Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Saturday / October 16.
Homeन्यूजHappy Gandhi Jayanti 2021: गांधी जी के जीवन से जुड़ी ये रोचक बातें शायद ही जानते होंगे आप

Happy Gandhi Jayanti 2021: गांधी जी के जीवन से जुड़ी ये रोचक बातें शायद ही जानते होंगे आप

happy Gandhi Jayanti 2021
Share Now

Happy Gandhi Jayanti 2021: इस वर्ष हम महात्मा गांधी का 152वां जन्मदिन मना रहे हैं। भारत के राष्ट्रपिता के नाम से जाने गए महात्मा गांधी ने अपना संपूर्ण जीवन देश के नाम किया। शांति का प्रतीक माने जाने वाले बापू ने हमारे देश को अंग्रेजों से स्वतंत्र कराने में बेहद अहम भूमिका निभाई थी। 2 अक्टूबर यानी महात्मा गांधी का जन्मदिन, इस दिन को जहां पूरे देश में गांधी जयंती (Happy Gandhi Jayanti 2021) के रूप में मनाया जाता है, तो वहीं विश्व भर में इस दिन को ‘इंटरनेशनल डे ऑफ नॉन वायलेंस’ यानी अंतर्राष्ट्रीय अंहिसा दिवस के नाम से जाना जाता है। चलिए जानते हैं महात्मा गांधी से जुड़ी कुछ ऐसी रोचक बातें जो बहुत कम लोग जानते हैं।

गांधी जी का जीवन परिचय:

अगर बात करें गांधी जी के जीवन परिचय की तो इनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। उनके पिता का नाम करमचंद गांधी और मां का नाम पुतलीबाई था। मां पुतलीबाई के एक धार्मिक महिला होने के कारण महात्मा गांधी वैष्णव मत और जैन धर्म से प्रभावित रहा। इन्ही प्रभावों के चलते उन्होंने अहिंसा, शाकाहार, आत्मशुद्धि जैसे मार्गों को चुना। स्कूल में पढ़ने वाले गांधीजी मात्र 13 साल के थे जब कस्तूरबा से उनका विवाह हो गया। स्कूली शिक्षा होने के बाद वे मुंबई में पढ़े और फिर आगे की पढ़ाई के लिए लंदन चले गए।

12 देशों और 4 महाद्वीपों पर कराए आंदोलन:

महात्मा गांधी हमेशा न्याय के पक्ष में अपना मत रखते आए थे। उन्होंने ना सिर्फ भारत में बल्कि 12 अन्य देशों में जन आंदोलन किए। इसके साथ उन्होंने 4 महाद्वीपों पर भी आंदोलन कर जनता को अपना अधिकार दिलाया।

नोबेल पुरस्कार के लिए 5 बार नामांकित:

विश्व विख्यात नोबेल शांति पुरस्कार के लिए महात्मा गांधी को 5 बार नामांकित किया गया। किंतु एक भी बार उन्हेंं इस पुरस्कार से सम्मानित नहीं किया गया।

अंतिम संस्कार में लग गई थी 8 किलोमीटर लंबी लाइन:

गांधी जी की कितनी लोकप्रियता थी इसका अंदाजा उनकी अंतिम यात्रा में भी देखने को मिला था। 31 जनवरी 1948 जब महात्मा गांधी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उसके बाद उनकी अंतिम यात्रा में लाखों की तादाद में भीड़ उमड़ पड़ी थी और बताया जाता है कि उनकी अंतिम संस्कार में 8 किलोमीटर लंबी लाइन लग गई थी। ग्रेट ब्रिटेन जिसके खिलाफ महात्मा गांधी ने आंदोलन किए और उन्हें हमारे देश से बाहर का रास्ता दिखाया। उन्होंने भी महात्मा गांधी की मृत्यु के 21 साल बाद उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए उनकी एक डाक टिकट जारी की।

चैपलिन, हिटलर और आइंस्टाइन जैसे नामचीन लोग भी थे प्रभावित:

महात्मा गांधी ने जब संचार करने का एकमात्र साधन पत्र था तब पत्रों के माध्यम से कई नामचीन लोगों से बात की थी। जिनमें चार्ली चैपलिन, एडोल्फ हिटलर, टॉलस्टॉय और साइंटिस्ट अल्बर्ट आइंस्टाइन जैसे नाम शामिल है।

कई बड़े आंदोलन की रखी थी नींव:

फरवरी 1919 में पहली बार गांधी जी ने अंग्रेजों के रॉलेट एक्ट के खिलाफ आवाज उठाई। उन्होंने सत्याग्रह आंदोलन की घोषणा कर अंग्रेजों में अपना डर बनाया। इस आंदोलन के सफलता के बाद उन्होंने ‘असहयोग आंदोलन’, ‘नागरिक अवज्ञा आंदोलन’, ‘दांडी यात्रा’ और ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ जैसे कई अहम जन आंदोलनों की शुरुआत की।

ये भी पढ़ें: Pandit Deendayal Upadhyaya की जयंती पर जानिए उनके जीवन और संघर्षों से जुड़ी कहानी

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment