Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Saturday / September 24.
Homeन्यूजपैरालंपिक में भारत की सबसे बड़ी टीम शामिल, महिला निशानेबाज भी लेंगी हिस्सा

पैरालंपिक में भारत की सबसे बड़ी टीम शामिल, महिला निशानेबाज भी लेंगी हिस्सा

paralympics
Share Now

टोक्यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympic) 2020 में अब सिर्फ 5 दिन बचे हैं.  भारत के 54 पैरा-एथलेटिक्स 24 अगस्त से खेलों में हिस्सा लेंगे.  इसमें 40 पुरुष और 14 महिला खिलाड़ी हैं. यह पैरालंपिक में भारत की अब तक की सबसे बड़ी टीम है. रियो खेलों में भारत के 19 खिलाड़ी थे और उन्होंने 2 स्वर्ण, 1 रजत और 1 कांस्य पदक जीता था. 

यह भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था.  भारतीय खिलाड़ी 9 मैचों में हिस्सा लेंगे. अधिकांश खिलाड़ी एथलेटिक्स (24) में हैं.  रियो पैरालंपिक में स्वर्ण पदक विजेता हाई-जम्पर मरियप्पन थंगावेलु टोक्यो खेलों में भारतीय टीम के ध्वजवाहक होंगे. 

भारत को भाला फेंकने वाले देवेंद्र झझारिया, संदीप चौधरी और मरियप्पन से पदक की सबसे ज्यादा उम्मीदें हैं. झझारिया ने 2004 और 2016 में स्वर्ण पदक जीता था.  जबकि संदीप वर्ल्ड चैंपियन हैं. भारतीय प्रशंसक डीडी स्पोर्ट्स पर पैरालिंपिक देख सकेंगे. 

ये भी पढ़े: IND vs ENG 3rd Test: तीसरे टेस्ट के लिए इंग्लैंड टीम में इस धाकड़ खिलाड़ी की हुई वापसी

19 साल की पलक कोहली सबसे कम उम्र की पैरालिंपियन हैं
पहली बार कोई भारतीय महिला निशानेबाज भी पैरालंपिक में हिस्सा लेगी. रुबीना फ्रांसिस और अवनी लेखरा खेलेंगी. 19 वर्षीय बैडमिंटन खिलाड़ी पलक कोहली खेलों में भाग लेने वाली सबसे कम उम्र की खिलाड़ी हैं.  अधिकतम 8 भाला फेंकने वाले भाग लेंगे. 

पैरालिंपिक में बैडमिंटन-तायक्वोंडो की शुरुआत
पैरालंपिक में पहली बार बैडमिंटन और ताइक्वांडो को शामिल किया गया है.  इस बीच, हरविंदर सिंह और विवेक चिकारा खेलों के लिए क्वालीफाई करने वाले पहले भारतीय तीरंदाज हैं.  प्राची यादव भारत की पहली पैरा कैनोइस्ट हैं. 

5 साल की उम्र में मरियप्पन ने खो दिया था पैर 

तमिलनाडु के मरियप्पन ने 5 साल की उम्र में एक ट्रक के साथ एक दुर्घटना में अपना पैर खो दिया था. बचपन में मरियप्पन को वॉलीबॉल खेलना बहुत पसंद था.  उनके शिक्षक ने उन्हें ऊंची छलांग लगाने की सलाह दी. मरियप्पन ने 14 साल की उम्र में पहली बार हाई-जंप में हिस्सा लिया था। वो भी आम खिलाड़ियों के साथ वह दूसरे नंबर पर आया. मरियप्पन का कहना है कि मैं कभी भी खुद को काबिल बच्चों से अलग नहीं मानता.  2013 में, नेशनल पैरा-एथलेटिक्स में, कोच सत्यनारायण ने उनकी प्रतिभा को पहचाना और उन्हें कोचिंग देने के लिए बेंगलुरु ले गए.  वहीं से मरियप्पन के करियर की शुरुआत हुई. 

22 खेलों में 540 इवेंट खेले जाएंगे
खेलों में 136 देशों के करीब 4400 खिलाड़ी हिस्सा लेंगे.  13 दिवसीय खेलों में 22 खेलों में 540 कार्यक्रम होंगे. 

 

No comments

leave a comment