Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Saturday / October 16.
Homeबॉलीवुड एंड म्यूजिकBirthday Special: जानिए Gulshan Grover के बारे में सबकुछ कैसे बनें बॉलीवुड के ‘बैड मैन’ ?

Birthday Special: जानिए Gulshan Grover के बारे में सबकुछ कैसे बनें बॉलीवुड के ‘बैड मैन’ ?

Birthday Special: Learn everything about Gulshan Grover How to become Bollywood's 'Bad Man'?
Share Now

Birthday special: गुलशन ग्रोवर हमेशा से ही अपने खतरनाक लुक और पंचलाइन की वजह से फिल्मों में दर्शकों का दिल जीत चुके हैं. बॉलीवुड में वो उन अभिनेताओं में से कौन हैं जो कुछ अलग अभिनय के के जरिए जाने जाते हैं. गुलशन ग्रोवर ने अपने करियर की ज्यादातर फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभाई है और बड़े पर्दे पर अच्छी छाप छोड़ी है. उनका जन्म 21 सितंबर 1955 को दिल्ली में हुआ था.  गुलशन ग्रोवर ने अपनी शुरुआती पढ़ाई दिल्ली से की उन्होंने दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से स्नातक किया. गुलशन ग्रोवर ने तब अभिनय में अपना करियर बनाने का फैसला किया. बॉलीवुड में कदम रखने से पहले गुलशन ग्रोवर ने थिएटर ज्वाइन किया और एक्टिंग सीखी. लंबे समय तक थिएटर में काम करने के बाद उन्होंने मुंबई जाने का फैसला किया।

मुंबई पहुंचकर गुलशन ग्रोवर ने एक्टिंग की एक और क्लास ली. उनके सहपाठी अनिल कपूर थे। गुलशन ग्रोवर पहली बार फिल्म ‘हम पांच’ में नजर आए थे. यह फिल्म 1980 में सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी. इस फिल्म में उन्होंने एक छोटा सा रोल प्ले किया था।

इसे भी पढ़े:  टैक्स चोरी के आरोप पर सोनू सूद ने तोड़ी चुप्पी, सोशल मीडिया पर शेयर किया पोस्ट

‘हम पांच’ के बाद गुलशन ग्रोवर बुलंदी, रॉकी, सदमा, अंदर-बहार और वीराना जैसी फिल्मों में नजर आए. उन्हें असली पहचान फिल्म ‘राम लखन’ से मिली थी. फिल्म ‘राम लखन’ में गुलशन ग्रोवर का किरदार ‘बैड मैन’ था. उनका यह किरदार इतना मशहूर हुआ कि उनकी पहचान बनती चली गई. आज भी कई लोग उन्हें ‘बैड मैन’ के नाम से जानते हैं. गुलशन ग्रोवर (Birthday special) ने बॉलीवुड के अलावा हॉलीवुड फिल्मों में भी काम किया है. उनके चाहने वाले भारत ही नहीं विदेशों में भी हैं. गुलशन ग्रोवर ने स्वेच्छा से फिल्मों में खलनायक की भूमिका निभाने का फैसला किया।

उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद जब मैंने फिल्मों में एंट्री की तो मुझे एहसास हुआ कि मैं स्टार बनना चाहता हूं. एक स्टार का मूल्य है. मैंने खलनायक बनना चुना. मैंने इसका अनुभव तब किया जब रोशन तनेजा और मेरे सहपाठी अनिल कपूर के साथ अभिनय सीख रहे थे. गुलशन ग्रोवर ने आगे कहा, ‘खलनायक होने का एक और कारण यह था कि, मुझे लगता है कि फिल्मों में खलनायक की अवधि लंबी होती है. उनकी लंबी उम्र, व्यक्तिगत अहंकार और अच्छे दिखने के आधार पर नहीं बल्कि उनके प्रदर्शन पर आधारित है. उनकी कोई उम्र नहीं होती। जो काफी चैलेंजिंग लग रहा था। इसलिए मैंने विलेन बनने का फैसला किया।’

No comments

leave a comment