Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 30.
Homeबॉलीवुड एंड म्यूजिकक्यों ढूँढ रही थी कंगना, करण जौहर को?

क्यों ढूँढ रही थी कंगना, करण जौहर को?

Share Now

1. मेट्रो में रहते हुए हमें लगने लगता है कि दुनिया Fair है: दिव्यांका त्रिपाठी

Divyanka Tripathi lashes out at a woman user promoting 'no bindi no business'; tweets 'It should be a woman's choice what she wants to wear' - Times of India

Image Spource: Google

दिव्यांका त्रिपाठी का कहना है की मेट्रो में रहते हुए हमें लगने लगता है कि दुनिया fair है| कुछ समय पहले ट्विटर पर हैशटैग नो बिंदी नो बिजनेस ट्रेंड करने लगा था। दिव्यांका त्रिपाठी दहिया, जो इस हैशटैग से चिढ़ गईं,  called out the gender inequality prevalent in our society.कैंपेन को प्रमोट करने वाले ट्विटर यूजर को जवाब देते हुए उन्होंने कहा , ‘नो बिंदी नो बिजनेस?  यह एक महिला की पसंद होनी चाहिए कि वह क्या पहनना चाहती है! हिंदू धर्म choices का सम्मान करने के बारे में है! आगे आप पर्दा-व्यवस्था और फिर सतीप्रथा वापस चाहते हैं?  किसी भी कल्चर को महिलाओं के पहनावे से क्यों नापा जाए? जब महिलाएं इस तरह की concepts का प्रचार करती हैं तो मुझे और धक्का लगता है।”

 किस बात ने उन्हें नाराज़ किया, इस बारे में खुलते हुए, दहिया हमें बताती हैं कि वह “महिलाओं की पसंद पर सवाल उठा ने” के विचार से सहज नहीं थीं। लेकिन वह clear करती हैं कि उन्होंने ” religious  नहीं बल्कि मानवीय आधार पर बात की है”। इस बारे मे बात करती हुई वे आगे कहती हैं कि इस तरह के हैशटैग देश में गहरी जड़ें जमाए हुए gender bias  को highlight करते हैं। “मेट्रो) में रहते हुए, हमें लगने लगता है कि दुनिया बहुत fair है, लेकिन जब आप कम डेवलप इलाकों को देखते हैं, तो आपको man  vs  वुमन के स्टैटस मे बड़ा difference दिखता है|”मैंने religious  नहीं बल्कि मानवीय औरegalitarian grounds पर बात की है।” चलन के बारे में बात करते हुए, उन्होंने यह भी शेयर किया की  “मैं हैशटैग से अचंभित हो गई ।

जिस बात ने मुझे चौंका दिया, वह यह कि सामाजिक कलंक यहीं से शुरू होते हैं। शुरुआत में, वे कहते हैं कि यह एक reason के लिए है और फिर यह एक धार्मिक या एक sect’s rule  के रूप से कायम रहता है”।बता दे की साथ ही उन्हे यह भी डर है कि इन trends  का महिलाओं के psychology पर असर पड़ सकता है। वह कहती हैं, “जब महिलाएं इन मांगों के आगे झुक जाती हैं और इसे अपना कर्तव्य समझती हैं, तो यह और भी अधिक caustic होता है।” “यह एक unfortunate observation है I’ve had for cultures across the globe,, जब किसी को cultural values पर जोर देना होता है, तो यह दर्शाया जाता है कि उस समाज की महिलाएं कैसे कपड़े पहनती हैं या व्यवहार करती हैं। इस तरह के नियमों के संदर्भ में समानता की कमी है|


ये भी पढ़े : बॉलीवुड अपडेट्स खबरी आंटी के साथ  

2.  क्यों हो गए है आर्यन खान बेहद शांत

Aryan Khan, Who "Forgot About The Mandatory Graduation Post," Shared This

Image Source: Google

जेल के बाद आर्यन खान ‘बेहद शांत’ हो गए हैं और अब उन्हे दोस्तों से मिलने में दिलचस्पी नहीं है| कथित तौर पर 25 दिन जेल में बिताने से आर्यन खान पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस पूरी घटना से आर्यन खान traumatised  हो गए है | स्टार-किड, जो पहले चहल-पहल से भरा social life, बिताते थे, दोस्तों के साथ पार्टी करते थे, अब कथित तौर पर बहुत reserved हो गए है। जी हाँ आपको बता दे की परिवार के एक करीबी ने बतायाहै की जमानत के बाद आर्यन अपने आप में ही रहते है और अपना ज्यादातर समय अपने कमरे में ही बिताते है।

30 अक्टूबर को जमानत मिलने के बाद से आर्यन को अपने दोस्तों से मिलने में कोई दिलचस्पी नहीं है। कथित तौर पर शाहरुख, गौरी और परिवार के बाकी लोग भी उन्हें बेहतर होने के लिए अपना समय और स्पेस दे रहे हैं।यही नहीं साथ ही ये भी बताया गया है कि उनके पेरेंट्स भी यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं कि वे हर कदम पर उनके लिए हैं। यही एक कारण था कि पिता एसआरके ने अपना birthday celebrate नहीं किया और family के साथ quality time बिताने के लिए अलीबाग में जाने का फैसला किया। वही फिल्म के शेड्यूल के साथ उन्हें सेट पर वापस बुलाने के साथ, शाहरुख भी अपने बेटे के लिए एक personal bodyguard रखने पर विचार कर रहे हैं। srk अपने बेटे को सुरक्षित रखने के लिए सब कुछ कर रहे हैं।

जबकि शाहरुख के trusted bodyguard  वर्तमान में एनसीबी के साथ बैठकों के लिए आर्यन के साथ हैं, उन्हें जल्द ही अपने अंतरराष्ट्रीय शूटिंग शेड्यूल पर उनके साथ जाना होगा। वही आर्यन को इस शुक्रवार को फिर से एनसीबी के सामने पेश होने की उम्मीद है। स्टार-किड को एनसीबी के एसआईटी अधिकारियों ने ड्रग्स मामले की जांच और उसके मामले में कथित ‘जबरन वसूली’ के लिए बुलाया था। आर्यन को कथित तौर पर रविवार को बुलाया गया था, लेकिन बुखार होने के कारण वे नहीं जा पाए | इस बीच, एसआईटी ने शाहरुख की मैनेजर पूजा ददलानी को भी पूछताछ के लिए बुलाया गया ।

3.  तेजस्वी प्रकाश ने करण कुंद्रा से की अपने दिल की बात

Tejaswi Prakash Bio, Height, Wiki, Affairs & Net Worth | Wiki Bioz

Image Source; Google

अगली खबर है रीऐलिटी शो बिग बॉस 15 से, तेजस्वी प्रकाश ने करण कुंद्रा से कहा, ‘मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता टेलीविजन पर हमारी केमिस्ट्री establish हो या न हो, बस तेरे दिल में होनी चाहिए’ |करण कुंद्रा और तेजस्वी प्रकाश का रिश्ता धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है और आखिरकार, दोनों ने एक-दूसरे के लिए अपनी भावनाओं के बारे में बात की है। हालाँकि एक-दूसरे के लिए उनकी परवाह उनके कार्यों से स्पष्ट होती है, उन्होंने इस बारे में बात की कि उन्होंने अपनी भावनाओं को कैसे और कब महसूस किया। बता दे की तेजस्वी प्रकाश ने करण कुंद्रा से पूछा कि उन्होंने उनके लिए कब महसूस करना शुरू किया। उन्होंने कहा कि यह एक बहुत ही slow and natural process  थी जहां उन्होंने उसे बहुत प्यारा पाया।  करण ने यह भी खुलासा किया कि वह एक बार उन्हे देखते हुए tripped गए थे|

करण कुंद्रा का जीवन परिचय। Karan Kundra Biography In Hindi

Image Source: Google

जिससे तेजस्वी शरमा गई थी। हालांकि, करण ने कहा कि उन्हें पूरा यकीन है कि उनकी (तेजस्वी) तरफ से कुछ नहीं है। दूसरी ओर, तेजस्वी ने उनके लिए अपनी भावनाओं को describe  किया। उन्होंने कहा, “मुझे यह पसंद है कि हम एक ही tangent पर हैं और for me that is hot. बहुत ताकत दिखती है उस मे , पूरा महसूस होता है तेरे साथ।, हाँ, यह एक रिजन हो सकता है जिसे मैंने भी आपको नोटिस करना शुरू कर दिया था। वही करण ने कहा कि वह जानते है कि वह उस तरह के लड़के नहीं है जिसे वह चाहती है, वह है जो “ओवर द टॉप” और “फिल्मी” है। जिस पर, तेजस्वी ने कहा कि वह इस तरह से फिल्मी नहीं हो सकते जैसे उमर रियाज चाहते हैं कि वह उनके साथ रहे लेकिन उन्हें उनकी सादगी पसंद है।  तेजस्वी ने करण से कहा कि वह बहुत ही सादा जीवन जीती है और दिखावटीपन में विश्वास नहीं करती है।

करण कुंद्रा ने आगे बताया कि कैसे उन्हें अब अपने बारे में कई चीजों का एहसास होने लगा है। उन्होंने कहा, जब तक वह उनसे यहां नहीं मिले, तब तक उन्हें पता नहीं था कि वह कैसे हैं। उसने यह कहकर उसे सहज महसूस कराया, “तू जो कर रही है सही है, तू बहुत जरूरी है| तेजस्वी प्रकाश ने करण कुंद्रा से कहा कि अगर उनकी केमिस्ट्री टेलीविजन पर establish नहीं होती है तो इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन यह उनके दिल में establish  होनी चाहिए। और, यही उनके लिए मायने रखता है। उन्होंने यह भी कहाA कि उन्हे इस बात की परवाह नहीं है कि घरवाले उनके साथ रहने के बारे में क्या सोचते हैं। देखते हैं कि घर के बाहर भी #TejRan मजबूत रहता है या नहीं।

4.  बच्चे की परवरिश करना आसान नहीं है: अमृता राव

Image Source: Google

अमृता राव का कहना है की बच्चे की परवरिश करना आसान नहीं है|अमृता राव motherhood का हर पल एन्जॉय कर रही हैं। उन्हे लगता है कि बच्चा पैदा करना आसान नहीं है। वह कहती हैं, “मैं हमेशा से जानती थी कि motherhood कठिन है! बच्चे की परवरिश करना आसान नहीं है। ऐक्टिंग के अपने जुनून के साथ खुद को बिजी रखना पसंद करने वाली अमृता personal and pfofessional life  के बीच बैलन्स बनाने की कोशिश कर रही है। वह अपने पति आरजे अनमोल की कंपनी पाकर खुश हैं। उनका कहना है की “It would have been crazy “अगर मेरे पास सपोर्ट के लिए fatherhood  नहीं होता | Feminist ego. के लिए कोई जगह नहीं है। जैसा कि, एक पिता कर सकता है वह अलग और निश्चित रूप से valuable  है, खासकर जब मां भी प्रसव के बाद recover हो रही हो|

इतने सारे अनुभव के साथ, अमृता से पूछा गया की क्या वह दूसरा बच्चा पैदा करने की प्लानिंग कर रही है, हो सकता है कि उनके इकलौते बेटे को कंपनी के लिए भाई-बहन रखने का विचार हो।  इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा की “मैं इस concept में विश्वास नहीं करती कि एक और बच्चा सिर्फ आपके छोटे बच्चे को कंपनी देने के लिए है|  “कभी भी किसी ऐसे व्यक्ति के झांसे में न आएं जो आपको इन आधारों पर समझाने की कोशिश करता है। यह एक बहुत ही subjective matter है और जो एक के लिए काम करता है वह जरूरी नहीं कि दूसरे के लिए भी काम करे| सात साल तक डेटिंग करने के बाद, उन्होंने 15 मई, 2016 को आरजे अनमोल के साथ शादी के बंधन में बंधी। साथ में, उनका एक बेटा है। , अमृता की बात करे तो उन्होंने मैं हूं ना (2004), वेलकम टू सज्जनपुर (2008), जॉली एलएलबी (2011) और ठाकरे (2019) जैसी फिल्मों में काम किया है। उन्होंने 2002 में अब के बरस के साथ फिर से ऐक्टिंग में अपनी शुरुआत की।

 

5.  क्यों कर रही थी कंगना, करण जौहर को ढूँढने की कोशिश 

Controversial Statements by Kangana Ranaut that define her | IWMBuzz

Image Source: Google

कंगना रनौत और करण जौहर की दुश्मनी से तो सभी वाकिफ हैं। कंगना द्वारा फिल्म निर्माता करण जौहर पर पर भाई-भतीजावाद यानि नेपोटिज्म का आरोप लगाने के बाद दोनों के रिश्ते काफी खराब हो गए है। हाल ही में इन दोनों को पद्म पुरस्कारों से नवाजा गया है। कई लोगों ने सोचा कि क्या कंगना और करण पुरस्कार लेने के लिए एक ही छत के नीचे आए थे। खैर, अभिनेत्री ने खुलासा किया कि समारोह में  वह एक दूसरे को नहीं मिले। एक इंटरव्यू में, कंगना ने उल्लेख किया कि आयोजकों ने यह मेकशयोर किया की उनके समारोहों का समय अलग हो।

कंगना से यह भी पूछा गया कि क्या वह करण जौहर से बात करतीं, अगर वह उनसे मिलतीं। इस पर, अभिनेत्री ने उल्लेख किया कि वह फिल्म मेकर करण को ढूँढने की कोशिश कर रही थी, लेकिन नहीं कर सकी। उसने आगे कहा कि वह निश्चित रूप से उससे बात करती और उन्हे बधाई भी देती।इस बारे में उन्होंने कहा “संघर्ष हो सकता है और असहमति हो सकती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप को-एक्सिस्टेंस में विश्वास नहीं करते हैं … मैं यही कहती हूं, को-एक्सिस्टेंस और समान अवसर देना चाहे वह पुरुषों, महिलाओं या बाहरी लोगों, अंदरूनी लोगों के लिए हो, नेपटिज़म.. मैं सभी प्रकार के सह-अस्तित्व को प्रोत्साहित करती हूं।”

रनौत ने कहा कि उन्होंने कुछ विनर्स के सामने खुद को महत्वहीन महसूस किया, जो साधारण थे लेकिन उनकी उपस्थिति में “विशाल” थे।उन्होंने कहा “कुछ लोग जो अंदर आए और उनका सम्मान किया, उन्होंने मुझे इतना महत्वहीन महसूस कराया। उनमें से कुछ अपनी उपस्थिति में इतने सरल और विशाल थे। जब उनका परिचय हुआ, तो मुझे लगा कि मैं पर्याप्त नहीं हूं। बहुत कम ही मुझे यह फिलिंग आती है। ऐसे लोगों को अपना पुरस्कार लेते हुए देखने के लिए … मुझे लगा, क्या मैं इनके जितनी अच्छी हूं?”

