Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 20.
Homeन्यूजअब दुर्गम क्षेत्रों में ड्रोन से पहुंचेगी वैक्सीन, ड्रोन-आधारित वैक्सीन डिलीवरी मॉडल आई-ड्रोन का शुभारंभ

अब दुर्गम क्षेत्रों में ड्रोन से पहुंचेगी वैक्सीन, ड्रोन-आधारित वैक्सीन डिलीवरी मॉडल आई-ड्रोन का शुभारंभ

Drone Delivers Vaccine
Share Now

दुर्गम क्षेत्रों में वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित करने को लेकर आई-ड्रोन (I-Drone) का शुभारंभ किया गया है. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने सोमवार को इसका शुभारंभ किया. बता दें कि यह आईसीएमआर (ICMR) की ओर से की गई एक पहल है. बड़ी बात ये है कि साउथ ईस्ट एशिया (Southeast Asia) में ऐसा करने वाला भारत पहला देश बन गया है. 

इस अवसर पर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पीएम मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में देश काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है. आज एक ऐतिहासिक दिन है, जिसने हमें दिखाया कि कैसे टेक्नोलॉजी जीवन को न सिर्फ आसान बना रही है बल्कि सामाजिक परिवर्तन भी ला रही है.

मणिपुर में पहुंचाई गई ड्रोन से वैक्सीन

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि दक्षिण एशिया में 15 किलोमीटर की हवाई दूरी पर कोविड टीके के परिवहन (ले जाने) के लिए मेक इन इंडिया ड्रोन (Drone Delivers Vaccine) का इस्तेमाल पहली बार किया गया है. मणिपुर के बिष्णुपुर जिला अस्पताल से लोकतक झील करंग द्वीप तक 12-15 मिनट में पहुंचाए गए. इनके बीच की दूरी करीब 26 किलोमीटर है.

Drone Delivers Vaccine

Image Courtesy: Twitter.com

विकट हालात में कर सकते हैं इसका इस्तेमाल

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि भारत भौगोलिक विविधताओं का देश है. ड्रोन का इस्तेमाल (Drone Delivers Vaccine) अंतिम भूभाग तक आवश्यक वस्तुओं को पहुंचाने के लिए किया जा सकता है. ड्रोन का इस्तेमाल न सिर्फ वैक्सीन के लिए बल्कि जीवन रक्षक दवाएं पहुंचाने (Drone Delivers Vaccine) और ब्लड सैंपल को इकट्ठा करने के लिए भी कर सकते हैं. विकट परिस्थितियों में भी इसका इस्तेमाल किया जासकता है.

ये भी पढ़ें: PM मोदी के जन्मदिन पर ढाई करोड़ से ज्यादा लोगों को लगी वैक्सीन, इस राज्य ने किया टॉप

दुर्गम इलाकों में वैक्सीन पहुंचाना चुनौती का काम

जहां तक कोविड-19 टीकाकरण की बात है. यह पहले ही हमारे सारी अपेक्षाओं को पार कर चुका है, मतलब उम्मीद से ज्यादा काम हुआ है. हमें विश्वास है कि इस पहले से अन्य टीकों (Drone Delivers Vaccine) और चिकित्सा आपूर्तियों को जल्द से जल्द पहुंचाने में मदद मिलेगी. राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों में प्रभावी और सुरक्षित टीकाकरण के बावजूद भारत के कठिन और दुर्गम इलाकों में अभी भी वैक्सीन पहुंचाना एक चुनौती का काम है. ऐसे में फिलहाल ड्रोन आधारित डिलिवरी योजना को मणिपुर और नागालैंड के साथ-साथ अंडमान-निकोबार में भी शुरू करने की अनुमति दी गई है.  

Drone Delivers Vaccine

Image Courtesy: Twitter.com

केन्द्रीय मंत्री ने दी सभी को बधाई

इस आई-ड्रोन की क्षमता को लेकर आईसीएमआर ने आईआईटी कानपुर के सहयोग से एक रिसर्च की. जिसे मणिपुर, नागालैंड और अंडमान निकोबार में आयोजित किया. रिसर्च का परिणाम उम्मीद के मुताबिक रहने के बाद डीजीसीए ने इसकी इजाजत दी है. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने इस ऐतिहासिक पहल के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय, डीजीसीए और भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण के साथ-साथ आईसीएमआर और स्वास्थ्यकर्मियों को बधाई दी.   

No comments

leave a comment