Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / December 2.
Homeहेल्थबकरी का दूध डेंगू बुखार में बना संजीवनी! ऐसा कौनसा चमत्कारिक गुण है इसमें विद्यमान, जानिए..

बकरी का दूध डेंगू बुखार में बना संजीवनी! ऐसा कौनसा चमत्कारिक गुण है इसमें विद्यमान, जानिए..

Goat Milk Benefits
Share Now

Goat Milk Benefits: इन दिनों देश के ज्यादातर राज्यों में डेंगू बुखार का कहर देखने को मिल रहा है। कोरोना के बाद डेंगू बुखार भी जानलेवा साबित हो रही है। लेकिन डेंगू बुखार का उपचार आसानी से मिल रहा है। डेंगू बुखार के मरीज की प्लेटलेट्स काफी तेज़ी से कम हो जाती है। आमतौर पर शरीर में 1.5 लाख से लेकर 4 लाख तक प्लेटलेट्स होते हैं। लेकिन डेंगू बुखार के बाद ये प्लेटलेट्स 50 हज़ार से नीचे तक चली जाती है जो किसी बड़े खतरे से कम नहीं होती है।

बकरी का दूध (Goat Milk Benefits) डेंगू बुखार में बना संजीवनी!

बता दें बुखार में शरीर की प्लेटलेट्स काफी तेजी से गिरती हैं। डेंगू बुखार मच्छरों के काटने से होती है। डेंगू होने के बाद रोगी के जोड़ों में तेज दर्द, चक्कर आना, तेज़ बुखार आदि मुख्य लक्षण है। जिसको डेंगू होता है उस मरीज की प्लेटलेट्स काफी तेजी से गिरती हैं। कई रिपोर्ट्स में सामने आया है कि बकरी के दूध में एक ऐसा पदार्थ पाया जाता है जिसका नाम है सेलेनियम। सेलेनियम से डेंगू मरीज को काफी फायदा पहुंचता है। वैसे सेलेनियम नामक यह पदार्थ गाय के दूध में भी होता है, लेकिन बकरी के दूध में अधिक मात्रा होती है।

इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं!

बता दें डेंगू बुखार में लोग अपने मन से भी इसका सेवन कर रहे है। गाय और बकरी का दूध लगभग समान रूप से पौष्टिक होता है। तो जरुरी नहीं है कि आपको बकरी दूध नहीं मिल रहा तो आप परेशान हो, गाय के दूध में भी वो सारे पौष्टिक तत्व मौजूद है। इसके अलावा नारियल का पानी, अनार, गिलॉय, कीवी और पपीते के पत्ते भी नीम हकीम इस बीमारी में ठीक होने में सहायक बता रहे है।

बकरी के दूध की अचानक बढ़ी डिमांड:

बकरी के दूध से डेंगू के ठीक होने की भ्रांति फैलने से बाजार और ग्रामीण इलाकों में बकरी के दूध की डिमांड काफी बढ़ गई है। जब डेंगू के केस बढ़ते हैं, तब बकरी के दूध की भी डिमांड भी बढ़ जाती है।बकरी के दूध में फैट, प्रोटीन, लैक्टोज, मिनरल और विटामिन होता है, जिस वजह से यह आपकी हेल्थ के लिए काफी फायदेमंद होता है। लेकिन डेंगू के मरीज को डॉक्टरों से परामर्श लेना चाहिए और दवाओं के निर्धारित पाठ्यक्रम का पालन करना चाहिए।

इसे भी पढ़े: कम उम्र में सफेद बालों की समस्या से हैं परेशान? तो अपनाएं ये अचूक उपाय..

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

(Disclaimer: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. OTT India इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है)

No comments

leave a comment