कंगना शायद पर्यावरणविद् तुलसी गौड़ा और एक नारंगी विक्रेता हजब्बा का जिक्र कर रहे थे, जिन्होंने अपने गांव में एक स्कूल बनाई हैं। उन्हें उनके काम के लिए पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।यह पूछे जाने पर कि वह खुद को पांच साल के बाद कैसे देखती हैं,  रनौत ने कहा, “मैं निश्चित रूप से शादीशुदा और खुश रहना चाहती हूं। एक मां के रूप में, एक पत्नी के रूप में, और निश्चित रूप से एक ऐसे व्यक्ति के रूप में जो न्यू इंडिया के विजन में सक्रिय रूप से भाग ले रहा है।”कंगना रनौत ने यह भी कहा कि वह “प्यार में खुश जगह” में हैं|

6.  अदनान सामी है बहुत खुश 

SINGER अदनान सामी के लिए पद्म श्री से सम्मानित किया जाना एक “unparalleled honour रहा है। सामी उस पल को “ईथर” के रूप में डिस्क्राइब करते हुए है और विस्तार से बताते है, “जब मैं वहां बैठा था और ceremony शुरू होने की प्रतीक्षा कर रहा था, मैं environment को absorbi कर रहा था। एक पर्सन और artiste के रूप में मैंने अपने जीवन में जो कुछ भी किया है, उसका पूरा फ्लैशबैक मेरे पास था। मैं अभी भी यह सब करने की कोशिश कर रहा हूं।वह अभी भी और अधिक मेहनत करने के लिए motivated  है, वह जिम्मेदारी की भावना महसूस करते है। इसके बारे में बात करते हुए, वे कहते हैं, “यह एक खूबसूरत आशीर्वाद है कि मुझे इस उम्र में पुरस्कार दिया गया है। मैं विश्वास करना चाहता हूं कि मेरे सामने एक और लाइफ है और मुझे और अधिक करने और शेयर करने की जिम्मेदारी महसूस होती है।

जब कोई आपकी प्रशंसा करता है, तो यह आपको और भी बेहतर करने के लिए motivate करता है। इसने मुझे और अधिक उत्साह के साथ प्रेरित और तरोताजा कर दिया है।”बता दे की 2016 में, अदनान को सरकार द्वारा Indian citizenship  प्रदान की गई थी। इसलिए यह सम्मान और भी खास है। इस बारे मे वे कहते है की “जब मुझे अचानक इस पुरस्कार के बारे में सूचित किया गया, तो मैं पूरी तरह से हैरान रह गया। इसमें से सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि art  geography  सहित किसी भी चीज़ से ऊपर है|

साथ ही इस बारे मे बात करते हुए वे आगे कहते है की , “मैंने लंदन में अपनी यात्रा शुरू की और फिर Portugal चला गया और फिर भारत आ गया। किसने सोचा होगा कि मुझे इतना prestigious honour! मिलेगा! यह दर्शाता है कि यदि आप किसी भी चीज़ में विश्वास करते हैं, फोकस करते हैं |साथ ही उनकी चार साल की बेटी पुरस्कार प्राप्त करते हुए टेलीविजन स्क्रीन के सामने पोज देती हुई। “वह समारोह में शामिल नहीं हो पाई। लेकिन उसने इसे लाइव देखा और यह सुनिश्चित किया कि जब वे पुरस्कार प्राप्त कर रहे थे तो वह टीवी के सामने फोटो खिंचवाए। उन्हे इस बात की खुशी है कि वह पल कैमरे पर मिला|

7.  अपनी mental health पर फोकस करना चाहती थी: बनिता संधू

Picture of Banita Sandhu

Image Source: Google

अब खबर है ऐक्ट्रिस बनिता संधू की| जी हाँ बता दे की बनिता संधू ने वरुण धवन के साथ अक्टूबर (2018) के साथ हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में अपनी शुरुआत की। तीन साल बाद उनकी दूसरी फिल्म सरदार उधम रिलीज हुई। वह बताती है कि उन्होंने अपनी पहली फिल्म के बाद इसे धीमी गति से लिया क्योंकि वह अपनी mental health पर फोकस करना चाहती थी और अपनी education पूरी करना चाहती थी। उनका कहना है की “मुझे वापस लंदन जाना था और अपनी डिग्री और graduate की पढ़ाई पूरी करनी थी। मैं इस बात को लेकर ओपन हूँ कि उस दौरान मेरी मेंटल हेल्थ बहुत खराब स्थिति में थी। आपके हेल्थ के बिना, आप कुछ भी नहीं हैं।

इसलिए, मैंने बेहतर होने और ट्रैक पर वापस आने के लिए एक साल का समय लिया ताकि मैं फिर से अच्छा काम करना शुरू कर सकूं| अक्टूबर, जो फिल्म निर्माता शूजीत सरकार के साथ उनकी पहली फिल्म थी, इसके लिए उन्हें बहुत प्रशंसा मिली और भले ही उन्हें अगले कुछ सालों में किसी अन्य हिंदी फिल्म में नहीं देखा गया| लेकिन उनका परफॉरमेंस उनके फैंस के मन मे आज भी बस हुआ है | इस बारे में बात करते हुए, वह कहती हैं, “मुझे पता है कि सोशल मीडिया की बदौलत आज अक्टूबर क्या बन गया है। मुझे अब भी इसके बारे में मेसेजेस प्राप्त होते हैं। मुझे नहीं पता था कि ऐसा होगा | इस बारे मे बात करती हुई वे आगे कहती है की : “यह कुछ ऐसा है जो Naturally से मेरे पास आता है।

आप किसी सीन से पहले अपने expressions की प्लानिंग नहीं बना सकते। शूजीत सर अपने actors को एक बहुत ही सुरक्षित जगह पर रखते हैं| सरकार के साथ दोबारा काम करने के बारे में उनसे सवाल किया तो उन्होंने जवाब मे कहा की ”ऐसा लगता है कि जब मैं उनके साथ काम करती हूं तो घर वापस आ जाती हूं। हमने अब तक कई बार साथ काम किया है और हमें ऐसा लगता है कि वह मेरे करियर की शुरुआत से ही मेरे साथ है। वह मेरे गुरु और जीवन मार्गदर्शक हैं।

ये पढे : आज की बॉलीवुड अपडेट्स 

8. कविता कौशिक ने दिए कैंसर पेशंट को अपने बाल 

I have no desire to bring a child into this overpopulated country: Kavita Kaushik | The Times of India

Image Source: Google

अभिनेत्री कविता कौशिक अब एक नए रूप में काफी अच्छी दिख रही हैं। बुधवार को इंस्टाग्राम पर साझा किए गए एक वीडियो में, कविता ने खुलासा किया कि उसने अपने बालों को छोटा कर लिया है और कैंसर के पेशंट के लिए अपने बाल दान कर देंगी। कविता ने इंस्टाग्राम पर अपना नया अवतार प्रकट करने से पहले लिखा, “और यह कैंसर रोगियों के लिए विग बनाने के लिए डोनेशन के लिए जाता है! और मेरा नया लुक? वेट करो यार। ”वीडियो में कविता को बालों के कटे हुए सट्रेडस से खेलते हुए दिखाया गया है। कैंसर रोगियों के लिए बाल दान करने पर कविता की पोस्ट राष्ट्रीय कैंसर जागरूकता दिवस (7 नवंबर) के कुछ ही दिनों बाद आई।

कविता के इस वीडियो के बाद उन्होंने कुछ तस्वीरें पोस्ट की, जिसके साथ उन्होंने अपने नए लुक की झलक दी। उन्होंने कहा “यह नई लड़की कौन है! मुझे कुछ पता नहीं चला, लेकिन वह विकेड है।” इस फोटो में उन्होंने नीले रंग के कट-आउट स्विमसूट पहना हुआ है।कविता कौशिक के लिए टिस्का चोपड़ा की ने सपोर्ट दिखाया। उन्होंने लिखा: “ओएमजी कब?” और कॉमेडियन भारती सिंह ने तालियों के इमोजी कमेन्ट किए। कविता कौशिक का फीड उनके फेन्स द्वारा पोस्ट किए गए लाल दिल और थम्स अप इमोजी से भर गया था।

