मंदिर की स्थापना वैदिक युग में महान महर्षि वशिष्ठ जी ने की थी। इसलिए इस मंदिर को वशिष्ठ मंदिर के नाम से जाना गया। इस मंदिर को बशिष्ठ आश्रम मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। महर्षि ने अपना अंतिम जीवन यहीं व्यतीत किया था। 

 Basistha Temple guwahati Assam

Basistha Temple Guwahati Image Credit: Google Image

Rishi vashisht

Rishi vashisht Image Credit: Google Image

संवत 1764 में कारियारूप शैली में अहोम राजा राजेश्वर सिंह के निर्देश पर भगवान शिव को समर्पित कर बनवाया गया था। लेकिन मूर्ति की स्थापना महर्षि ने की थी। इसलीय यह मंदिर वैदिक काल पुराना माना जाता है। 

वशिष्ठ मंदिर की खास बातें,

  • यहाँ पर हर साल महर्षि की याद में निर्वाण दिवस मनाया जाता है। 
  • इस दिन का अत्यधिक महत्व इसलिए है क्यूंकी, वशिष्ठ ऋषि को इसी दिन प्रभु की साधना के पश्चात मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। 
  • शिव मंदिर में यह दिन बड़ी श्रद्धा और भक्ति के साथ निर्वाण दिवस मनाया जाता है। 
  • और मंदिर में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। 
  • मंदिर में रोजाना प्राचीन रीत-रिवाजों के साथ आरती की जाती है। 
  • प्रतिदिन भगवान की पूजा के दरमियान, फल-फूल, मिष्ठान और नए वस्त्र अप्रीत किए जाते हैं।  
  • कथाएं ये भी हैं कि, आश्रम के निर्माण के दौरान राजा अहोम ने 835 बीघा जमीन को दान में दिया था। 
basistha temple

basistha temple Image Credit: Google Image

यहाँ पढ़ें: चाय के बागानों के बीच ये धार्मिक स्थान हैं, सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र!

शिव मंदिर के पास पत्थरों के बीच से जल की धारा बहती रहती है। मंदिर के पीछे का भाग इसलिए पर्यटनों के लिए आकर्षण का केंद्र माना जाता है। सभी सैलानी इस जगह को एक दिन के पिकनिक के रूप में पसंद करते हैं और यहाँ अपने परिवार के साथ घूमने आते हैं। 

देखें यह वीडियो: 



देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें.. और OTT INDIA App डाउनलोड अवश्य करें..  स्वस्थ रहें.. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment