Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / December 1.
Homeन्यूजलड़कों की स्कर्ट वाली वायरल तस्वीर की हकीकत जान लीजिए, वजह बेहद खास है

लड़कों की स्कर्ट वाली वायरल तस्वीर की हकीकत जान लीजिए, वजह बेहद खास है

Scotland
Share Now

कुछ समय पहले एक खबर बहार आई थी जिसमें बताया गया था कि कैसे एक किशोर पुरुष छात्र को स्कूल में स्कर्ट पहनकर आने की वजह से निकाल दिया गया था. इसके बाद उस छात्र को इंसाफ दिलाने के लिए पुरूष शिक्षक के साथ और भी छात्र कक्षा में स्कर्ट पहनकर आए. तब से फिर इस आंदोलन ने जोर पकड़ लिया था. यह आंदोलन 2020 में स्पेन शुरू हुआ था.

Scotland

COURTESY: GOOGLE.COM

अब इसके बाद हाल ही में हुई एक घटना में एडिनबर्ग की एक प्राथमिक स्कूल ने लड़कों के साथ-साथ तीन साल जितनी कम उम्र तक की लड़कियों को स्कूल में स्कर्ट पहनकर जाने के लिए कहा. इसका मकसद ‘प्रमोट इक्वालिटी’ यानि समानता को बढ़ावा देना था. एडिनबर्ग के कैसलव्यू प्राइमरी स्कूल ने आदेश जारी किया. फिर इसके बाद इस स्कूल के बच्चों ने ‘वियर ए स्कर्ट टू स्कूल’ अभियान में हिस्सा लिया जो #ClothesHaveNoGender का हिस्सा रहा है. आपको बते दें कि इस आंदोलन को सोशल मीडिया पर भरपूर समर्थन मिल रहा है.

डेली मेल ने बुधवार को बताया, “हम चाहते हैं कि हमारा स्कूल समावेशी हो और समानता को बढ़ावा दे,” एडिनबर्ग में कैसलव्यू प्राइमरी के एक ईमेल ने माता-पिता को लिखा. आउटलेट ने नोट किया कि 3 साल से कम उम्र के लड़कों को भाग लेने के लिए कहा गया था. ईमेल में कहा गया है कि स्कूल चाहता है कि बच्चे “कंफर्टेबल” हों और स्कर्ट के नीचे लेगिंग या अन्य पैंट पहने जा सकते हैं. डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, जिन छात्रों के पास कोई स्कर्ट नहीं है, उन्हें स्कर्ट स्कूल की तरफ से मिल जाएगी.

देखें ये वीडियो: Devendra Fadanavis On Navab Malik’s Underworld Connection 

आउटलेट के अनुसार, माता-पिता को एक संदेश में शिक्षकों ने लिखा, “हम यह संदेश फैलाने के इच्छुक हैं कि कपड़ों का कोई लिंग नहीं होता है और हम सभी को अपनी पसंद के अनुसार खुद को व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र होना चाहिए.”

बीबीसी स्कॉटलैंड ने गुरुवार को ट्वीट किया, “आज स्पेन में ‘वियर ए स्कर्ट टू स्कूल डे’ है और इस साल एडिनबर्ग में कैसलव्यू प्राइमरी कर्मचारियों और विद्यार्थियों को ‘लैंगिक रूढ़ियों को तोड़ने’ और ‘समानता को बढ़ावा देने’ के लिए प्रोत्साहित कर रहा है.” अमेरिका में पांचवें ग्रेडर के समकक्ष, कैसलव्यू में पी6 स्तर के छात्रों को कथित तौर पर स्पेन के विरोध के बाद इस विचार के साथ आया था.

इस दिन का समर्थन करने वाले लोगों ने ” वियर ए स्कर्ट टू स्कूल डे” मनाने के लिए कैसलव्यू को आलोचनाओं से लेकर ट्वीट पर प्रतिक्रियाएँ दी.

ये भी पढ़ें: नायका की संस्थापक फाल्गुनी नायर बनी भारत की सबसे धनी सेल्फमेड महिला अरबपति

एडिनबर्ग काउंसिल के प्रवक्ता ने कहा, “स्कॉटलैंड की राजधानी के रूप में हम समानता और विविधता को बढ़ावा देने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं, और विशेष रूप से हमारे स्कूलों में सम्मान, सहिष्णुता और समझ बढ़ाने के इच्छुक हैं.” इवनिंग एडिनबर्ग न्यूज ने गुरुवार को रिपोर्ट किया.

परिषद ने कहा, “स्कूल को माता-पिता से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है, लेकिन अगर वे नहीं चाहते हैं तो विद्यार्थियों को भाग लेने की जरूरत नहीं है.”

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment