Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / October 7.
HomeUnknown फैक्ट्सआजादी की 75वीं सालगिरह पर कहानी राष्ट्रगान की…

आजादी की 75वीं सालगिरह पर कहानी राष्ट्रगान की…

national anthem
Share Now

एक ऐसा गान जिससे सुनते ही मन में हिन्दुस्तानी होने का गर्व जरूर होने लगता है.  एक ऐसा गान जिसे आजादी के तीन साल बाद एक राष्ट्रीय गान (National Anthem) के रूप में स्वीकृत किया गया. 

 

ये  आपको पता ही होगा कि राष्ट्रगान (National Anthem) रबिन्द्रनाथ टैगोर ने लिखा था, लेकिन जन गण मन को न तो राष्ट्रगान के उदेश्य से लिखा गया था और ना ही इसका उद्देश्य ब्रिटिश राजा का सम्मान था. हालांकि इसे लेकर अलग-अलग दावे हैं. भले ही जॉर्ज पंचम के सम्मान और राष्ट्रगान लिखे जाने के उद्देश्य पर इतिहासकार एकमत न हों लेकिन ये जरूर कहा जाता है कि पहली बार जन गण मन कांग्रेस के कोलकाता अधिवेशन के दूसरे दिन गाया गया.

ये भी पढ़ें: एक ऐसे स्वतंत्रता सेनानी जिन्हें अंग्रेज ‘अशांति का जनक’ कहते थे लेकिन वो ‘लोकमान्य’ बन गए

कांग्रेस के कोलकाता अधिवेशन में गाया गया था राष्ट्रगान 

ऐसा कहा जाता है कि ‘जन गण मन’ को पहली बार कांग्रेस के कोलकाता अधिवेशन के दूसरे दिन 27 दिसंबर 1911 को गाया गया था. तब कुछ अखबारों ने इसे प्रार्थना, गीत और भजन बताकर छापा था. कुछ समय पहले जब राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह ने राष्ट्रगान में शामिल शब्दों पर आपत्ति जताई थी तब इसका मामला सामने आया था.

 

ये कहा जाने लगा था कि राष्ट्रगान में लिखे गए शब्द अधिनायक और भाग्य विधाता जॉर्ज पंचम के सम्मान में लिखे गए हैं. इसे लेकर इतिहासकारों के अलग-अलग मत सामने आए. बड़ी बात ये रही कि इसी दौरान ये बात भी सामने आई कि जॉर्ज पंचम के सम्मान में दिल्ली दरबार में जो गीत गाया गया था वो रामभुज चौधरी नाम के शख्स ने लिखी थी वो रबिन्द्रनाथ टैगोर की लिखी हुई नहीं थी.  24 जनवरी, 1950 को प्रथम राष्‍ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने आधिकारिक रूप से ‘जन गण मन’ को राष्‍ट्रगान के रूप में स्वीकारा एवं घोषित किया. हमें राष्ट्रगान से जुड़े कुछ नियमों की जानकारी होनी चाहिए. 

  • राष्ट्रगान का उच्चारण यानि Pronunciation बिल्कुल सही तरीके से करें.
  • राष्ट्रगान के लिए 52 सेकंड का समय निर्धारित है.
  • राष्ट्रगान गाते वक्त आपको हमेशा सावधान की मुद्रा में खड़े रहना चाहिए.
  •  राष्ट्रगान के लिए प्रिवेंशन ऑफ इंसल्ट्स टू नेशनल ऑनर एक्ट, 1971 में कई प्रावधान किये गए हैं.
  • जिसके अनुसार राष्ट्रगान का अपमान करने पर तीन साल तक की कैद या जुर्माना हो सकता है.
  • राष्ट्रगान गाते समय किसी भी व्यक्ति को परेशान नहीं किया जा सकता.
  • राष्ट्रगान के वक्त अशांति, शोर-गुल और अन्य गान या संगीत न बजाएं.

 

 

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:-OTT INDIA App

Android:http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment