Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / December 1.
Homeन्यूजइंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर गांधी परिवार ने दी श्रदांजलि, जानिए कौन थी भारत की ‘आयरन लेडी’

इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर गांधी परिवार ने दी श्रदांजलि, जानिए कौन थी भारत की ‘आयरन लेडी’

Find out who was the Iron Lady of India, the Gandhi family paid tribute on the death anniversary of Indira Gandhi
Share Now

Indira Gandhi Death Anniversary: आज राष्ट्रीय एकता दिवस के मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि भी है. इस मौके पर राहुल गांधी ने दादी इंदिरा गांधी को नारी शक्ति का उदहारण देते हुए श्रद्धांजलि दी है. राहुल गांधी ने समाधि ने इंदिरा गांधी की समाधि यानी शक्ति स्थल पर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है.

इस मौके पर राहुल गांधी ने ट्वीट कर इंदिरा गांधी (Indira Gandhi Death Anniversary) को श्रदांजलि दी. राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि मेरी दादी ने अंतिम समय तक निडरता से देश सेवा के लिए काम किया है. उनका जीवन हमारे लिए प्रेरणा का एक स्त्रोत है. उन्होंने लिखा कि नारी शक्ति की बेहतरीन उदहारण इंदिरा गांधी जी के बलिदान दिवस पर विनम्र श्रद्धांजलि. 

साथ ही कांग्रेस ने भी इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रदांजलि अर्पित की है. कांग्रेस की ओर भी ट्वीट किया गया. कांग्रेस ने ट्वीट करते हुए लिखा कि इंदिरा गांधी ने ताकत का प्रतिनिधित्व किया है. उन्होंने ही सेवा का प्रतिनिधित्व किया है. इंदिरा गांधी भारत की पहली लौह महिला हैं. वो हमारी पहली महिला प्रधानमंत्री थी. इंदिरा गांधी को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन. 

इसे भी पढ़े:जब बॉडीगार्ड ने ही प्रधानमंत्री पर चलाई थी ताबड़तोड़ गोलियां, पढ़ें इंदिरा गांधी के आखिरी पल की कहानी

साल 1966 में पहली बार बनीं प्रधानमंत्री

साल 1964 से 1966 तक सूचना प्रसारण मंत्री के रूप में इंदिरा गांधी ने कार्य किया और 1966 से मार्च 1977 तक भारत के प्रधानमंत्री के रूप में इंदिरा गांधी ने सेवाएं दीं. आपातकाल के बाद उनकी हार हुई, हालांकि साल 1980 में एक बार फिर आयरन लेडी के नाम से मशहूर इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री बनीं, इंदिरा गांधी के समय से ही रायबरेली कांग्रेस का गढ़ हुआ करती थी, जहां से सोनिया गांधी चुनाव अभी चुनाव लड़ती हैं. साल 1980 में प्रधानमंत्री बनने के बाद इंदिरा गांधी अपना कार्यकाल पूरा कर पातीं, उससे पहले ही साल 1984 में अंगरक्षकों ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी.

No comments

leave a comment