Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Sunday / January 16.
Homeभक्तिगुरुवार को गलती से भी न करें ये काम वरना करियर, स्वास्थ्य और धन से धो बैठेंगे हाथ!

गुरुवार को गलती से भी न करें ये काम वरना करियर, स्वास्थ्य और धन से धो बैठेंगे हाथ!

Brihaspativar Vrat
Share Now

हिंदू(Hindu) धर्म में आपने अक्सर ये सुना होगा कि कोई व्यक्ति किसी खास दिन बाल नहीं कटवाता या अगर आप घर में नाखून काट रहे हैं तो घर वालों ने रोक दिया होगा कि दूसरे दिन काट लेना. इसके पीछे अगर कभी वजह पूछी होगी तो घरवालों ने कहा कि इस दिन ऐसा नहीं करते, ऐसे में आखिर जानते हैं कि इसके पीछे की मान्यता क्या है, अगर ऐसा करेंगे तो क्या नुकसान उठाना पड़ सकता है.

इस दिन बृहस्पतिदेव की होती है पूजा

दरअसल गुरुवार का दिन भगवान विष्णु को समर्पित है, इस दिन भगवान बृहस्पतिदेव(Brihaspativar Vrat) की पूजा-अर्चना की जाती है. बृहस्पतिदेव की पूजा में कई तरह के नियम मानने होते हैं, इस दिन का व्रत करने वाले भक्त बिल्कुल शुद्ध सात्विक मन से भगवान बृहस्पतिदेव की पूजा करते हैं. पूजा-अर्चना तो पूरी तरह से विधि-विधान से की जाती है लेकिन उस दिन पूजा करने वालों के अलावा घर में रहने वाले लोगों को भी व्रत के नियम मानने होते हैं, बस वह उपवास नहीं रखते.

Guruwar

Image Courtesy: Google.com

गुरुवार को गलती से भी न करें ये काम

अगर आपके घर में कोई बृहस्पतिवार का व्रत(Brihaspativar Vrat) रखता है तो उस दिन आप बाल-दाढ़ी नहीं कटवा सकते, मिट्टी का घर है तो उसे लीप नहीं सकते, आम तौर पर अब मिट्टी का घर कुछ गांवों में ही बचा है. इसके अलावा धोबी को कपड़े धुलने के लिए भी नहीं दे सकते. साथ ही अगर आप मांसाहारी हैं तो इस दिन मांस-मदिरा का सेवन नहीं कर सकते. अगर आप ऐसा करेंगे तो आपको करियर, स्वास्थ्य और धन से भी हाथ धोना पड़ सकता है.

Brihaspativar

Image Courtesy: Google.com

राजा को रंक बनते नहीं लगी थी देर

बृहस्पतिवार व्रत कथा(Brihaspativar Vrat Katha) में भी इस बात जिक्र है कि कैसे एक राजा सभी नियमों का पालन करता था और उसकी रानी इन बातों से परेशान रहती थी. रानी और दासी ने तीन बृहस्पतिवार तक व्रत के किसी भी नियम का पालन नहीं किया जिसकी वजह से राजा से रंक बनते उन्हें देर नहीं लगी, राजा को जंगल में लकड़ियां काटकर गुजरना पड़ा तो वहीं रानी और दासियों के खाने तक के भी लाले पड़ गए.

ये  भी पढ़ें: नाम भले ही विवाह पंचमी है लेकिन इस दिन विवाह नहीं होते बल्कि पूजा होती है, पढ़ें विवाह पंचमी की खास बातें

आखिरकार उन्होंने बृहस्पतिवार का व्रत(Brihaspativar Vrat) किया तो धन-धान्य और सुख-समृद्धि वापस लौट आई, इसलिए मान्यता के मुताबिक इस दिन गलती से भी ये काम न करें.

No comments

leave a comment