Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / October 15.
Homeनेचर एंड वाइल्ड लाइफहाथियों पर चौकाने वाला अध्ययन, क्या होती है बड़ी बहन की भूमिका

हाथियों पर चौकाने वाला अध्ययन, क्या होती है बड़ी बहन की भूमिका

Elephants
Share Now

म्यानमार में एशियाई हाथियों (Elephants) पर एक संशोधन हुआ. इस अध्ययन में पाया गया कि हाथियों के बच्चों में बड़े भाइयों की तुलना में बड़ी बहनें से छोटे बच्चों को ज्यादा लाभ होता हैं. एशियाई हाथी भाई-बहन छोटे बच्चों को शुरूआती दौर काफी कठिन होता है. जो छोटे बच्चों को प्रभावित करते हैं. बड़े भाई-बहनों के साथ पलने से हाथी के बच्चों के जीवित रहने की संभावना बहुत बढ़ जाती है. छोटे बच्चों पर बड़ी बहनों का बड़े भाइयों की तुलना में अधिक प्रभाव पड़ता है.

खोज में पाया गया कि मादा हाथियों (Elephants) में बड़ी बहनों के साथ पाले जाने वालों में लंबे समय तक जीवित रहने की क्षमता बढ़ जाती हैं. शोध इस बात की पुष्टि करता है कि भाई-बहन के रिश्ते हर एक के जीवन को आकार देते हैं, विशेष रूप से हाथियों जैसे सामाजिक प्रजातियों में, जहां इनके विकास, अस्तित्व और प्रजनन के लिए सहयोगी व्यवहार आवश्यक है.

लंबे समय तक जीवित रहने वाले जानवरों में भाई-बहनों के प्रभावों के दीर्घकालिक परिणामों को समझा जाता है. इसका एक कारण यह है कि अध्ययन वाले इलाके में संसाधनों की चुनौतियों से किसी एक जानवर के पूरे जीवन काल पर पड़ने वाले प्रभावों की जांच करना मुश्किल हो जाता है.

Elephants

शोधकर्ताओं ने हाथियों (Elephants) के शरीर का वजन, प्रजनन, लिंग और हाथी के बच्चे के अस्तित्व पर बड़े भाई-बहनों की उपस्थिति और लिंग के प्रभाव को देखने के लिए अर्ध-बंदी एशियाई हाथियों के एक बड़े, लंबी-पीढ़ी के आंकड़ों का उपयोग किया. रिकॉर्ड में 1945 और 2018 के बीच पैदा हुए 2,344 बच्चों की सटीक प्रजनन और लंबी उम्र की जानकारी थी.

यहाँ भी पढ़ें : नदी जिंदा है या मुर्दा बताने वाली मछली पर अस्तित्व का संकट, क्या इंसान कुछ नहीं बचने देगा ?

अध्ययन हाथियों के एक दूसरे से जुड़ा था, भाई-बहनों मे प्रभावों के बाहर बाहरी कारकों के प्रभाव, जैसे मातृ देखभाल की गुणवत्ता और हाथियों के कार्यभार और प्रबंधन को बाहर नहीं किया जा सकता है. इस शोध परियोजना के अगले चरण में हम हाथी के जन्म के समय माताओं के शरीर के वजन पर अधिक जानकारी एकत्र करके, भाई -बहन के प्रभाव से मातृ प्रभावों को अलग करने की कोशिश करेंगे. यह अध्ययन जर्नल ऑफ एनिमल इकोलॉजी में प्रकाशित हुआ है.

यहाँ भी पढ़ें : गिद्ध अपने पैरों पर करते है पेशाब,क्या गिद्ध का यह बर्ताव बचाएगा आपकी जान

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

No comments

leave a comment