Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / June 27.
Homeभक्तिबुधवार के दिन करें भगवान गणेश के इन मंत्रों के जाप, बन सकते हैं बिगड़े काम

बुधवार के दिन करें भगवान गणेश के इन मंत्रों के जाप, बन सकते हैं बिगड़े काम

Ganesh Mantra
Share Now

हिंदू(Hindu) धर्म में अलग-अलग दिन पर भगवान के पूजा का विधान हैं, बुधवार के दिन भगवान गणेश (Lord Ganesha) को समर्पित माना जाता है. इस दिन किसी भी कार्य का श्रीगणेश करना भी शुभ माना जाता है.  इसके अलावा किसी भी कार्य का शुभारंभ भगवान गणेश की पूजा से ही की जाती है, ऐसे में बुधवार के दिन भगवान गणेश की पूजा किन मंत्रों(Ganesh Mantra) और विधि-विधान से करें कि उनकी कृपा आप पर बनी रहे, ये जानना हर भक्त के लिए जरूरी है.

हर मनोकामना पूरी करते हैं भगवान गणेश 

हर भक्त की ये चाहत होती है कि भगवान उसकी मन्नत पूरी करें, इसके लिए लोग बुधवार का व्रत भी करतें हैं, वहीं कुछ लोग गणेश जी की पूजा करते हैं. ऐसे में बुधवार के दिन अगर आप व्रत न भी करते हैं तो भगवान गणेश की पूजा जरूर करें, संभव है तो घर में प्रतिमा रख पूजा करें या फिर मंदिर जरूर जाएं. फूल, दीप, धूप और नैवेद्य से गणेश जी की पूजा करें.

Ganesh Mantra

Image Courtesy: Google.com

ये भी पढ़ें: मंगलवार के दिन व्रत रखने और इस कथा का पाठ करने से पूरी होती हैं सारी मनोकामनाएं

इन मंत्रों के जाप से प्रसन्न होते हैं भगवान गणेश 

भगवान गणेश को मोदक काफी प्रिय है, इसलिए जब भी उनकी पूजा करें तो मोदक का भोग अवश्य लगाएं, इससे गणेश जी प्रसन्न होते हैं. विधि-विधान से पूजा करने के बाद ऊं गं गणपतये नम:, ऊं ग्लौं गं गणपतये नम: और ऊं गणेश महालक्ष्मयै नम: जैसे मंत्रों का जाप करने से भगवान भक्त की हर मनोकामना पूरी करते हैं.इन मंत्रों के अलावा ये दो मंत्र(Ganesh Mantra) भी भगवान गणेश की पूजा में काफी प्रभावकारी माने जाते हैं.

गजाननं भूतगणाधिसेवितं कपित्थजम्बूफलचारूभक्षणम

उमासुत शोकविनाशकारकम नमामि विघ्नेश्वरपादपंङजम

अर्थात- हे हाथी के मुख वाले, भूत गणों के द्वारा सेवित कपित्था और जम्बू (जामुन) फल का भोग ग्रहण करने वाले, मां पार्वती के पुत्र, आप समस्त दुखों का विनाश करते हैं. ऐसे कमल के समान चरण वाले भगवान गणेश को मैं नमन करता हूं.

सुमुखश्चैकदन्तश्च कपिलो गजकर्णक:

लम्बोदरश्च विकटो विघ्ननाशो विनायक:

धूम्रकेतुर्गणाध्यक्षो भालचंद्रो गजानन:

द्वादैशातानि नामानि य: पठेच्छृणुयादपि

विद्यारम्भे विवाहे च प्रवेशे निर्गमे तथा

संग्रामे संकटे चैव विघ्नसतस्या न जायते

उपरोक्त मंत्र(Ganesh Mantra) भगवान गणेश के बारह नामों- सुमुख, एकदंत, कपिल, गजकर्णक, लम्बोदर, विकट, विघ्ननाशक, विनायक, ध्रूमकेतु, गणाध्यक्ष, भालचंद्र और गजानन. इन मंत्रों के जाप से भगवान गणेश भक्त की हर मनोकामना पूरी करते हैं.

No comments

leave a comment