Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / September 29.
Homeनेचर एंड वाइल्ड लाइफकैसे पानी के बिना जीते है यह अद्भुत चूहे

कैसे पानी के बिना जीते है यह अद्भुत चूहे

Kangaroo rat
Share Now

क्या आपने कभी कंगारू जैसे चूहे को देखा है. सवाल होगा की ऐसा चूहा भी हो सकता है ? जरूर ऐसा है जिसे कंगारू चुहा कहा जाता है. (Kangaroo rat)कंगारू चूहे केवल रेगिस्तान में रहना पसंद करते हैं. जो पश्चिमी उत्तरी अमेरिका के मूल निवासी हैं.  (Kangaroo rat)कंगारू चूहे डिपोडोमिस (Dipodomys) वंश के छोटे आकार के स्तनधारी जीव हैं.

यह भारतीय चूहे के आकार का स्तनधारी जीव है. यह अन्य चूहों की तरह ही अनाज खाते हैं और बिलों में रहते हैं. इसकी कुछ प्राजातियां घास, अन्य हरी वनस्पति और कीड़े भी खाती हैं. कंगारू की तरह उछलने के कारण इसका यह नाम पड़ा है कंगारू चुहा (Kangaroo rat). कंगारू चूहे शुष्क वातावरण में जीवित रहने के लिए अनुकूलित होते है. रेगिस्तानों में कई प्रजातियां पाई जाती हैं. इनकी 22 में से कई प्रजातियाँ कैलिफोर्निया में ही पाई जाती हैं.

यह चूहे पानी पीए बिना ही जिंदा रहते है. इन चूहों को ज्यादातर पानी अपने भोजन से मिलता है. यह पानी कंगारू चुहे को सूखे बीजों से प्राप्त होता है. इनमें सूखे बीजों को खाकर इसे पानी में बदलने की क्षमता होती है. इनमें विशेष प्रकार की वृक्क(kidney) होती है. जो उन्हें पानी की बहुत कम मात्रा के साथ अपशिष्ट पदार्थों के निष्कासन की अनुमति देते हैं. अधिकांश कंगारू चूहे, संतुलन के लिए उनकी पूंछ का उपयोग करके, अपने पीछे वाले पैरों की सहायता से उछलते हैं.

kangaroo rat

Image-scientificamerican

इनकी सभी प्रजातियों में लैंगिक द्विरूपता (नर मादा समान नही दिखते) पाई जाती है. जिसमें नर मादा से बड़े होते हैं. वयस्क आमतौर पर 70 से 170 ग्राम के बीच वजन के होते हैं. इनके सिर और पीछे के पैर अपेक्षाकृत बड़े तथा आगे के पैर छोटे होते हैं. इनकी पूंछ इनके शरीर और सिर दोनों से लंबी होती है. इनके कान छोटे-छोटे तथा बाल रहित होते हैं. आंखें बड़ी और चमकदार होती हैं. यह चूहे 6 फीट की दूरी तक छलांग लगा सकते हैं.माना जाता है कि लगभग 10 फीट प्रति सेकेंड की गति से भाग सकते है.

यहाँ भी पढ़ें :डबचिक को कैसे पहचाने

आकार में भारतीय चूहों के समान होते है परंतु ये काफी फुर्तीले होते हैं. भागते समय जल्दी से अपनी दिशा बदल सकते हैं. कंगारू चूहे रात के शिकारियों (जैसे सांप और लोमड़ी आदि) से बचने के लिये मूव-फ्रीज (move-freeze) मोड का उपयोग करते हैं.

kangaroo rat

Image-nbcnews

कंगारू चूहे दुनिया के आसाधारण जीव हैं. जिन्‍हें प्रकृति ने इन्हें बहुत कम पानी के साथ जीवित रहने की क्षमता प्रदान की है. कंगारू चूहे रेगिस्तानों में बिना पानी के भी जिंदा रह लेते हैं. सभी मानते है कि सुना है कि ऊंट के शरीर में पानी की थैली होती है. जिसका इस्तेमाल वो भविष्य में आपूर्ति के लिये करता है. परंतु इन चूहों के शरीर में ऐसा कुछ नहीं पाया जाता. प्रयोगों से पता चला है कि उनके शरीर में अन्य जानवरों की तरह ही पानी की उचित मात्रा होती है.

यहाँ भी पढ़ें :बारिश में दिखते पीले मेंढक का रहस्य 

वास्तव में कंगारू चूहे जो भी भोजन करते हैं. उसके माध्यम से शरीर में पानी की पूर्ति कर लेते हैं. इसके अलावा यह चूहे दिन के समय में अपने बिलों में ही रहते हैं. जहाँ नमी होती है. यह ज्यादातर रात के समय में बाहर निकलते है. जब तापमान कम होता है. ये चूहे प्रति वर्ष दो या तीन संतानों को जन्म देते हैं. और इनका गर्भकाल 22-27 दिनों तक रहता है.

No comments

leave a comment