Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 5.
Homeनेचर एंड वाइल्ड लाइफपानी में दौडती छिपकली,नाम है ईसा मसीह छिपकली

पानी में दौडती छिपकली,नाम है ईसा मसीह छिपकली

green basilisk lizard
Share Now

सुना होगा ईसा मसीह पानी पर चले थे. आपसे कहा जाए के एक छिपकली पानी पर चल सकती है. आप सोचतें होगें यह तो असंभव है, किंतु ये संभव है. प्रकृति के अनेक अजूबों में से एक अजूबा यानी यीशु छिपकली(green basilisk lizard).

ज्यादातर (green basilisk lizard) बेसिलिस्क भूरे और क्रीम रंग के होते हैं. इनमें नर प्रजाति के सिर ऊंचे होते है. तो साथ मे सिर पर कलगी होती हैं. इनके ऊपरी होंठ पर एक सफेद या पीले रंग की लकीरे होती है.  शरीर के दोनों तरफ एक लकीर होती है. ये लकीरें उनकी उम्र बढ़ने के साथ-साथ फीकी पड़ती रहती है.

यहाँ भी पढ़ें : गिरि की गेको: देश की सबसे खूबसूरत छिपकली

Green basilisk lizard के नवजात शीशु का वजन मात्र 2 ग्राम और लम्बाई 1.5 से 1.7 इंच होती है. इसके साथ वयस्क 2.5 फीट की कुल लंबाई (पूंछ सहित) तक बढ़ सकते हैं. green basilisk मादा का वजन 135 से 194 ग्राम होता है. जो पुरुषों के वजन के मुकाबले लगभग आधा होता है.

सामान्य बेसिलिस्क की पुंछ की लंबाई उसके शरीर की लंबाई से 70 से 75% होती है. उदाहरण के लिए, एक  बेसिलिस्क की लंबाई 70 सेमी है तो उसकी पुंछ की लंबाई 50 सेमी लंबी होगी.

Green basilisk lizard का मुंह बड़ा होता है. जिसके जबड़े के अंदरूनी हिस्से पर नुकीले दांत होते हैं. यह छिपकली 11 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने की क्षमता रखती हैं. इनका औसत जीवन काल सात वर्ष का होता है. इनमें केवल पानी में चलने की क्षमता नहीं बल्कि ये एक उत्कृष्ट पर्वतारोही के साथ-साथ अच्छे तैराक भी होती हैं.  

green basilisk lizard पानी के नीचे आधे घंटे तक रह सकती हैं. शिकारियों से बचने के लिए, निकटतम पानी की तरफ तेज गति से भागती है. यह छिपकली केवल अपने पीछे के पैरों का उपयोग कर खड़ी होकर में पानी की सतह पर भागती है. पानी की सतह में इसलिए भाग लेते हैं क्योंकि इनके पैर बड़े होते हैं.  पैर की उंगलियाँ के बीच त्वचा होती हैं. जो एक प्रकार से पंजों को वेब्ड बनाती है. जो पैरों को पानी पर ज्यादा समय तक टिकाए रखते है.

बेसिलिस्क छिपकली तीन चरणों में पानी में दौड़ती हैं. स्लेप, स्ट्रोक और रिकवरी. स्लेप के दौरान पैर मुख्य रूप से लंबवत नीचे की तरफ बढ़ती है. वहीं स्ट्रोक के दौरान पैर मुख्य रूप से पीछे की तरफ करती है. रिकवरी के दौरान पैर पानी से ऊपर और बाहर निकालती है. बेसिलिस्क द्वारा पानी में चलने के लिए इन चरणों को दुबारा दौहराया जाता है. जिससे वो पानी में दौड सकती है.

बेसिलिस्क छिपकली इतनी तेज दौड़ती हैं कि वह डूबने से पहले पानी की एक सतह को पार कर लेती हैं. पानी पर 24.1 किमी प्रति घंटे की औसत गति से चलती हैं. यह छिपकली पानी के करीब शिकारियों से बचने के लिए रहती हैं, लेकिन आवश्यकता पड़ने पर ही पानी में जाती हैं. जल के शिकारी भी इनका शिकार कर लेते है.

यहाँ भी पढ़ें : आज़ाद भारत में विलुप्त होते घोराड(गोडावण) को कौन बचायेगा ?

यह एक सर्वाहारी छिपकली होती है. आमतौर पर कीड़े खाते हैं, उदाहरण के लिए, बीटल,पतंगे और फूल मादा बेसिलिस्क एक वर्ष में 10-20 अंडे देती है, और अंडे देने के बाद वे अंडो को स्वयं फूटने के लिए छोड़ देती है. इन अंडों से लगभग तीन महीने बाद नवजात बाहर आ जाते हैं. इन नवजातों में पैदा होते ही दौड़ने (जमीन और पानी पर), चढ़ने और तैरने की क्षमता होती है. साथ ही स्थिर अवस्था में उनकी उत्कृष्ट छलावरण की शक्ति उन्हें छिपने में मदद करती है.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment