Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / May 18.
Homeनेचर एंड वाइल्ड लाइफएक राक्षसी जीव जो मांसाहारी लगता है, पर है तृणाहारी

एक राक्षसी जीव जो मांसाहारी लगता है, पर है तृणाहारी

Share Now

हिप्पो (Hippo) की बात करे तो. दिखने में एक राक्षसी जीव होता है लेकिन हिपो (Hippo) हर्बीवोरस होता है यानी तृणाहारी होता है. हिप्पोपोटेमस सेमी एक्वेटिक स्तनपायी है.  जो अपना पूरा शरीर डूबे ऐसे पानी में रहना पसंद करते है.

Hippo

जो आफ्रिका के उप-सहारा के ईलाकों में रहता है. जो तालाब, नदी और दल दल में रहना पसंद करते है. भारी शरीर पानी में बहुत हल्का हो जाता है. जिससे दिन के दो तिहाई घंटे हिपो (Hippo) पानी में बिताते है.

हिपो 2 SUV कार के जितने भारी होते है लेकिन बहुत तेजी से दौड़ सकते है. ज़मीन पर 20 माइल प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकते है. हिपो 16 घंटे जितना समय पानी में बिताते है. दूसरे जीवों की तरह हिपो तैर नहीं सकते. यकीन नहीं हो रहा ना लेकिन हिपो पानी और ज़मीन पर तेजी से दौड़ते है.

Hippo

पानी में डूबने के बाद किसी भी ओल्पमिंक गोल्ड मेडालिस्ट स्विमर से ज्यादा तेजी से पानी में (Hippo) हिपो दौड़ते है. पानी में बहुत ही कम ग्रैविटी होती है जिससे पानी की अंदर एक पुश करके अपने शरीर को बाउंस करता है. जिससे बहुत तेज रफ्तार मिलती है. जैसे एक एस्ट्रोनोट करते है. 2 इंच की च़मडी के नीचे ज्यादा फेट नहीं होता बल्कि मजबूत मसल्स होती है.

दिन के समय में हिपो (Hippo) पानी या फिर दल-दल में पडे रहते है. मड बाथ करते रहते है. जिससे मच्छर और अन्य पेरेसाईट जैसे जीव दूर रहते है… छिछला पानी न होने पर हिपो गहरे पानी में चले जाते है और नथुनों के सहारे बाहर सांस लेने आते है. लेकिन मेटिग और बच्चों को जन्म छिछले पानी में ही देते है.

Hippo

आलसी स्वभाव का हिपो (Hippo) बहुत गुस्सेल होता है. जिसकी वजह से हिपो को अफ्रीका का सबसे खतरनाक जीव माना जाता है.  पुरी दुनिया में सिर्फ दो प्रकार के हिपो (Hippo) पाये जाते है.  एक कॉमन हिपो और एक पिग्मी हिपो. DNA पर शोध से पता लगा है की हिपो सबसे व्हेल का करीबी है. जो सत्य है क्योंकी पानी हिपो की जिंदगी में अहम रोल निभाता है.

यहाँ भी पढ़ें : स्तनधारी जो लगता है सरीसृप, पर है THE MIRACLE MAMMAL

दिन के समय अफ्रीका की भीषण गर्मी से बचने के लिए हिपो पानी में चले जाते है. साथ ही हिपो की स्किन में एक ग्लेन्ड होता है. जिससे एक तैलीय तरल निकलता है. जो बाहरी सतह पर आते ही रेडिश ऑंरेज हो जाता है और यह पिगमेन्ट सूर्य के किरणों को रोकता है. यह पिगमेंन्ट बेक्टेरिया से हिपो को बचाता है. और घाव को जल्दी ठीक करता है.

यहाँ भी पढ़ें : EAGLE AROUND THE WORLD : अमेरिका की आन बान और शान, पक्षी जो अमेरिका की शक्ति दर्शाता है

रात होते ही हिपो (Hippo) ज़मीन पर आते है और घास खाते है. पांच घंटे तक घास खाते है. अपने कुदरती आवास से बहुत दूर तक घास खाने आते है. अपने पुराने रास्ते पर ही हिपो घास खाने आते है. 68 किलोग्राम तक घास हिपो एक बार में ही घास चट कर सकते है. हिप्पोपोटेमस निशाचर स्तनपायी है. जो घास चरने के लिए 5 से 10 किलोमीटर तक का सफर करते है. खाना खत्म करके हिपो फिर से पानी में लौट जाते है. हिप्पोपोटेमस को पानी से बहुत प्यार होता है. इसलिए ग्रीक में हिपो को पानी का घोड़ा भी कहते है.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

No comments

leave a comment