Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 20.
Homeन्यूजभारत में गहराया बिजली संकट, देश में सिर्फ चार दिनों का ही कोयले का स्टॉक बचा

भारत में गहराया बिजली संकट, देश में सिर्फ चार दिनों का ही कोयले का स्टॉक बचा

Coal Crisis in India
Share Now

Coal Crisis in India: देश के सामने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के बाद एक नया संकट आने वाला है। देश को अगले कुछ दिनों में बड़े बिजली संकट का सामना करना पड़ सकता है। ऐसा इसलिए माना जा रहा है क्योंकि भारत में 70 बिजली का उत्पादन कोयले से होता है। और देश के पास कोयला काफी कम मात्रा में बचा हुआ है। 135 थर्मल पावर प्लांट्स में से 72 प्लांट्स ऐसे है जहां कोयले का सिर्फ चार दिनों से कम का स्टॉक बचा हुआ है। ऐसे में आने वाले दिनों में पावर कट (Coal Crisis in India) की बड़ी परेशानी से सामना करना पड़ता दिखाई दे रहा है।

Coal Crisis in India

कहां पर कितना कोयले का स्टॉक है बचा:

बता दें कुल 135 थर्मल पावर प्लांट्स की बात करें तो 70-72 प्लांट्स ऐसे है जहां चार दिनों से कम का स्टॉक बाकी रह गया है। इसके अलावा 48-50 प्लांट्स ऐसे है जिनमे सिर्फ 5-10 दिनों तक का कोयला शेष बचा है। वहीं देश के 13 प्लांट्स ही ऐसे बचे हैं जिनमे 10 दिनों से ज्यादा समय का कोयला बचा है। इससे जाहिर हो रहा है कि 2-4 दिनों के बाद देश के ज्यादातर हिस्सों में पावर कट हो सकती है। ऊर्जा मंत्रालय के अनुसार बिजली उत्पादन केंद्रों पर कोयले का बहुत ही कम स्टॉक हो चुका है।

कोयले की अचानक इतनी कमी कैसे आई..?

अब सभी के मन में एक सवाल जरूर आ रहा होगा कि आखिर कोयले के स्टॉक में इतनी कमी के पीछे क्या वजह है। इसको लेकर ऊर्जा मंत्रालय ने बताया है कि कोयले के उत्पादन और उसके आयात में काफी दिक्कत हो रही है। इस बार काफी समय तक मानसून रहने की वजह से कोयले के उत्पादन में भारी कमी आई है। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के पास 300 अरब टन का कोयला भंडार रहता है। लेकिन फिर भी देश को बिजली के उत्पादन के लिए विदेशों से भारी मात्रा में कोयला आयात करना पड़ता है। जिसमें इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका जैसे देश प्रमुख है। विदेशी बाजार में कोयले की कीमतों में भारी उछाल आया है। विदेशी बाजार में कोयले की कीमत 60 डॉलर प्रति टन थी जो अब बढ़कर 200 डॉलर प्रति टन तक पहुंच गई है। इसके चलते भी कोयले का आयात कम हुआ है।

असदुद्दीन ओवैसी ने साधा पीएम मोदी पर निशाना:

अब इतने बड़े बिजली संकट की आशंका के बीच विपक्ष भी मोदी सरकार पर निशाना साध रहा है। AIMIM के सुप्रीमों असदुद्दीन ओवैसी ने इसको लेकर ट्वीट करते हुए पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा है। ओवैसी ने तंज कसते हुए ट्वीट में लिखा कि ”प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सक्षम और अग्रशोची नेतृत्व में कोयला बिजली स्टेशनों के पास केवल औसतन चार दिनों का कोयले का स्टॉक बचा हुआ है। यह पिछले कई सालों में अब तक का सबसे कम उपलब्ध स्टॉक है। बिजली बिल कि कीमतों में वृद्धि हो सकती है। इसके बावजूद बिजली कटौती का सामना भी करना पड़ सकता है। देश में 70 फीसदी बिजली कोयले पर ही निर्भर करती है।

ये भी पढ़ें: लखीमपुर खीरी हिंसा: अभी भी हाउस अरेस्ट में प्रियंका गांधी, कहा- किसानों से मिले बिना नहीं जाऊंगी

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment