Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / December 1.
HomeडिफेंसDrone Shot Down in Jammu: दुश्मन की चाल नाकाम, विस्फोटक से लैस ड्रोन को मार गिराया सेना ने

Drone Shot Down in Jammu: दुश्मन की चाल नाकाम, विस्फोटक से लैस ड्रोन को मार गिराया सेना ने

Drone Shot Down in Jammu
Share Now

जम्मू और कश्मीर में चल रहे आतंकविरोधी अभियान के बावजूद अभी भी दुश्मन बाज नहीं आ रहे है। पिछले काफी समय से जम्मू और कश्मीर में लगातार ड्रोन देखे जा रहे है। ऐसा ही एक ड्रोन जम्मू-कश्मीर के कनाचक इलाके में देखा गया था, जिसे जवानो ने मार गिराया है(Drone Shot Down in Jammu)। 

जम्मू के सीमावर्ती इलाके में दिखा ड्रोन 

घटना हुई गुरुवार रात को। जब पुलिस को हवा में दिखा एक शंकास्पद ड्रोन। जिसको देखते ही पुलिस ने उस ड्रोन पर निशाना साधा और इसको मार गिराया। जम्मू जिले के सीमावर्ती इलाके में पाया गया यह ड्रोन, 5 किलोग्राम वजनी इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) सामग्री से लैस था।

यहाँ पढ़ें : पिछले पाँच सालों से घाटी में छिपे आतंकी अबू अकरम का एनकाउंटर!

बड़ी आतंकी घटना की साजिश 

गुरुवार रात अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) के साथ कनाचक की सीमा पर एक ड्रोन के उड़ने की सूचना के बाद, पुलिस की एक त्वरित प्रतिक्रिया टीम (क्यूआरटी) हरकत में आई और ड्रोन विरोधी रणनीति का इस्तेमाल करते हुए उसे मार गिराया(Drone Shot Down in Jammu)। माना जा रहा है की यह ड्रोन भी किसी आतंकी हमले की तैयारी के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला था। लेकिन पुलिस के इस ड्रोन को मार गिराने पर एक बड़ी दुर्घटना को टाल दिया गया है। 

देखें वीडियो :परमवीर कैप्टन विक्रम बत्रा को स्पेशल ट्रिब्यूट!

ड्रोन सीमा के अंदर करीब 7 से 8 किमी अंदर उड़ रहा था। इसके छह बड़े पंख थे और यह एक टेट्रा-कॉप्टर था। पुलिस के अनुसार, आईईडी सामग्री को ड्रोन के साथ जोड़ा गया था और उपयोग से पहले इसे आईईडी में इकट्ठा किया जाना था।

Drone Shot Down in Jammu

Image : ANI

जम्मू ज़ोन के ADGP ने दी जानकारी 

इसके ऊपर जम्मू ज़ोन के ADGP मुकेश सिंह ने अपना निवेदन दिया है। उन्होने कहा, “हमने विशेष जानकारी के आधार पर अखनूर के पास टीम तैनात की थी। लगभग 1 बजे, एक ड्रोन का पता चला था। जब इसे पेलोड गिराने के लिए उतारा गया, तो पुलिस टीम ने फायरिंग शुरू कर दी और इसे नीचे गिरा दिया। लगभग 5 किलो वजन का पेलोड आईईडी लगभग तैयार स्थिति में था।”

“यह एक उड़ान नियंत्रक( flight controller) और जीपीएस से लैस एक हेक्साकॉप्टर था। दिलचस्प बात यह है कि फ्लाइट कंट्रोलर का सीरियल नंबर पिछले साल कठुआ में मिले ड्रोन से अलग है। यह ड्रोन को चीन से आए कुछ पार्ट्स और बाकी ताइवान से आए पार्ट से असेंबल करके बनाया गया है।” : एडीजीपी, जम्मू क्षेत्र

