Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / September 30.
Homeनेचर एंड वाइल्ड लाइफमेंढक को आंख क्यों नहीं, जाने आंख न होने का कारण

मेंढक को आंख क्यों नहीं, जाने आंख न होने का कारण

Marbled Globular Frog
Share Now

उभयचर जीवों की आबादी में वैश्विक स्तर पर गिर रही है, काफी वैज्ञानिक इस मुद्दे को लेकर संशोधन कर रहे है. थोड़े साल पहले की स्टडी से पता लगा की 32 प्रतिशत उभयचर की प्रजातियों में विलुप्त होने का खतरा है. जब कि 43 प्रतिशत उभयचरों की आबादी में गिरावट आई है. तब इस समय में अहमदाबाद,बनासकांठा और नेपाल के संशोधको ने हेरान करनेवाली शोध की. बनासकांठा के अरावल्ली पर्वत श्रृंखला में से अहमदाबाद विरमगांव के महेता जयदिप, नेपाल के वैज्ञानिक टिका रेजमी और बनासकांठा के फोरेस्ट अधिकारी दिनेश प्रजापतिने Marbled Globular Frog (Uperodon systoma) में Anophthalmia रिपोर्ट किया.

Marbled Globular Frog

Right-Maheta Jaydeep & Left-Dinesh Prajapati

Anophthalmia (एनोफ्थेल्मिया) जिसे आसान भाषा में आंख न होना या नेत्रहिन होना कहते है. जो (Marbled Globular Frog) मार्बल फ्रोग की प्रजाति में पहली बार मिला है. Marbled Globular Frog में मालफोर्मेशन(malformation) यानी शारीरिक कुरूपता देखने को मिलती है. 

Anophthalmia भारत के इकोसिस्टम के लिए एक खतरे का संकेत है.नेत्रहिनत्व किसी एक कारण का नहीं बल्कि पांच प्रमुख कारणों के परस्पर प्रभाव का परिणाम है. एक है वायुमंडलीय परिवर्तन, दूसरा है पर्यावरण प्रदूषण, आवास में बदलाव, विदेशी आक्रामक प्रजातियां और रोगजनक.

यहाँ भी पढ़ें : जानिए कैसे किया अरुण कुमारने खतरनार कोबरा का सामना!

हालांकि इन कारणों के परिणामस्वरूप विकासात्मक विफलता तत्काल मृत्यु का परिणाम नहीं हो सकती है. विकृति अक्सर प्रजनन विफलता की ओर ले जाती है और इसलिए इन मेंढकों की संख्या में गिरावट आती है.

(Malformations )विकृतियां अक्सर पर्यावरणीय कारकों के कारण होती हैं. जो मेंढकों के लार्वा स्टेज के दौरान उनके विकास को प्रभावित करती हैं. और विकृतियों में दुनिया भर में अलग-अलग कई कारणों है.

Marbled Globular Frog 2

first is normal and second is with Anophthalmia

इनमें से मुख्य कारणों की पहचान कि गई है वो है विदेशी प्रजातियों का आक्रमण, पर्यावरणीय दुर्दशा, UV रेडिएशन, दूषित पदार्थ और बीमारियां मुख्य कारण हो सकते है. इनमें से, हालांकि, पर्यावरणीय गिरावट और प्रदूषण कृषि क्षेत्र से आते है जो शारिरीक विकृतियों के प्रमुख प्रेरक हैं. जब बाहर के कारण मेंढक को प्रभावित करते हैं तो हार्मोनल सिस्टम को भी असर  होती हैं. और जो ऊभयचर की बोड़ी है उसमें भी खामियां आती है.

 

Marbled Globular Frog 3

यहाँ भी पढ़ें : हवा में पक्षी को पकड़ने वाली बिल्ली!

मेंढकों (anurans) में मालफोर्मेशन(malformation ) बहुत ही कोमन  है. जिसे आंख न होना और एक आंख होने से पहचाना जा सकता है.  Marbled Globular Frog (Uperodon systoma) प्रजाति के मेंढक दक्षिणी भारत,श्रीलंका,नेपाल,बांग्लादेश में देखने को मिलते है. यह मेंढक जमीन के नीचे रहते है और बारिश के मौसम में ही ब्रीडिंग के लिए बाहर आते है.  संशोधकों को यह मेंढक जयदिप महेता, टिका रेजमी और दिनेश प्रजापति को बनासकांठा के वाडुसन गांव से मिला था.  जिसमें यह नेत्रहिनता देखने को मिली.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

 

No comments

leave a comment