Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Saturday / October 16.
Homeलाइफस्टाइलपीठ दर्द को कभी ना करें इग्नोर, वरना भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम

पीठ दर्द को कभी ना करें इग्नोर, वरना भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम

back pain
Share Now

आज के समय में बदलते लाइफस्टाइल की वजह से पीठ में दर्द की समस्या बेहद आम हो चुकी है. लगभग हर दूसरा शख्स इस समस्या से परेशान है. हम में से ज्यादातर लोग पीठ दर्द को आम समझकर इग्नोर कर देते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपकी जरा सी लापरवाही आप पर बहुत भारी पड़ सकती है या ये भी हो सकता है कि आपको जिंदगीभर इस परेशानी का सामना करना पड़ें. हमारा मकसद आपको डराना बिल्कुल भी नहीं है लेकिन ये सच है.

कुछ हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो आज भी ज्यादातर लोग पीठ दर्द और फ्यूचर में होने वाले इसके गंभीर परिणामों को लेकर जागरुक नहीं है. ऐसे में आपके लिए ये जानना जरुरी है कि पीठ दर्द की समस्या शुरु कब होती है, इसके शुरु होने पर क्या करना चाहिए तो इसी तरह के तमाम सवालों के जवाब आज हम आपको इस वीडियो के जरिए देंगे. 

इस उम्र में शुरु होती है समस्या

अब सबसे पहले आपको बताते हैं कि ये परेशानी शुरु कब होती है. हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक पीठ में दर्द युवावस्था या यूं कहें कि 20 साल की उम्र के आसपास शुरु होता है. लेकिन पीठ दर्द क्यों हो रहा ये पता लगाने में करीब साढे आठ साल लग सकते हैं. अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा क्यों तो आपको बता दें कि या तो आपकी लापरवाही की वजह से हो सकता है या फिर किसी दूसरे कारण की वजह से.

समय पर इलाज जरुरी

पीठ दर्द का सही समय पर ट्रीटमेंट ना कराए जाने पर स्पाइनलकोर्ड सेल्स खराब हो जाती हैं और इसके बाद अपने डेली रूटीन के काम करने में भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है. यहां तक कि हल्का-सा झुकने जैसे मोजे वैगहरा पहनने पर भी आपको इस समस्या से दो-चार होना पड़ सकता है. लेकिन इससे भी ज्यादा सीरियस हालात में नई हड्डी भी बन सकती है. 

ये भी पढ़ें: हीमोग्लोबिन की कमी है तो हो सकते हैं आप इस बीमारी के शिकार

अब सवाल आता है कि पीठ दर्द में लापरवाही करने पर क्या नुकसान हो सकते हैं. ज्यादातर मामलों में लोगों को लगता है कि इसकी वजह से ज्यादा से ज्यादा गठिया की समस्या हो सकती है. लेकिन आपको बता दें कि अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो आपको सतर्क हो जाने की जरुरत है क्योंकि हेल्थ एक्सपर्ट्स बताते हैं कि इसके परिणाम इससे भी कही ज्यादा गंभीर हो सकते हैं. ज्यादातर लोग इसका इलाज कराने की बजाय इस दर्द को कम करने के तरीके ढूंढते हैं. ये ना सिर्फ सेल्स और बोन्स को नुकसान पहुंचाता है बल्कि मानसिक तौर पर भी प्रभावित करता है.  

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment