Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / January 17.
Homeन्यूजयूपी को आज फिर बड़ी सौगात देंगे पीएम मोदी, गंगा एक्सप्रेस-वे की रखेंगे आधारशिला

यूपी को आज फिर बड़ी सौगात देंगे पीएम मोदी, गंगा एक्सप्रेस-वे की रखेंगे आधारशिला

Ganga Expressway
Share Now

Ganga Expressway: पिछले कुछ दिनों में पीएम मोदी ने उत्तरप्रदेश के लोगों कई सौगात दी है। शनिवार को एक बार फिर यूपी की जनता के लिए पीएम मोदी एक बड़ी सौगात की आधारशिला रखेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में करीब 600 किमी लंबे गंगा एक्सप्रेस-वे के पहले चरण की आधारशिला (Ganga Expressway) रखेंगे। यह उत्तरप्रदेश का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे होगा। पहले चरण में इसकी शुरुआत मेरठ के बिजौली गांव के पास होकर प्रयागराज के जुदापुर दांडू गांव तक बनेगा। इसके अगले चरण में दिल्ली बॉर्डर से बलिया तक 1020 किलोमीटर का एक्सप्रेस-वे प्रस्तावित है।

यूपी के 12 जिलों को जोड़ेगा ये एक्सप्रेस-वे:

बता दें इस एक्सप्रेस-वे को दो चरणों में पूरा किया जाएगा। इसकी कुल लंबाई 1000 किमी से ज्यादा होगी। जो पूर्वी यूपी से पश्चिम यूपी को जोड़ेगा। यह प्रदेश के 12 जिलों से होकर गुजरेगा। इसमें मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अमरोहा, संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ और प्रयागराज से होकर गुजरेगा। इस एक्सप्रेस-वे के लिए जरूरी 518 ग्राम पंचायतों के 7368 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण का करीब 96 फीसदी काम पूरा हो चुका है।

36,000 करोड़ रुपये से अधिक की आएगी लागत:

बता दें यूपी के सबसे हाईटेक एक्सप्रेस-वे की आधारशिला पीएम मोदी आज रखेंगे। यह देश के सबसे बड़े एक्सप्रेस-वे में शामिल हो जाएगा। विकास और आर्थिक को संतुलन और रोजगार के अवसर पैदा करने की दृष्टि से गंगा एक्सप्रेस-वे को ऐतिहासिक बताया जा रहा है। इसको बनाने में करीब 36,000 करोड़ रुपये से अधिक का खर्चा आएगा। गंगा एक्सप्रेस-वे पर हवाई पट्टी भी बनाई जाएगी जो वायु सेना के विमानों को आपातकालीन उड़ान भरने के काम आएगी। इसके साथ ट्रॉमा सेंटर बनाना भी प्रस्तावित है।

मायावती ने 2007 में की थी इसकी कल्पना:

बता दें मायावती जब प्रदेश की मुख्यमंत्री थी तब उन्होंने 1047 किमी लंबाई वाले गंगा एक्सप्रेस-वे की कल्पना की थी, जिसको बनाने की तैयारी भी की गई थी, लेकिन एक एनजीओ ने प्रोजेक्ट के अलाइनमेंट को इलाहाबाद हाईकोर्ट में चुनौती दे दी थी। जिसके बाद कोर्ट ने इस प्रोजेक्ट को खारिज कर दिया था। उस समय कोर्ट ने इसको पर्यावरण संरक्षण कानून के प्रावधानों के खिलाफ बताया था। लेकिन इस बार इसका निर्माण गंगा के किनारों से 10 किमी दूर प्रस्तावित है।

ये भी पढ़ें: डॉक्टरों का चमत्कार! मरीज की किडनी से एक-दो नहीं बल्कि निकाले 156 स्टोन

ऐसी ही अपडेट्स  के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

No comments

leave a comment