Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / December 6.
HomeडिफेंसGoa Maritime Conclave का तीसरा संस्करण आज से शुरू, समुद्री सुरक्षा चुनौतियों पर होगी चर्चा

Goa Maritime Conclave का तीसरा संस्करण आज से शुरू, समुद्री सुरक्षा चुनौतियों पर होगी चर्चा

Goa Maritime Conclaver
Share Now

PIB: समुद्री सुरक्षा की चुनौतियों से निपटने और समुद्री सुरक्षा को लेकर ज्ञान विकसित करने के उद्देश्य से शुरू होने वाला गोवा मैरीटाइम कॉन्क्लेव (Goa Maritime Conclave) आज से शुरू हो रहा है. यह गोवा समुद्री संगोष्ठी का यह तीसरा संस्करण है, जो 7 से 9 नवंबर तक आयोजित किया जाए. बता दें कि यह भारतीय नौसेना (Indian Navy) की आउटरीच पहल है.

इस बार इस विषय पर होगी चर्चा

इस बार जीएमसी के इस संस्करण का विषय “मेरीटाइम सिक्योरिटी एंड इमर्जिंग नॉन ट्रेडिशनल थ्रैट्स: ए केस फ़ॉर प्रोएक्टिव रोल फ़ॉर आईओआर नेवीज़” है. जिसे समुद्री क्षेत्र में ‘हर रोज़ शांति’ की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है.

नौसेनाध्यक्ष एडमिरल करमबीर सिंह करेंगे मेजबानी

जीएमसी-21 में भारतीय नौसेना के नौसेनाध्यक्ष, एडमिरल करमबीर सिंह, बांग्लादेश, कोमोरोस, इंडोनेशिया, मेडागास्कर, मलेशिया, मालदीव, मॉरीशस, म्यांमार, सेशेल्स, सिंगापुर, श्रीलंका और थाईलैंड समेत हिंद महासागर के 12 समुद्री देशों से नौसेना प्रमुखों/ समुद्री बलों के प्रमुखों की मेजबानी करेंगे. रक्षा सचिव और विदेश सचिव जीएमसी-21 के कॉन्क्लेव में उद्बोधन और मुख्य भाषण देंगे.

समुद्री सुरक्षा चुनौतियों से निपटना लक्ष्य

जीएमसी (GMC) का लक्ष्य हिंद महासागर क्षेत्र के 21वीं सदी के रणनीतिक परिदृश्य का फोकस बनने के साथ ही क्षेत्रीय हितधारकों को एक साथ लाना और समकालीन समुद्री सुरक्षा चुनौतियों से निपटने में सहयोगी कार्यान्वयन रणनीतियों पर विचार-विमर्श करना है.

Goa Maritime Conclave

Image Courtesy: Google.com

तीन सत्रों में इन मुद्दों पर होगी चर्चा

तीन सत्रों में – उभरते गैर-पारंपरिक खतरों का मुकाबला करने के लिए सामूहिक समुद्री दक्षताओं का लाभ उठाना, समुद्री कानून प्रवर्तन के लिए क्षेत्रीय सहयोग को मजबूत करना और बाहर के क्षेत्रों में उभरते गैर पारंपरिक खतरों को कम करने के लिए अनिवार्यताएं जैसे विषयों पर चर्चा होगी. इसके अलावा हाइड्रोग्राफी और समुद्री सूचना साझा करने के क्षेत्र में भी व्यापक विचार-विमर्श होगा.

ये भी पढ़ें: Make in India: भारतीय सेना की ताकत को बढ़ावा, डोर्नियर विमानों को किया जाएगा अपडेट

मेक इन इंडिया की झलक

इस संगोष्ठी (Goa Maritime Conclave) में भाग लेने वाले नौसेना प्रमुख/ समुद्री एजेंसियों के प्रमुख हिंद महासागर क्षेत्र में उभरती और भविष्य की समुद्री सुरक्षा चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के विषय पर भी ध्यान केन्द्रित करेंगे. खास बात ये है कि कॉन्क्लेव के अंतर्गत आगंतुकों को ‘मेक इन इंडिया प्रदर्शनी’ में भारत के स्वदेशी जहाज निर्माण उद्योग और मारमुगाओ पोर्ट ट्रस्ट, गोवा में पनडुब्बियों के लिए डीप सबमर्जेंस रेस्क्यू वेसल (डीएसआरवी) की क्षमताओं को देखने का अवसर भी दिया जाएगा.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment