Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / December 6.
Homeन्यूजपुलवामा हमले में इस्तेमाल केमिकल Amazon से खरीदा गया था, दर्ज किया गया केस- CAIT

पुलवामा हमले में इस्तेमाल केमिकल Amazon से खरीदा गया था, दर्ज किया गया केस- CAIT

CAIT
Share Now

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने 24 नवंबर को ई-कॉमर्स कंपनी Amazon के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन किया. Amazon कंपनी पर CAIT ने आरोप लगाया गया है कि पुलवामा में बमों के लिए इस्तेमाल होने वाले केमिकल्स Amazon की ऑनलाइन वेबसाइट पर मिल रहे है. साथ ही रसायन बेचने और अपने प्लेटफॉर्म पर जहर बेचने के लिए Amazon पर केस दर्ज किया गया. आपको बता दें कि CAIT ने अपने ई-कॉमर्स पोर्टल पर अवैध सामान बेचने के लिए Amazon के खिलाफ 500 जिलों में विरोध प्रदर्शन किया.

अमेज़न के खिलाफ विरोध का कारण

विरोध की जानकारी की घोषणा करने के लिए CAIT ने सोशल मीडिया का सहारा लिया. ट्रेडिंग कम्युनिटी ने अमेज़न के खिलाफ अपने विरोध के तीन कारण बताए: अपने प्लेटफॉर्म पर ड्रग्स बेचना, बम बनाने में इस्तेमाल होने वाले रसायनों यानि केमिकल्स की बिक्री, और GST काउंसिल के खिलाफ कपड़ा और जूते की दरों में बढ़ोतरी के लिए. बता दें कि इससे पहले, मध्य प्रदेश पुलिस ने मारिजुआना के एक रैकेट का भंडाफोड़ किया था, जिसे अमेज़न ई-कॉमर्स पोर्टल के माध्यम से करी पत्ते के रूप में बेचा जा रहा था.

कई मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, ट्रेडर्स बॉडी कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने एक बयान में कहा कि ई-कॉमर्स पोर्टल, Amazon पर ड्रग्स और मारिजुआना की बिक्री रिटेलर द्वारा किया गया कोई नया और पहला अपराध नहीं है.

पुलावामा आतंकी हमले में बम बनाने की सामग्री यहां से ली गई

देखें ये वीडियो: Little Rann Of Kutch | Ajanta Oreva Group | Kutch Development Project

डेक्कन हेराल्ड के अनुसार, इससे पहले 2019 में, इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) बनाने के लिए रसायनों का इस्तेमाल किया गया था. इसके अलावा पुलवामा आतंकी हमले में 40 CRPF जवानों की मौत के लिए इसका इस्तेमाल किया गया था, जिसे ई-कॉमर्स पोर्टल के माध्यम से खरीदा गया था. पुलवामा मामले की जांच के दौरान NIA ने मार्च 2020 में अपनी रिपोर्ट में इस तथ्य का खुलासा किया था. यह खबर मार्च 2020 में मीडिया में भी व्यापक रूप से सामने आई. रिपोर्ट के अनुसार, अन्य सामग्री के अलावा, अमोनियम नाइट्रेट, जो भारत में एक प्रतिबंधित वस्तु है, को भी इस पोर्टल के माध्यम से खरीदा गया था.

CAIT के राष्ट्रीय अध्यक्ष और महासचिव ने कही ये बात

आउटलुक के अनुसार, CAIT के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि सार्वजनिक डोमेन में उपलब्ध रिपोर्टों के अनुसार, NIA द्वारा प्रारंभिक पूछताछ के दौरान, गिरफ्तार व्यक्ति ने खुलासा किया कि उसने IED बनाने के लिए रसायनों, बैटरी और अन्य सामान की खरीद के लिए अपने अमेज़ॅन ऑनलाइन शॉपिंग खाते का इस्तेमाल किया था.

हमले में प्रयुक्त विस्फोटकों का निर्धारण फोरेंसिक जांच के माध्यम से अमोनियम नाइट्रेट, नाइट्रोग्लिसरीन आदि के रूप में किया गया था. चूंकि भारतीय सैनिकों के खिलाफ प्रतिबंधित सामग्री अमोनियम नाइट्रेट की बिक्री की सुविधा के लिए, अमेज़ॅन और उसके अधिकारियों के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया जाना चाहिए, उन्होंने कहा.

प्रधानमंत्री को किया आग्रह

ये भी पढ़ें: BCCI पर लगाए गए आरोप पर Arun Dhumal ने तोड़ी चुप्पी, अफवाहों का किया खंडन

आपको बता दें कि CAIT 2017 से ई-कॉमर्स के लिए एक संहिताबद्ध कानून की मांग कर रहा है. रिपोर्ट के अनुसार, भरतिया और खंडेलवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से इस मामले में तत्काल सीधे हस्तक्षेप करने का आग्रह किया. CAIT ने कॉमर्स मंत्री पीयूष गोयल से भी तत्काल ई-कॉमर्स नियम, ई-कॉमर्स नीति और FDI नीति के प्रेस नोट नंबर 2 की जगह नए प्रेस नोट जारी करने का आग्रह किया है.

CAIT ने सरकार से भारत में काम कर रहे ई-कॉमर्स खिलाड़ियों के बिजनेस मॉडल की गहन जांच करने का अनुरोध किया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ई-कॉमर्स पोर्टल पर प्रतिबंधित वस्तुओं या राष्ट्र विरोधी गतिविधियों की बिक्री नहीं हो.

No comments

leave a comment