Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 29.
Homeन्यूजकोरोना महामारी घोषित करने वाले दो वैज्ञानिकों ने दी एक और महामारी की चेतावनी

कोरोना महामारी घोषित करने वाले दो वैज्ञानिकों ने दी एक और महामारी की चेतावनी

Share Now

विश्व के कई देश कोरोना महामारी को हराकर कोरोना मुक्त देश बन चुके हैं, लेकिन कोरोना को महामारी घोषित करने वाले दो वैज्ञानिकों ने एक और महामारी के वैश्विक स्तर पर संक्रमण की चेतावनी दी है। चीन के वैज्ञानिक वैफ़ंग शी (Weifing Shi) और जॉर्ज फु गाओ (George F. Gao) ने अपने रिचर्च में कोरोना महामारी के बाद एक नयी महामारी का उल्लेख करते हुए वैश्विक महामारी की चेतावनी दी है और H5N8 नामक Bird Flu वायरस का वैश्विक स्तर पर संक्रमण फैलने की आशंका जताई है।  

जॉर्ज फू गाओ (George F. Gao) और वैफ़ंग शी Weifeng Shi 

जॉर्ज फू गाओ (George F. Gao), चीन के वायरोलॉजिस्ट और इम्यूनोलॉजिस्ट वैज्ञानिक हैं। वैफ़ंग शी Weifeng Shi भी उभरते संक्रामक रोगों के रिसर्चर, मानव एंटरोवायरस, विरोम और रोगज़नक़ बीमारियों के खोजकर्ता हैं। (Emerging Infectious Diseases, Human Enteroviruses, Virome and pathogen discovery) 

image credit: thetribuneindia

क्या है H5N8 नामक वायरस? (H5N8 Bird Flu Virus)

image credit: file photo

H5N8 AVIAN वायरस पक्षियों में पाया जाता है और इसकी चपेट में पोल्ट्री के पक्षी यानी की मुर्ग़ी, बतख एवं जंगली पक्षी जो स्थानांतरण करते रहते हैं, उनके द्वारा यह वायरस फैलता है। 2020 के दौरान वैश्विक स्तर पर करोड़ों पक्षियों का Bird Flu संक्रमण की वजह से क़त्ल किया गया था। जिससे कि यह वायरस मनुष्य के संक्रमण में ना आये। H5N8 वायरस स्ट्रेन हैं, जो कि H1N1 वायरस से भी ज्यादा खरतनाक है। 

चीन के ये दोनों वैज्ञानिकों ने ही साल 2019 के अंत में कोरोना वायरस का पता लगाया था अपने रिसर्च में  वैफ़ंग शी (Weifing Shi) और जॉर्ज फु गाओ (George F. Gao) दोनों ने मिलकर इस महामारी की स्पष्टता करते हुए बताया है कि ये वाईरस कोरोंना से भी भयानक तबाही मचा सकता है।

पहली बार मनुष्य में इस वायरस का प्रभाव: चीन के वैज्ञानिकों का दावा  

वैज्ञानिकों के अनुसार H5N8 वायरस अभी तक केवल पक्षियों तक ही सीमित था, लेकिन 2020 में रशिया में जब इस virus का संक्रमण फैला तब POULTRY FARM पोल्ट्री फ़ार्म में काम करने वाले 7 लोगों में इस वायरस के कण पाये गए, वैज्ञानिकों का मानना है कि ऐसा पहली बार हुआ है की मनुष्य में इस वायरस का प्रभाव देखने मिला है। 

image credit: google image

World Health Organization ने इस बात की पुष्टि की है की H5N1 वाइरस की वजह से अबतक 862 Laboratories ने मानव संक्रमण की पुष्टि की है और अभी तक इस वायरस की वजह से 455 मौतें हुयी हैं, आगे स्पष्टता करते हुए ये बताया गया की ये वायरस केवल 17 देशों में फैला और अत्याधिक असर Egypt एवं Indonesia में देखने को मिली। 

चीनी वैज्ञानिकों ने 46 देशों में H5N8 वायरस के भारी मात्रा में संक्रमण फैलने की चेतावनी दी है। दूसरी अमेरिकन वायरोलॉजिस्ट Dr. Angela Rasmussen ने ट्वीट के जरिए बताया है कि इस वायरस का नाम H5N8 flu है, जो कि पक्षियों में पाया जाता है। लेकिन उनका कहना है कि यह वायरस इंसानों के द्वारा नहीं फैलता है। इस तरह से कई देशों के वैज्ञानिक अपनी रिपोर्ट में वायरस के खतरे को अलग अलग तरह से पेश कर रही है। 

यहां पढ़ें :आइए जानते हैं, कोरोना मुक्त देशों का कौन सा मॉडल है सफल!

देश दुनिया की खबरों को देखते रहें, पढ़ते रहें.. और OTT INDIA App डाउनलोड अवश्य करें..  स्वस्थ रहें.. 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4  

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment