Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / October 15.
Homeभक्तिनवरात्रि विशेष: हरसिद्धि शक्तिपीठ का क्यों है खास महत्व, जानिए मंदिर का इतिहास

नवरात्रि विशेष: हरसिद्धि शक्तिपीठ का क्यों है खास महत्व, जानिए मंदिर का इतिहास

Harsiddhi Mandir
Share Now

बात की जाएं उज्जैनी शक्तिपीठ की तो हिन्दू धर्म के पुराणों के अनुसार जहां-जहां सती के अंग के टुकड़े, धारण किए वस्त्र या आभूषण गिरे, वहां-वहां शक्तिपीठ अस्तित्व में आये। ये अत्यंत पावन तीर्थस्थान कहलाये। ये तीर्थ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर फैले हुए हैं।

देवीपुराण में 51 शक्तिपीठों का वर्णन है। भूत-भावना महाकालेश्वर की क्रीड़ा-स्थली ‘अवंतिका’ (उज्जैन) पावन शिप्रा के दोनों तटों पर स्थित है। यहीं पार्वती हरसिद्धि देवी का मंदिर शक्तिपीठ, रुद्रसागर या रुद्र सरोवर नाम से तालाब के निकट है। उज्जैन स्थित ‘हरसिद्धि शक्तिपीठ’ भारतवर्ष के अज्ञात 108 एवं ज्ञात 51 पीठों में से एक है। इसका हिन्दू धर्म में बड़ा ही महत्त्व है। मान्यतानुसार यह माना जाता है कि इस स्थान पर देवी सती की कोहनी की पतन हुआ था, जिस वजह से यहां कोहनी की पूजा होती है। यहां की देवी ‘मंगल चंडिका तथा भैरव ‘ मांगल्य कपिलांबर’ है।

देखें ये वीडियो: हरसिद्धि शक्तिपीठ का क्यूं है खास महत्व

शिव पुराण की मान्यता के अनुसार जब सती बिन बुलाए अपने पिता के घर गईं और वहां पर दक्ष के द्वारा अपने पति का अपमान सहन न कर सकने पर उन्होंने अपनी काया को अपने ही तेज से भस्म कर दिया। भगवान शंकर यह शोक सह नहीं पाए और उनका तीसरा नेत्र खुल गया, जिससे चारों ओर प्रलय मच गया। भगवान शंकर ने माता सती के पार्थिव शरीर को कंधे पर उठा लिया और जब शिव अपनी पत्नी सती की जलती पार्थिव देह को दक्ष प्रजापति की यज्ञ वेदी से उठाकर ले जा रहे थे, तब विष्णु ने सती के अंगों को अपने चक्र से 52 भागों में बांट दिया, उज्जैन के इस स्थान पर सती की कोहनी का पतन हुआ था। अतः यहाँ कोहनी की पूजा होती है।

कहते हैं कि प्राचीन मंदिर रुद्र सरोवर के तट पर स्थित था तथा सरोवर सदैव कमलपुष्पों से परिपूर्ण रहता था। इसके पश्चिमी तट पर ‘देवी हरसिद्धि’ का तथा पूर्वी तट पर ‘महाकालेश्वर’ का मंदिर था। 18वीं शताब्दी में इन मंदिरों का पुनर्निर्माण हुआ। वर्तमान हरसिद्धि मंदिर चहार दीवारी से घिरा है।

मंदिर के मुख्य पीठ पर प्रतिमा के स्थान पर ‘श्रीयंत्र’ है।  इस पर सिंदूर चढ़ाया जाता है, तथा उसके पीछे भगवती अन्नपूर्णा की प्रतिमा है। गर्भगृह में हरसिद्धि देवी की प्रतिमा की पूजा होती है। यहीं मंदिर में महालक्ष्मी, महाकाली, महासरस्वती की प्रतिमाएँ हैं। मंदिर के पूर्वी द्वार पर बावड़ी है, जिसके बीच में एक स्तंभ है, जिस पर संवत 1447 अंकित है। पास ही में सप्तसागर सरोवर है। मंदिर के जगमोहन के सामने दो बड़े दीप स्तंभ भी हैं।

ये भी पढ़ें: शची की तपस्या से प्रसन्न होकर पवित्र स्थान पर मां पार्वती ने दीप्त ज्वालेश्वरी के रूप में दिए दर्शन

शिवपुराण के अनुसार यहाँ श्रीयंत्र की पूजा होती है। इन्हें विक्रमादित्य की आराध्या माना जाता है। स्कंद पुराणमें देवी हरसिद्धि का उल्लेख है। मंदिर परिसर में आदिशक्ति महामाया का भी मंदिर है, जहाँ सदैव ज्योति प्रज्जवलित होती रहती है तथा दोनों नवरात्रों में यहाँ उनकी महापूजा होती है।

यहां मंदिर की सीढ़ियाँ चढ़ते ही माता के वाहन सिंह की प्रतिमा है। आगे बढ़ने पर द्वार के दाईं ओर दो बड़े नगाड़े रखे हैं, जो प्रातः सायं आरती के समय बजाए जाते हैं। मंदिर के सामने दो बड़े दीप स्तंभ हैं, इनमें से एक ‘शिव’ है,जिसमें 501 दीपमालाएँ हैं, दूसरा ‘पार्वती’ है, जिसमें 500 दीपमालाएँ हैं तथा दोनों दीप स्तंभों पर दीपक जलाए जाते हैं। यहां कुल मिलाकर इन 1001 दीपक लगभग रोज जलाए जाते है, खासकर नवरात्र और विशेष अवसरों पर तो यहां की भव्यता देखेते बनती ही है।

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment