Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / December 1.
Homeन्यूजराम मंदिर के लिए मुख्यमंत्री पद से भी दे दिया था इस्तीफा, खुलेआम कहे थे ये शब्द

राम मंदिर के लिए मुख्यमंत्री पद से भी दे दिया था इस्तीफा, खुलेआम कहे थे ये शब्द

kalyan singh death
Share Now

21 अगस्त 2021 का वो दिन जो भाजपा के लिए काली रात लेकर आया. भाजपा ने अपना चमकता हुआ वो सितारा खो दिया जिसने राम मंदिर के लिए सत्ता के लोभ तक से त्याग दे दिया था. अब तो आप समझ ही गए होंगे हम किसकी बात कर रहे हैं. दरअसल हम बात कर रहे हैं कल्याण सिंह (Kalyan Singh) की. कल्याण सिंह वो निडर शख्सियत थे जिन्होंने बाबरी मस्जिद के विध्वंस को लेकर साफतौर पर यह ऐलान कर दिया था कि कोर्ट में केस करना है तो मेरे खिलाफ करो, जांच आयोग बिठाना है तो मेरे खिलाफ बिठाओ और अगर किसी को सजा देनी है तो मुझे दो. तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री शंकरराव चव्हाण ने फोन किया तो उनसे कह दिया कि मेरी यह बात रिकॉर्ड कर लो चव्हाण साहब मैं गोली नहीं चलाऊंगा.ये शब्द कल्याण सिंह ने 1992 में बाबरी मस्जिद की पहली ईंट गिरते ही भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहे थे और इसके बाद ही उन्होंने अपने मुख्यमंत्री पद से भी इस्तीफा दे दिया. कल्याण सिंह ने पिछड़ों के नेता और फायर ब्रांड के तौर पर भाजपा को खूब वाहवाही दिलाई.

यूपी की राजनीतिक प्रयोगशाला से निकले कल्याण सिंह ने बाबरी मस्जिद (Babri Mosque) तोड़ रहे कार सेवकों पर भी गोली चलवाने से साफ इंकार कर दिया. कल्याण सिंह के इस कदम के बाद भाजपा के हिंदुत्व वाले एजेंडे को और मजबूती मिली. राम मंदिर के कारण ही उत्तर प्रदेश में भाजपा को खूब विस्तार को मिला. 1986 में प्रधानमंत्री राजीव गांधी की सरकार में एक जिला जज ने राम मंदिर खोलने का आदेश तो दे दिया लेकिन मुश्किल उस वक्त पैदा हुई जब मुसलमानों ने बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी का गठन कर हिंदुओं को मंदिर में पूजा करने से रोका.

ये भी पढ़ें: अयोध्या समेत UP के इन शहरों में होगा ‘कल्याण सिंह मार्ग’, डिप्टी CM ने दी जानकारी

कल्याण सिंह (Kalyan Singh)ने बाबरी मस्जिद विध्वंस को भगवान की मर्जी बताया और मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि मुझे इसका कोई अफसोस नहीं है. कोई दुख नहीं है. कोई पछतावा नहीं है. ये सरकार राममंदिर के नाम पर बनी थी और उसका मकसद पूरा हुआ. ऐसे में सरकार राम मंदिर के नाम पर कुर्बान. राम मंदिर के लिए एक क्या सैकड़ों सत्ता को ठोकर मार सकता हूं. केंद्र सरकार कभी भी मुझे गिरफ्तार करवा सकती है, क्योंकि मैं ही हूं, जिसने अपनी पार्टी के बड़े उद्देश्य को पूरा किया है.’

इसके बाद से कल्याण सिंह को भाजपा के हिंदुत्व का पोस्टर बॉय भी कहा जाने लगा. ऐसे में अब कल्याण सिंह के निधन के बाद भाजपा ने फैसला किया है राम मंदिर के परिसर वाली सड़क का नाम उनके नाम पर रखा जाएगा. इसके लिए जल्द ही प्रस्ताव लाने की तैयारी भी चल रही है. कल्याण सिंह तो इस दुनिया को अलविदा कह गए लेकिन उनकी यादें और उनका राम मंदिर के लिए त्याग हमेशा के लिए याद रखा जाएगा.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment