Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Saturday / January 22.
Homeन्यूजCBSE की परीक्षा में पूछे सवाल- साल 2002 में किसकी सरकार में गुजरात में मुस्लिमों विरोधी हिंसा हुई

CBSE की परीक्षा में पूछे सवाल- साल 2002 में किसकी सरकार में गुजरात में मुस्लिमों विरोधी हिंसा हुई

Gujarat Riots CBSE
Share Now

परीक्षा में सवाल पूछे जाने पर सवाल उठने के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. सवाल इस बात का है कि आखिर ऐसे सवालों से बोर्ड क्या साबित करना चाहता है. इन दिनों सीबीसएई(CBSE) 12वीं की परीक्षा चल रही है तो उसमें बोर्ड ने एक ऐसा सवाल पूछ लिया कि विवाद खड़ा हो गया. बोर्ड ने साल 2002 के गुजरात दंगे(Gujarat Riots) का जिक्र करते हुए सवाल पूछा है.

जिम्मेदारों के खिलाफ होगी कार्रवाई

12वीं कक्षा की समाजशास्त्र की परीक्षा में सीबीएसई ने पूछा कि किस सरकार में साल 2002 में गुजरात में मुस्लिम विरोधी हिंसा(Anti-Muslim Violence) हुई, इसके चार ऑप्शन दिए थे. जिसमें बीजेपी, कांग्रेस, डेमोक्रेटिक और रिपब्लिक का जिक्र था. अब सीबीएसई ने इसे लेकर दो ट्वीट किए हैं. जिसमें लिखा है कि प्रश्न पत्र तैयार करने को लेकर बाहरी विशेषज्ञों के लिए जो दिशानिर्देश बने हैं, यह उसका उल्लंघन है. सीबीएसई ने इस प्रश्न को अनुचित माना है.

केवल एकेडमिक होने चाहिए प्रश्न

सीबीएसई(CBSE) ने लिखा है कि इस गलती को स्वीकार करते हुए, जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी. पेपर सेट करने वालों के लिए सीबीएसई के दिशानिर्देश ये स्पष्ट रूप से बताते हैं कि कोई भी ऐसा प्रश्न न हो उससे सामाजिक और राजनीतिक आधार पर लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाए. प्रश्न केवल एकेडमिक होने चाहिए. प्रश्न पूरी तरह से धर्म और वर्ग से तटस्थ होने चाहिए.

ये भी पढ़ें: CM भूपेश बघेल के पिता पर होगी कार्रवाई, ब्राह्मणों पर थी विवादित टिप्पणी

पहले भी पूछे जाते रहे हैं विवादित सवाल

बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब किसी परीक्षा में इस तरह के सवाल पूछे गए हों. जबकि हाल ही में पश्चिम बंगाल लोक सेवा आयोग की परीक्षा में सावरकर से जुड़ा विवादित सवाल पूछा गया था. जिसमें लिखा था कि किस क्रांतिकारी नेता ने जेल से दया याचिका दाखिल थी, जिसमें वीडी सावरकर, बाल गंगाधर तिलक, सुखदेव थापर और चंद्रशेखर आजाद का नाम विकल्प के रूप में मौजूद था. इसके अलावा और भी कई परीक्षाओं में ऐसे सवाल पूछे जाते रहे हैं.

No comments

leave a comment