 “ड्रोन से एक स्ट्रिंग का उपयोग करके पेलोड गिराया जाता है। इस घटना में, यह पाया गया कि हवाई अड्डे पर बम क्रेटर गिराने के लिए समान पैटर्न वाले तार का उपयोग किया गया था। इससे पुष्टि होती है की उसको  ड्रोन का उपयोग करके गिराया गया था।”: मुकेश सिंह, एडीजीपी, जम्मू जोन

यहाँ पढ़ें : अब दुश्मन ड्रोन की खैर नहीं! सेना खरीदेगी 10 एंटी-ड्रोन सिस्टम

स्थापित हुए एंटी-ड्रोन सिस्टम्स 

जम्मू पुलिस ने पिछले 1.5 वर्षों में ड्रोन से भेजे गए 16 एके 47 राइफल, 3 एम 4 राइफल, 34 पिस्तौल, 15 ग्रेनेड, 18 आईईडी और 4 लाख रुपये नकद बरामद किए हैं, जिसकी जानकारी जम्मू क्षेत्र के एडीजीपी ने दी थी। जम्मू पुलिस की तरफ से कहा गया की हवाई अड्डे पर और उसके आसपास ड्रोन रोधी प्रणाली (Anti-drone system) और कुछ अन्य प्रतिष्ठान स्थापित किए गए हैं। लेकिन उनकी तरफ से इस पर अधिक जानकारी देने से माना कर दिया गया।

J&K में लगातार देखे जा रहे है ड्रोन

आपको बता दें की जम्मू में एयर फोर्स स्टेशन पर ड्रोन द्वारा हमले की घटना को एक महिना भी नहीं हुआ है की फिर से एक बार बड़ा हमला करने की संभावना थी। आर फोर्स स्टेशन पर हुए उस हमले में दो अधिकारी घायल हो गए थे। उस घटना की जांच एनआईए कर रही है। इस घटना के बाद लगातार स्थानीय लोगों और सुरक्षा अधिकारियों ने जम्मू में कई बार ड्रोन देखे जाने की सूचना दी है। 

इस बीच, जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने अधिकारियों को अतिरिक्त सतर्क रहने का निर्देश दिया है। क्योंकि आतंकी संगठन लगातार आतंकवादी गतिविधियों के लिए ड्रोन का इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहे हैं।

यहाँ पढ़ें : गुंडे को अबुधाबी से पकडने वाले जांबाज IPS Ajay Choudhary की कहानी

सेना का आतंकविरोधी ऑपरेशन जारी 

एक तरफ ड्रोन हमलो को रोकने के साथ साथ जम्मू और कश्मीर पुलिस और सेना के द्वारा आतंकी गतिविधियों को खत्म करने का ऑपरेशन भी जारी है। इस ऑपरेशन के जरिये सेना लगातार आतंकवादीओ को मार गिरा रही है। हाल ही की बात करें तो जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले के सोपोर इलाके में सुरक्षा बलों ने दो आतंकवादी मार गिराए। सोपोर के वारपोरा इलाके में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना के बाद सुरक्षा बलों ने घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया था। सुरक्षा बलों ने इस साल की शुरुआत से अब तक घाटी में 80 आतंकवादियों को मार गिराया है। 

देखें वीडियो: जानिए क्या होते है ड्रोन और कैसे इस्तेमाल होते है आतंकी हमले में? 

साथ ही में सेना के द्वारा अब एंटीड्रोन सिस्टम्स भी तैयार किए जा रहे है, जिसकी मदद से दुश्मन ड्रोन को मर गिराने में सेना को मदद मिले। J&K में चल रहे एंटीड्रोन ऑपरेशन और आतंक विरोधी अभियान से यह सेना का दुश्मनों को साफ संदेश है की अब भारत आतंक नहीं सहेगा। अब दुश्मन की हर साजिश नाकाम की जाएगी। 

अधिक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

No comments

leave a comment