इस हफ्ते की शुरुआत में, माधुरी दीक्षित के छोटे बेटे रयान ने राष्ट्रीय कैंसर जागरूकता दिवस पर कैंसर समाज को बाल दान किए। एक पोस्ट में, माधुरी दीक्षित ने लिखा: “सभी हीर टोपी नहीं पहनते हैं … लेकिन मेरे (हीरो) ने किया। राष्ट्रीय कैंसर दिवस के अवसर पर, मैं वास्तव में कुछ खास साझा करना चाहूंगी। कई लोगों को कैंसर के लिए कीमोथेरेपी से गुजर रहे लोगों को देखकर रयान का दिल टूट गया। वे जिस हर चीज से गुजरते हैं, उनके बाल झड़ जाते हैं। मेरे बेटे ने कैंसर सोसायटी को अपने बाल दान करने का आह्वान किया। माता-पिता के रूप में हम उसके फैसले से थ्रीलड़ थे।”

कविता कौशिक को सब टीवी के सिटकॉम एफ.आई.आर में चंद्रमुखी चौटाला और डॉ. भानुमती ऑन ड्यूटी में भानुमति के रूप में उनकी भूमिकाओं के लिए जाना जाता है। उन्होंने एक हसीना थी, मुंबई कटिंग और फिलम सिटी जैसी फिल्मों में भी अभिनय किया है। कविता कौशिक ने झलक दिखला जा 8, नच बलिए 3 और बिग बॉस 14 जैसे रियलिटी शो में भाग लिया है, बिग बॉस में उन्होंने वाइल्ड कार्ड एंट्री की थी।

 


9.  महिमा मकवाना, सलमान खान के साथ बॉलीवुड में अपनी शुरुआत करने के लिए है पूरी तरह तैयार

Pin on Outfits

Image Source: Google

टेलीविजन उद्योग से अपने करियर की शुरुआत करने वाली महिमा मकवाना अभिनेता सलमान खान और उनके बहनोई आयुष शर्मा के साथ अंतिम: द फाइनल ट्रुथ के साथ बॉलीवुड में अपनी शुरुआत करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। एक इंटरव्यू में, महिमा ने खुलासा किया कि जब वह बहुत छोटी थीं और परिवार की एकमात्र कमाने वाली थीं, तब उन्होंने काम करना शुरू कर दिया था।इंटरव्यू में महिमा ने कहा कि उन्होंने 10 साल की उम्र से ही ऑडिशन देना शुरू कर दिया था। उसने कहा, “मुझे कोई पछतावा नहीं है क्योंकि यह मेरी अपनी जर्नी है। मैंने जो भी गलतियाँ की हैं, सभी सबक जो मैंने सीखे हैं और जो भी अनुभव मैंने किए हैं, उन सभी के लिए मैं खुद जिम्मेदार हूँ।

मेरी जर्नी आसान नहीं थी। 10 साल की उम्र में काम करना शुरू करना और परिवार का एकमात्र कमाने वाला सदस्य होना और साथ ही मेरे पेशे को अपना जुनून बनाना एक बहुत बड़ा काम था। लेकिन, मेरी नजर लक्ष्य पर थी और मुझे पता था कि एक दिन मैं इसे बड़े पर्दे पर आऊँगी।“महिमा ने आगे कहा, “जब मैंने पहली बार काम करना शुरू किया, तो मुझे पता था कि यह कुछ ऐसा है जो मैं जीवन भर करना चाहती हूं। मैं भी ऐसे परिवार से आती हूं जहां मेरे सिंगल पेरेंट हैं, इसलिए जीवन आसान नहीं था। इसने मुझे पहले से कहीं ज्यादा दिया,  लेकिन इसने मुझे वह व्यक्ति भी बना दिया जो मैं आज हूं। हां, मैं अपने जीवन के फोरमेटिव स्कूल और कॉलेज के दिनों से चूक गई, लेकिन मुझे लगता है कि सब कुछ एक कारण से हुआ।“

महिमा टीवी धारावाहिकों जैसे सपने सुहाने लड़कपन के (2012-15), रिश्तों का चक्रव्यूह (2017-18), मरियम खान (2018-19) और शुभरंभ (2019-20) में दिखाई दी हैं। उन्होंने 2017 में वेंकटपुरम के साथ तेलुगु फिल्म उद्योग में अपनी शुरुआत की। 2019 में, उन्होंने ज़ी 5 पर रंगबाज़ सीज़न 2 के साथ अपना डिजिटल डेब्यू किया।         

10.  शर्मिला टैगोर ने किया शशि कपूर के बारे मे खुलासा 

Saif Ali Khan expresses concern for his mother Sharmila Tagore | Filmfare.com

Image Source: Google

अभिनेत्री शर्मिला टैगोर ने एक बार इस बारे में बात की थी कि कैसे दिवंगत अभिनेता शशि कपूर ने उन्हें अपनी एक फिल्म छोड़ने से रोका था। एक पुराने इंटरव्यू में, शर्मिला ने साझा किया कि जब वह एक मंदी का शिकार होने वाली थीं तब शशि ने उन्हें ‘बेक टू रियालिटी’ का झटका दिया। शर्मिला ने यह भी खुलासा किया था कि कैसे उनके बेटे सैफ अली खान ने ‘शशि के साथ रहने’ पर जोर दिया।     शर्मिला टैगोर और शशि कपूर ने एक साथ कई फिल्मों में काम किया था। उनकी फिल्मों में वक्त (1965), आमने सामने (1967), सुहाना सफर (1970), आ गले लग जा (1973), पाप और पुण्य (1974), अनाड़ी (1975), दूर-देश (1983), स्वाति और नई शामिल हैं। दिल्ली टाइम्स (1986), माँ बेटी (1987) आदि।

2017 में एक इंटरव्यू में, शर्मिला टैगोर ने कहा था, “कपूर परिवार से होने के बावजूद, वह अपनी खुद की एक पहचान और एक जगह बनाने पर जोर दे रहे थे। उन्होंने मुझे एक बार भी ऐसा महसूस नहीं कराया कि वह एक फिल्मी विरासत का हिस्सा थे। और मैं उस सेंस में नहीं थी। हमारी एक शूटिंग के दौरान एक समय था जब मैं सेट पर सैफ को साथ ले गई थी। वह एक छोटा बच्चा था और वह शशि जी के साथ रहने पर जोर देता था। इतना कि एक के दौरान उनका ध्यान आकर्षित करने के लिए वह सेट पर रेंगते थे। उनके मन में आज तक शशिजी के लिए वह प्यार और सम्मान है।”उन्होंने आगे कहा, “मुझे याद है कि एक बार मेरा बहुत बुरा दिन था और हम उन फिल्मों में से एक को छोड़ने की कगार पर थे, जिसमें हम साथ थे। मैं ड्रेसिंग रूम में थी, जब शशिजी मेरे पास आए और मुझे वापस वास्तविकता में झटका दिया।

Shashi Kapoor - IMDb

Image Source: Google

उन्होंने मुझसे कहा, “उन सभी फिल्म निर्माताओं से बेहतर काम की उम्मीद न करें, जिन्होंने आपको कास्ट किया है। कई बार ऐसा भी होगा जब आप जो कुछ भी स्क्रिप्ट पर पढ़ते हैं वह फिल्म का हिस्सा नहीं होगा। लेकिन काम चलते रहने की जरूरत है। आप निराश नहीं हो सकते क्योंकि हमारे पास इसके लिए समय नहीं है।” वह स्ट्रेटफ़ॉरवर्ड थे और उन्होंने कभी भी मुझे केवल इसके लिए खुश करने की कोशिश नहीं की। ”  शर्मिला टैगोर और शशि कपूर ने 1998 में घर बाजार की, जो उनकी आखिरी फिल्म थी। शशि का दिसंबर 2017 में मुंबई में 79 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उन्होंने जेनिफर केंडल से शादी की और उनके तीन बच्चे थे- बेटी संजना कपूर और उनके बेटे, कुणाल कपूर और करण कपूर।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                             

 

No comments

leave a comment