Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 20.
HomeBusiness‘कंगाल’ होता चीन! डूबने की कगार पर सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनी ‘एवरग्रांड’

‘कंगाल’ होता चीन! डूबने की कगार पर सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनी ‘एवरग्रांड’

China Evergrande Crisis
Share Now

China Evergrande Crisis: कोरोना महामारी के लिए जिम्मेदार चीन एक बार फिर दुनिया को बड़ा झटका दे सकता है। पिछले दो साल से कोरोना के कारण दुनियाभर के तमाम देशों में आर्थिक हालात बिगड़े हुए है। ऐसे अब चीन दुनिया को बड़ा आर्थिक झटका दे सकता है। चीन की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनी ‘एवरग्रांड’ (China Evergrande Crisis) डूबने के कगार पर जा पहुंची है। अगर ऐसा हो जाता है तो एक बार फिर पूरी दुनिया में वैश्विक आर्थिक मंदी देखने को मिल सकती है।

China Evergrande Crisis

चीन की केंद्रीय बैंक कर रही है बचाने की कोशिश:

चीन की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनी ‘एवरग्रांड’ डूबने के कगार पर जा पहुंची है। चीनी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस समय ‘एवरग्रांड’ पर करीब 171 घरेलू बैंकों और 121 अन्य वित्तीय कंपनियों का काफी पैसा बकाया है। पिछले साल चीन ने रियल एस्टेट डेवलपर्स पर बकाया राशि के नियंत्रण पर नए नियम लागू किए थे, उसके बाद से इतनी बड़ी कंपनी आज कंगाल होने के कगार पर खड़ी है। इसको बचाने के लिए चीन की केंद्रीय बैंक ने कई बैंको और वित्तीय कंपनियों को नकदी राशि देकर कुछ राहत देने की कोशिश की है। अब देखना बड़ा दिलचस्प होगा कि चीनी सरकार इस गहरे संकट से कैसे बच पाएगी।

China Evergrande

कंगाल होने के कगार पर खड़ी है एवरग्रांड:

एक रिपोर्ट के मुताबिक एवरग्रांड ने करीब 300 बिलियन अमेरीकी डॉलर से अधिक का उधार ले रखा है। कई बड़े देशों में इस कंपनी के शेयरधारक बताए जा रहे है। पिछले कुछ महीनों में एवरग्रांड के शेयरों की कीमतों में करीब 85 फीसदी की कमी देखी गई। जानकार इसके पीछे चीन में पिछले साल हुए बकाया राशि नियंत्रण नियम में बदलाव को मान रहे है। इससे कंपनी को अपनी संपत्तियों को बड़ी छूट के साथ बेचना पड़ा। इससे कंपनी को बड़ा घाटा उठाना पड़ा। अब एवरग्रांड कंगाल होने के कगार पर खड़ी है।

lehman brothers

साल 2008 में लीमैन ब्रदर्स हुई थी दिवालिया:

एवरग्रांड के कंगाल होने से इसका असर चीन की अर्थव्यवस्था के साथ दुनिया भर में देखने को मिल सकता है। एक बार फिर दुनिया पर वैश्विक आर्थिक मंदी का असर देखने को मिलेगा। इससे पहले साल 2008 में जब अमेरिका की बैंकिंग कंपनी लीमैन ब्रदर्स ने खुद को दिवालिया करार कर दिया था तब पुरे विश्व में आर्थिक स्थिति बिगड़ गई थी। शेयर बाजार पर भी उस समय काफी असर पड़ा था। अब एक बार फिर दुनिया पर वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंदी का असर देखा जा सकता है।

ये भी पढ़ें: RBI: भारतीय रिजर्व बैंक ने एक बार पाकिस्तान के लिए भी छापा था एक नोट

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment