Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 30.
Homeन्यूजसाथ आए, साथ चले गए! कुछ ऐसी कहानी थी प्रसिद्ध जुड़वां भाई शिवनाथ और शिवराम की

साथ आए, साथ चले गए! कुछ ऐसी कहानी थी प्रसिद्ध जुड़वां भाई शिवनाथ और शिवराम की

Chhattisgarh Twins
Share Now

छत्तीसगढ़ के बलौदाबाजार के खेंडा गांव के रहने वाले दो भाई शिवनाथ और शिवराम जो अपनी अनोखी जोड़ी के लिए मशहूर थे उनके निधन की खबर आई है. जानकारी के मुताबिक शनिवार देर रात को अचानक तबीयत बिगड़ने से दोनों का निधन हो गया है.

दुनिया में कई ऐसे बच्चे है जो जुड़वा पैदा होते है. वे भाई-बहन, भाई-भाई या फिर दो बेहनें के रूप में भी होते है. दुनियाभर में हर साल 50 से 60 हजार बच्चे ऐसे होते है जिनका जन्म इस तरह जोइंट रूप में होता है. इन्हें Conjoined Twins कहा जाता हैं.

Chhattisgarh Twins

शिवराम और शिवनाथ के परिवार के अनुसार, भाइयों को बीती रात तेज बुखार आया और सुबह जब परिवार के सदस्य बच्चों के कमरे में पहुंचे तो उनकी मौत हो गई. गांव में यह भी चर्चा है कि दोनों भाइयों ने आत्महत्या कर ली है. भाइयों की उम्र 20 साल थी.

दिसंबर 2001 में जन्मे शिवनाथ और शिवराम शारीरिक रूप से जुड़े हुए थे. उनके दो सर, चार हाथ और दो पैर थे. शिवराम और शिवनाथ अपना सारा काम एक साथ करते थे.

दोनों भाई स्कूटर भी चलाते थे

इन दोनों भाइयों की हिम्मत को भी सलाम देना होगा. शिवनाथ और शिवराम दोनों भाई शारीरिक रूप से जुड़े हुए थे. नहाने से लेकर स्कूटर चलाने तक का काम भी दोनों भाइयों साथ ही किया करते थे. इसी वजह से पूरा देश उन्हें दो जिस्म एक जान के नाम से जानता था.

मानव शरीर की अनूठी संरचना वाले कई विदेशी शोध दल भी बलौदाबाजार आते थे और शिवनाथ और शिवराम से मिलते थे. दोनों भाई स्थानीय लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र रहे. न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक और भावनात्मक रूप से भी जुड़े रहे. ये दोनों भाई कई कठिनाइयों के बाद भी एक-दूसरे से अलग नहीं होना चाहते थे. दोनों हँसते-खेलते लोगों से मिलते थे. अब उनके आकस्मिक निधन से गांव के लोग दुखी हैं.

Chhattisgarh Twins

ये दोनों भाई अपनी जिंदादिली के लिए जाने जाते थे. दोनों भाई एक छोटे से गांव, खेंड़ा में रहते थे. दोनों भाई जन्म से ही कमर से जुड़े हुए थे. दुनिया में ऐसे कई बच्चे हैं जो इस तरह पैदा होते हैं. ज्यादातर मामलों में इन बच्चों की मौत हो जाती है. एक दुसरे से जुड़ें हुए रहने वाले बच्चों को Conjoined Twins कहते है.

किस वजह से होता है ऐसे बच्चों का जन्म?

पहली स्थिति ऐसी है कि जब महिला का एग फर्टिलाइजेशन दो भाग में विभाजित हो जाता है. ऐसे में दोनों बच्चे एक ही लिंग होता हैं. अक्सर फर्टिलाइजेशन के बाद एग को पूरी तरह से दो भागों में विभाजित नहीं किया जा सकता है. ऐसे में बच्चों के शरीर आपस में जुड़े जाते हैं.

Chhattisgarh Twins

तो दूसरी स्थिति में महिला की ओवरी एक समय में एक ही स्थान पर एक गो एग में रिलीज होता है. यदि दोनों एग्स को अलग-अलग शुक्राणुओं में निषेचित किया जाता है, तो जुड़वाँ बच्चे पैदा होते हैं. ऐसे में बच्चों का लिंग भी अलग-अलग हो सकता है और बच्चों का विकास होता है. ऐसी स्थिति आपस में जुड़े हुए बच्चे पैदा होते हैं.

No comments

leave a comment