Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / September 30.
Homeन्यूजGuru Purnima 2021 Date: इस बार गुरु पूर्णिमा पर बन रहा है ये खास योग, जानिए

Guru Purnima 2021 Date: इस बार गुरु पूर्णिमा पर बन रहा है ये खास योग, जानिए

Guru Purnima 2021 Date
Share Now

Guru Purnima 2021 Date: हर साल आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा रूप में मनाया जाता हैं। इस साल आषाढ़ पूर्णिमा यानी गुरु पूर्णिमा शनिवार 24 जुलाई (Guru Purnima 2021 Date) को है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन चारों वेदों की रचना करने वाले महर्षि वेद व्यास का जन्म हुआ था। इस दिन गुरु की पूजा करने की परंपरा काफी सालों से चलती आ रही है। आषाढ़ पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु की पूजा और व्रत रखने का एक बड़ा खास महत्व बताया गया है।

guru purnima

गुरु पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त:

हिंदू पंचांग के मुताबिक आषाढ़ मास की पूर्णिमा 23 जुलाई को सुबह 10 बजकर 43 मिनट से शुरू होगी, जो अगले दिन 24 जुलाई की सुबह 08 बजकर 06 मिनट तक रहेगी। उदया तिथि में पूर्णिमा मनाए जाने के कारण यह 24 जुलाई, शनिवार को मनाई जाएगी। इस लिए लोग किसी तरह संशय ना रखें और 24 जुलाई को गुरु पूर्णिमा मनाए।

guru

सर्वार्थ सिद्धि और प्रीति योग योग का संयोग:

इस बार कई सालों बाद इस दिन काफी लाभदायक योग बन रहे है। सर्वार्थ सिद्धि और प्रीति योग योग का संयोग काफी सालों बाद बन रहा है। सुबह 6 बजकर 12 मिनट से प्रीति योग लगेगा और दोपहर 12 बजकर 40 मिनट सर्वार्थ सिद्धि योग होगा। किसी भी नए कारोयों की शुरुआत के लिए ये दोनों योग काफी ख़ास माने जाते है।

देखे वीडियो: जनेऊ का क्या है महत्व ?

गुरु पूर्णिमा का महत्व:

सभी धर्मों में गुरु का स्थान सर्वोच्च माना गया है। कई पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, महाभारत के रचयिता महान ऋषि वेद व्यास जी का जन्म गुरु पूर्णिमा के दिन ही हुआ था, यही कारण है कि गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है। इस दिन लोग ऋषि वेद व्यास जी की पूजा के साथ ही अपने गुरु, इष्ट और आराध्य देवताओं की पूजा करते हुए, उनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। ये पर्व एक परंपरा के रूप में गुरुकुल काल से ही मनाया जाता रहा है।

vyaas purnima

गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है:

गुरु पूर्णिमा के दिन महर्षि व्यास का जन्म हुआ था तो इसे व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। हिंदू धर्म में कुल पुराणों की संख्या 18 है। इन सभी के रचयिता महर्षि वेदव्यास हैं। गुरु का स्थान ईश्वर के समान बताया गया है, क्योंकि वह गुरु ही होता है जो व्यक्ति के ज्ञान में वृद्धि करता है। गुरु द्वारा दिखाए गए मार्ग और ज्ञान से ही व्यक्ति समय-समय पर अपने जीवन में आ रहे हर अंधकार को दूर कर सफलता की सीढ़ी चढ़ता है।

यहाँ पढ़ें : ऋषिकेश का यह मंदिर, बद्रीनाथ और केदारनाथ झांकी के दर्शन समान क्यूँ है?

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं। OTT India इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment