Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / May 17.
Homeन्यूजअमेरिका का ‘मिशन अफगानिस्तान’ खत्म, जो बाइडेन बोले- ये अमेरिका के लिए बेहतरीन फैसला

अमेरिका का ‘मिशन अफगानिस्तान’ खत्म, जो बाइडेन बोले- ये अमेरिका के लिए बेहतरीन फैसला

JOE BIDEN
Share Now

31 अगस्त को लेकर अब तक जो कयास लगाए जा रहे थे कि अगर अमेरिका ने इस तारीख तक अफगानिस्तान नहीं छोड़ा तो आगे क्या होगा, या फिर तालिबान के अल्टीमेटम का क्या होगा. वो सारे कयास 31 अगस्त की सुबह ही खत्म हो गए, जब आखिरी अमेरिकी सैनिक भी अफगानिस्तान की धरती छोड़कर अमेरिकी विमान में सवार हो गया. उसके बाद मंगलवार रात अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने अधिकारिक रूप से ये ऐलान कर दिया कि इसी के साथ हमारा अफगानिस्तान में 20 साल चला सैन्य ऑपरेशन खत्म हो गया.

‘अमेरिका के लिए सबसे बेहतर फैसला’

इसी के साथ उन्होंने और भी कई बातें कही. जो बाइडेन (Joe Biden) ने अमेरिकी सेना की वापसी के फैसले का पुरजोर बचाव किया है. उन्होंने कहा कि ये अमेरिकी इतिहास का सबसे लंबा और खर्चीला युद्ध रहा है, अफगानिस्तान मिशन में अब हमारा कोई उद्देश्य नहीं बचा था. ये अमेरिका के लिए सबसे बेहतर फैसला है.

‘यह बुद्धिमानी भरा फैसला’

जो बाइडेन (Joe Biden) ने कहा कि मिशन अफगानिस्तान खत्म करने का फैसला सही और बुद्धिमानी भरा है. वहीं अफगानिस्तान से लोगों को निकाले जाने को लेकर बाइडेन ने कहा कि ये अमेरिकी इतिहास का सबसे बड़ा एयरलिफ्ट ऑपरेशन था. जिसमें 1 लाख 20 हजार नागरिकों को निकाला गया. इसी के साथ 20 साल से अफगानिस्तान में चल रही हमारी सेना की मौजूदगी खत्म हुई.

ये भी पढ़ें: जानिए किसके हाथों में जाएगी अफगानिस्तान की कमान, कौन बनेगा ‘सरदार’?

दो हजार से ज्यादा अमेरिकी सैनिक मारे गए

बता दें कि इससे पहले लोगों को निकाले जाने के दौरान काबुल एयरपोर्ट पर हुए हमले में 13 अमेरिकी सैनिक समेत 150 से ज्यादा लोग मारे गए. इस हमले की जिम्मेदारी आईएसआईएस के ने ली थी. उसके बाद अमेरिका ने भी जवाबी कार्रवाई की. बता दें कि 20 साल के सैन्य ऑपरेशन में करीब 2300 अमेरिकी सैनिक मारे गए, इसके अलावा हजारों सैनिक घायल हुए. अब अफगानिस्तान में अमेरिकी की मौजूदगी खत्म होने के बाद मुल्क की कमान पूरी तरह तालिबान के हाथ में आ गई है. ऐसे में देखना ये होगा कि आखिर अफगानिस्तान को अब कौन चलाएगा.

इनके नाम की है चर्चा

इनमें रहबरी शूरा, मुल्ला बरादर, मुहम्मद याकूब मुल्ला, सिराजुद्दीन हक्कानी और मोहम्मद ताजिक के नाम की चर्चा है. वैसे भी तालिबानियों के शासन की एक लंबी चौड़ी लिस्ट है.

No comments

leave a comment