Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / May 17.
Homeन्यूजजनाधार वाले नेताओं की तलाश में भाजपा ने एक साल में बदले 4 राज्य के मुख्यमंत्री

जनाधार वाले नेताओं की तलाश में भाजपा ने एक साल में बदले 4 राज्य के मुख्यमंत्री

BJP CM resignation
Share Now

गुजरात की राजनीति में राजनीतिक उथल-पुथल बढ़ गई है. 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात में सियासत गरमा गई है. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने इस्तीफा देकर सभी को चौंका दिया है. इसके बाद से अटकलें लगाई जा रही हैं कि गुजरात में विधानसभा चुनाव जल्दी कराए जाएंगे. इसके साथ ही बीजेपी (BJP) ने पिछले छह महीने में अलग-अलग राज्यों में पांच मुख्यमंत्री बदले हैं.

बीजेपी शासित राज्यों में पिछले एक साल में यह पांचवी घटना है जिसने सभी को झकझोर कर रख दिया है. इस घटना में भाजपा के मुख्यमंत्री को उनका कार्यकाल समाप्त होने से पहले ही पद से हटा दिया गया था. एक साल के अंदर सीएम बदलने में ये है बीजेपी की हैट्रिक. इससे पहले कर्नाटक और उत्तराखंड में भी राजनीतिक मुद्दे गर्म थे.

आज भाजपा (BJP) के क्षेत्रीय और राष्ट्रीय स्तर के नेता रूपाणी के साथ पहुंचे और पार्टी कार्यालय में बैठकों का सिलसिला शुरू हो गया. अहमदाबाद के वैष्णो देवी सर्कल में सरदार भवन के उद्घाटन के बाद रूपाणी सीधे राजभवन पहुंच गए हैं. रूपाणी ने वहां से मीडिया को जानकारी देते हुए अपने इस्तीफे की घोषणा की है. इस बीच केंद्रीय मंत्री परसोतम रूपाला ने कहा कि 24 घंटे में तस्वीर साफ हो जाएगी.

उत्तराखंड में बदला मुख्यमंत्री

त्रिवेंद्र सिंह रावत को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया. इसके बाद उनकी जगह तीरथ सिंह रावत ने ले ली. हालांकि, रावत भी मुख्यमंत्री के रूप में जीवित नहीं रह सके और 4 जुलाई को भाजपा ने उनकी जगह पुष्कर सिंह धामी को नियुक्त किया. उत्तराखंड में भी अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं.

 

तीरथ सिंह रावत ने तब 10 मार्च, 2021 से 2 जुलाई, 2021 तक नेतृत्व किया और फिर भाजपा ने पुष्कर सिंह धामी को उत्तराखंड का सीएम नियुक्त किया. पिथौरागढ़ में जन्में 45 वर्षीय पुष्कर सिंह धामी राज्य के सबसे युवा मुख्यमंत्री बने. दो बार विधायक रहे धामी उत्तराखंड सरकार में कभी मंत्री नहीं रहे, लेकिन अब सीधे मुख्यमंत्री पद पर काबिज हैं.

येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा

कर्नाटक में तत्कालीन मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को 26 जुलाई को सीएम पद से इस्तीफा देना पड़ा था. कर्नाटक में बीजेपी सरकार को अभी 2 साल पूरे हुए थे और येदियुरप्पा को सीएम की कुर्सी खाली करनी पड़ी थी. 2018 के विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में कांग्रेस-जेडीएस की सरकार बनी थी, लेकिन यह सरकार केवल एक साल ही शासन कर सकी और फिर भाजपा ने बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में अपनी सरकार बनाई. हालांकि, येदियुरप्पा के बाद, भाजपा ने राज्य का नेतृत्व बसवराज बोम्मई को सौंप दिया, जो अब कर्नाटक के मुख्यमंत्री हैं.

यह भी पढ़ेंः गुजरात के अगले सीएम के लिए ये नाम चर्चा में, विधायक दल की बैठक के बाद ऐलान संभव

असम में हिमंता को बनाया सीएम

भाजपा (BJP) ने 2016 का असम विधानसभा चुनाव सर्बानंद सोनोवाल के नेतृत्व में लड़ा था. उस समय वे केंद्रीय मंत्री थे. फिर उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में असम भेजा गया. असम में पहली बार बीजेपी ने अपनी सरकार बनाई है. सोनोवाल पांच साल तक मुख्यमंत्री रहे. फिर भी, पार्टी ने 2021 के चुनावों में सोनोवाल को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार नहीं बनाया.

 

भाजपा से सोनोवाल या हिमंत विश्व सरमा को नया मुख्यमंत्री बनने कि उम्मिद थी. चुनाव परिणाम 2 मई को घोषित किए गए और फिर हिमंत के नाम की घोषणा मुख्यमंत्री के रूप में की गई. सोनोवाल को तब 7 जुलाई को केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल के समय मंत्री बनाया गया था.

 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment