Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / December 1.
Homeभक्तिChaitra Navratri 2022 पर भूलकर भी न करें ये 9 काम, इस मुहूर्त में करें कलश स्थापना

Chaitra Navratri 2022 पर भूलकर भी न करें ये 9 काम, इस मुहूर्त में करें कलश स्थापना

navrtr
Share Now

चैत्र नवरात्रि 2022 (Chaitra Navratri) की शुरुआत होने वाली है. अप्रैल महीने के शुरुआत में ही यानि 2 अप्रैल से नवरात्रि की शुरुआत हो जाएगी, अगले नौं दिनों तक श्रद्धालु माता की उपासना करेंगे. घरों और मंदिरों में मां दुर्गा सप्तशती का पाठ किया जाएगा और सुबह-शाम माता रानी की आरती और जयकारों की गूंज सुनाई देगी.

2 अप्रैल से शुरू होगी नवरात्रि 

आश्विन के महीने में आने वाली नवरात्रि(Chaitra Navratri 2022) में जहां दसवें दिन विजयादशमी यानि दशहरा मनाया जाता है तो वहीं चैत्र नवरात्र में ऐसा नहीं होता. बल्कि नवमी तिथि के दिन रामनवमी(Ram Navami) का त्यौहार मनाया जाता है. इस बार 10 अप्रैल को देशभर में रामनवमी का त्यौहार मनाया जाएगा. इस बार चैत्र नवरात्रि 2 अप्रैल से शुरू होकर 11 अप्रैल तक होगी. कलश या घटस्थापना के लिए शुभ मुहूर्त सुबह में दो घंटे का है.

Maa Ulka Devi Mandir

नवरात्रि में करें नियमों का पालन 

2 अप्रैल 2022 यानि शनिवार की सुबह 6 बजकर 22 मिनट से 8 बजकर 31 मिनट तक आप कलश(Kalash Sthapana) स्थापित कर सकते हैं. अगर आप अभिजीत मुहूर्त में घटस्थापना करना चाहते हैं तो इसके लिए शुभ मुहूर्त 12 बजकर 8 मिनट से 12 बजकर 57 मिनट तक है. कलश स्थापना के बाद अगले नौ दिनों तक सच्चे मन से देवी दुर्गा की आराधना करें तो आपकी सारी मनोकामनाएं पूरी होंगी. 11 अप्रैल यानि दसवीं के दिन आप व्रत खोल सकते हैं, पारण कर सकते हैं. हालांकि नवरात्र(Chaitra Navratri) के दौरान आपको कई बातों का ख्याल भी रखना होता है. आप चाहें व्रत करें या न करें नवरात्र के दिनों में अगर इन नियमों का पालन करेंगे तो माता रानी की कृपा आप पर बनी रहेगी.

भूलकर भी न करें ये 9 काम 

  1. मन से बुरे विचारों को निकाल दें: अक्सर लोगों के मन में बुरे ख्याल या विचार आने लगते हैं, इसलिए ऐसे विचार मन में न आएं ऐसा प्रयत्न करें. ताकि नवरात्र के दिनों में आप सिर्फ शारीरिक नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी शुद्ध रह सकें.
  2. चमड़े से बनी चीजों का त्याग: लोगों में लेदर से बनी चीजों का क्रेज बढ़ता जा रहा है. जैसे लेदर बेल्ट, पर्स और जैकेट वगैरह. चैत्र के महीने में खैर जैकेट तो नहीं लेकिन बेल्ट और पर्स आप रखते हैं इसलिए हो सके तो इसका भी त्याग करें.
  3. मांस-मदिरा का त्याग: चैत्र का महीना हिंदू धर्म के लिए काफी पवित्र महीना होता है, इस महीने में आपको मांस-मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए, लेकिन अगर पूरा महीना आप ऐसा न करे सकें तो नवरात्र के दिनों में तो बिल्कुल भी मांस और शराब का सेवन न करें.
  4. लहसून-प्याज का त्याग: नवरात्र के दिनों में आपको लहसून-प्याज का सेवन तो बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए, क्योंकि ये सात्विक भोजन के अंतर्गत नहीं आता. कहते हैं कि किसी भी त्यौहार में सात्विक भोजन करना चाहिए.
  5. बाल-नाखुन कटवाना: नवरात्र के पूरे नौ दिनों तक आपको बाल-दाढ़ी नहीं कटवाना चाहिए. घर में अगर किसी ने भी व्रत रखा हो तो पूरे परिवार को नियम का पालन करना चाहिए.
  6. साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें: नवरात्र के दिनों में घर में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें. जहां गंदगी होती है वहां माता रानी का वास नहीं होता, इसलिए घर को पूरी तरह से साफ-सुथरा रखें.
  7. घर खाली न छोड़ें: कहते हैं कि अगर आपने घर में कलश स्थापना की है तो घर को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए, घर के मंदिर में अगर आपने कलश स्थापित किया है तो वहां 24 घंटे अखंड ज्योति जलाएं और मंदिर का दरवाजा खुला रखें.
  8. नारी का सम्मान करें: माता रानी की पूजा के बाद कन्या पूजन का विधान है, मान्यता है कि कन्याएं मां दुर्गा का स्वरूप होती हैं. ऐसे में आपको इन नौ दिनों तक ही नहीं बल्कि आजीवन नारी का सम्मान करना चाहिए, किसी की भावना को ठेस नहीं पहुंचाना चाहिए.
  9. बेजुबान को बेवजह परेशान न करें: नवरात्रि में सिर्फ इंसान को ही नहीं बल्कि बेजुबान जानवरों को भी आपको परेशान नहीं करना चाहिए. क्योंकि मां दुर्गा इस पूरे संसार की माता हैं, उनके लिए हम इंसान और पशु-पक्षी सभी बच्चे के समान हैं, उनका वाहन भी सिंह है. इसलिए बेवजह किसी को दुख न पहुंचाएं.  

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment