Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / May 17.
Homeन्यूजकिसानों पर हेलीकॉप्टर से फूल बरसाना चाहते थे जयंत चौधरी, नहीं मिली अनुमति तो ली अब ये शपथ

किसानों पर हेलीकॉप्टर से फूल बरसाना चाहते थे जयंत चौधरी, नहीं मिली अनुमति तो ली अब ये शपथ

Kisan Mahapanchayat
Share Now

कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसानों ने अब अपना विरोध तेज कर दिया है. दिल्ली की सीमाओं समेत अलग-अलग जगहों से लाखों की संख्या में किसान उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में जमा हुए हैं. जहां किसानों की महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) बुलाई गई है. किसान महापंचायत के मद्देनजर उत्तर प्रदेश पुलिस की ओर से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं, वहीं राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) समेत कई किसान नेता महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) से कृषि कानूनों के खिलाफ हुंकार भर रहे हैं.

लेकिन इस किसान महापंचायत के बीच कई राजनीतिक पार्टियां भी किसानों के समर्थन में आगे आ रही है. राष्ट्रीय लोकदल भी किसानों के समर्थन में नजर आ रही है, लेकिन प्रशासन की ओर से अनुमति नहीं दिए जाने से राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी अधिकारियों और सरकार पर खासा नाराज दिख रहे हैं. साथ ही उन्होंने एक शपथ भी ली है.

हेलीकॉप्टर से फूल बरसाना चाहते थे जयंत चौधरी

दरअसल जयंत चौधरी किसानों पर हेलीकॉप्टर से फूल बरसाना चाहते थे लेकिन प्रशासन ने उन्हें अनुमति ही नहीं दी. अब उसे लेकर जयंत चौधरी ने कहा कि 9 महीने से किसान सड़कों पर संघर्ष कर रहा है. आज ये किसानों के लिए आत्मसम्मान और वजूद की लड़ाई बन गई है. इस बात का आदर करने के लिए हमारे कार्यकर्ता किसानों के लिए लंगर और रुकने की व्यवस्था में जुटे हैं. हमने निर्णय लिया कि हेलीकॉप्टर से हम इस महापंचायत में जुटे किसानों पर पुष्पवर्षा कराएंगे, लेकिन ये बात सरकार को सही नहीं लगी.

ये भी पढ़ें: झारखंड विधानसभा में नमाज पढ़ने का कमरा अलॉट हुआ तो बीजेपी ने नई डिमांड कर दी

…तब तक मैं नहीं स्वीकार करूंगा फूल माला

पूरे दिन योगी जी हमें घुमाते रहे, किसी ने अनुमति नहीं दी. देर रात अधिकारियों ने हमें लिखित में दिया कि अनुमति नहीं दे सकते. जो अधिकारी ऐसे फैसले ले रहे हैं, उन्हें चिन्हित कर रहे हैं. एक बात साबित हो गई योगी किसानों से लड़ते हैं. मैं प्रतिज्ञा लेता हूं कि जब तक ऐसी सरकार को हम सत्ता से बाहर नहीं कर देते फूल माला स्वीकार नहीं कर पाऊंगा. बता दें कि लाखों की संख्या में मुजफ्फरनगर किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) में लोग जुटे हैं. 

No comments

leave a comment