Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / October 25.
Homeट्रैवेलसह्याद्रि की सौगाद : डांग, गिरा का नाद करता है आपको याद

सह्याद्रि की सौगाद : डांग, गिरा का नाद करता है आपको याद

Gira Waterfall
Share Now

सह्याद्रि का नाम हजारों बार सुना होगा. सह्याद्रि का अर्थ होता है, भला करनेवाले पर्वत. और इन्हीं पर्वतों से घिरा हैं डांग. अपने कुदरती सौंदर्य से जाना जाता है गिरा धोध (Gira Waterfall). सह्याद्रि के पर्वतों में गूंथा हुआ और वन की बेशुमार सुंदरता देखने से लगता है कि कुदरत ने सारा सौंदर्य डांग को ही दिया हैं. यहां पर पर्वत से घाटियों में वहते झरने मनमोहक लगते हैं. डांग में छोटे-बड़े धोध मिलाकर कुल 50 जितने धोध हैं, जिसमें गिरा पर्यटकों का प्रेम हैं.

gira-waterfall

(Gira Waterfall) गिरा वाटरफॉल वघई से सिर्फ 4 किलोमीटर दूर है. वघई से सापुतारा की तरफ जाते हुए रास्तें में 2 किलोमीटर आगे जाने के बाद, गिरा धोध जाने का रास्ता पड़ता है. इसी रास्तें 2 किलोमीटर आगे जाते ही अंबिका नदी के किनारे पहुंच जाते है. किनारे से ही धोध के दर्शन हो जाते है.  सिर्फ पांच मिनिट चलने से रेत और पत्थर वाले किनारे से होते हुए आप गिरा धोध के बिलकुल सामने पहुंच जाते हैं. यहां के बड़े बड़े पत्थर पर खड़े होकर आप वाटरफॉल का कर्णप्रिय आवाज सुन सकते है.

Gira Waterfall

वघई के आंबापाड़ा के पास आए हुए इस विशालकाय धोध का नाम पड़ने के पीछे एक अनूठा कारण है. धोध का नाम नदी पर से रखा गया है. महाराष्ट्र के जंगल और पर्वतों को चीरती गिरा नदी डांग तक पहुंचती हैं. आंबापाड़ा के पास नदी एक ऊंचे खड़क से अंबिका नदी में गिरती है. और इसी के कारण इस धोध का नाम गिरा रखा गया.  

इसके पानी को धोध के रूप में गिरने से रोकने के लिए एक चेक डैम भी बनाया गया है. बारिश के दौरान नदी में पानी की मात्रा बढ़ जाती है और चेक डैम ओवरफ्लो होकर गिरा नदी में झरने के रूप में अंबिका नदी में गिर जाती है. यहां से अंबिका नदी कई छोटी और बड़ी नदियों को अपने आगोस में लेती बिलिमोरा के पास अरब सागर से मिलती है.

Gira-Waterfalls

Image-Gujarat Tourism

बारिश के मौसम में ऐसा लगता है कि प्रकृति यहां पर ही रहती हैं. धोध के आसपास हरएक जगह पर कुदरत का सौंदर्य झलकता दिखाई देता है. ऐसा नजारा होता है मानो डांग की धरती ने एक हरी चादर होती ओढी हो. धोध के पास विविध जीवसृष्टि दिखाई देती है.

यहाँ भी पढ़ें : नदी जिंदा है या मुर्दा बताने वाली मछली पर अस्तित्व का संकट, क्या इंसान कुछ नहीं बचने देगा ?

झरने के पास जाने कि परमिशन नहीं है. क्योंकि यहां पर काफी लोग डूबकर मर चुके है. इसलिए एक बड़ी रस्सी बांधकर रखी गई है. जिससे लोग आगे न जाए. हरएक प्रवासी की तमन्ना रहती है कि वो गिरा धोध के दर्शन करे. और अपनी यादें दोस्तों के साथ शेर करे.

यहाँ भी पढ़ें : गिद्ध अपने पैरों पर करते है पेशाब,क्या गिद्ध का यह बर्ताव बचाएगा आपकी जान

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

No comments

leave a comment