Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 30.
Homeभक्तिभाई दूज 2021: क्या है भाई दूज की पौराणिक मान्यता? जानिए शुभ मुहूर्त

भाई दूज 2021: क्या है भाई दूज की पौराणिक मान्यता? जानिए शुभ मुहूर्त

Bhai Dooj
Share Now

भाई दूज (Bhai Dooj 2021) का त्योहार भी दिपावली की तरह ही पावन माना जाता है. पूरे वर्ष में रक्षाबंधन के बाद सिर्फ भाई दूज ऐसा त्योहार है जब भाई-बहन आपस में लड़ने के बजाय एक दूसरे के प्रति अपना प्यार जताते हैं. इस वर्ष भाई दूज का पर्व 6 नवंबर यानि शनिवार को मनाया जाएगा. भाई दूज का पर्व दिपावली के 1 दिन बाद मनाया जाता है. इस दिन बहन अपने भाई को तिलक लगाकर उसकी लंबी उम्र की प्राथना करती है. बदले में भाई अपनी बहन को तोहफा देता है और साथ ही सुख समृद्धि का आर्शीवाद देता है.

पौराणिक कथा

इस दिन से जुड़ी दो पौराणिक मान्यता है जो लोगों में काफी प्रसिद्ध है. पहली मान्यता के अनुसार इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध किया था. उसके बाद वे द्वारका वापस लौट कर आए थे. तब भगवान श्री कृष्ण की बहन सुभद्रा ने उनका स्वागत कर उनके मस्तक पर तिलक लगाया था. साथ ही बहन सुभद्रा ने श्री कृष्ण की दीर्घायु होने की कामना भी की.

देखें ये वीडियो: खुशीयों की दिपावली

इसके अलावा दूसरी मान्यता के अनुसार सूर्य भगवान और उनकी पत्नी संध्या की संतान यम और यमुना हैं. बहन यमुना की शादी के बाद आज यानि भाई दूज के ही दिन यमराज अपनी बहन के घर गए थे. इस अवसर पर यमुना ने उनका आदर-सत्कार किया और उनके मस्तक पर तिलक लगाकर यमराज को भोजन कराया था. बहन के इस व्यवहार से खुश होकर यमराज ने बहन को वरदान मांगने को कहा. यमुना जी ने वरदान मांगते हुए कहा कि मुझे वरदान दो कि इस दिन जो भी भाई अपनी बहन के घर जाकर तिलक लगवायेगा और बहन के हाथ का भोजन करेगा उसको अकाल मृत्य का भय नहीं होगा. यमराज ने उनका ये वरदान मान लिया और खुश होकर बहन को आशीष दिया. माना जाता है तब से ही भाई दूज मनाने की परंपरा चली आ रही है.

भाई दूज का शुभ मुहूर्त

इस वर्ष भाई दूज का पर्व 6 नवंबर को मनाया जाएगा. इस साल भाईयों के मस्तक पर तिलक लगाने का शुभ मुहूर्त दोपहर 1 बजकर 10 मिनिट से 3 बज कर 21 मिनिट तक रहेगा. इस बार द्वितिया तिथि 5 नवंबर को रात्रि 11 बजकर 14 मिनट से लगेगी जो 6 नवम्बर को शाम 7 बजकर 44 मिनट तक बनी रहेगी.

ये भी पढ़ें: धनतेरस के दिन कीजिए भगवान धन्वंतरी की पूजा, जानिए क्या है महत्व

इस दिशा में बैठे

भाई दूज के दिन बहन, भाई को कुमकुम का तिलक लगाती है. लेकिन तिलक करते समय इस वर्ष ये दिशा में बैठना लाभदायक होगा. भाई दूज के दिन जब आप तिलक कर रहें हैं तो ध्यान रखें कि भाई का मुंह उत्तर या उत्तर-पश्चिम में से किसी एक दिशा की ओर होना चाहिए. बहन ध्यान रखकर अपना मुख उत्तर-पूर्व या पूर्व की दिशा की तरफ रखें. इसके साथ ये भी माना जाता है कि भाइयों के तिलक करने से पहले बहनों को कुछ खाना नहीं चाहिए.

No comments

leave a comment