Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / October 25.
Homeन्यूजKanhaiya-Jignesh Join Congress: कॉमरेड कन्हैया हुए कांग्रेसी, जिग्नेश मेवाणी ने भी थामा कांग्रेस का ‘हाथ’

Kanhaiya-Jignesh Join Congress: कॉमरेड कन्हैया हुए कांग्रेसी, जिग्नेश मेवाणी ने भी थामा कांग्रेस का ‘हाथ’

Kanhaiya-Jignesh Join Congress
Share Now

कॉमरेड कन्हैया (Kanhaiya-Jignesh Join Congress) अब कांग्रेसी बन गए हैं, इनके अलावा गुजरात के वडगाम से निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने भी कांग्रेस का हाथ थाम लिया है. कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला समेत पार्टी के बड़े नेताओं की मौजूदगी में दोनों नेताओं ने कांग्रेस की सदस्यता ली.

 

कांग्रेस में शामिल हुए कन्हैया कुमार ने कहा कि बस्ती में जब आग लग जाती है तो बेडरूम की चिंता नहीं करनी चाहिए, आज हम इस मुहाने पर खड़े हैं कि हमें चिंतन परंपरा को बचाने की जरूरत है. कांग्रेस वह पार्टी है जो गांधी की विरासत, सरोजिनी नायडू की विचारों को आगे लेकर बढ़ेगी. हम जब भी समानता और बराबरी की बात करते हैं, यह कुछ व्यक्तियों तक सीमित नहीं है. जो लोग कह रहे हैं कि विपक्ष कमजोर हो गया है, ये सिर्फ विपक्ष के लिए चिंता की बात नहीं है, जब विपक्ष कमजोर हो जाता है, सत्ता तानाशाही रूख अख्तियार कर लेती है.

‘बड़े जहाज को बचाना काफी जरूरी’

अगर बड़े जहाज को नहीं बचाया गया, छोटी-छोटी कश्तियां भी नहीं बचेगी. लोग मेरे इतिहास और वर्तमान को देख रहे हैं, मैं हर सवाल का जवाब दूंगा. मैं जहां पैदा हुआ, जिस पार्टी में रहा उसके प्रति आभार व्यक्त करता हूं. देश में जो वैचारिक संघर्ष छिड़ा है उसे सिर्फ कांग्रेस पार्टी नेतृत्व दे सकती है. संघ परिवार पर निशाना साधते हुए कन्हैया ने कहा कि परिवार छोड़कर परिवार बनाना पड़े.

‘हम अभूतपूर्व संकट से गुजर रहे हैं’ 

वहीं कांग्रेस में शामिल हुए जिग्नेश मेवाणी ने कहा कि हम एक अभूतपूर्व संकट से गुजर रहे हैं, ऐसा संकट इस मुल्क ने पहले कभी नहीं देखा. हमारे संविधान और लोकतंत्र पर हमला है. आज भाई-भाई एक दूसरे का दुश्मन बन जाए ऐसी नफरत दिल्ली और नागपुर मिलकर फैला रहे हैं. मैं बतौर नागरिक खुद से सवाल पूछता हूं कि मेरा मौलिक कर्तव्य क्या होना चाहिए, अगर संविधान और लोकतंत्र को बचाना है तो उनके साथ खड़ा रहना है जिन्होंने अंग्रेजों को भगाया है.

Kanhaiya-Jignesh Join Congress

Image Courtesy: Twitter.com

‘औपचारिक तौर पर पार्टी ज्वाइन नहीं कर सकता’

टेक्निकल वजहों से मैं औपचारिक तौर पर पार्टी ज्वाइन नहीं कर सकता लेकिन विचार के साथ जुड़ चुका हूं. 2022 के चुनाव में कांग्रेस के सिंबल से ही चुनाव लड़ूंगा. गुजरात के संदर्भ में हार्दिक की मौजूदगी में मैं कहना चाहता हूं कि आज राष्ट्रीय स्तर पर जो हो रहा है वह हम गुजरात में देख चुके हैं. मुंद्रा पोर्ट पर पकड़ी गई ड्रग्स को लेकर भी जिग्नेश ने निशाना साधा.

कांग्रेस कार्यालय पर आयोजित कार्यक्रम से पहले कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के साथ शहीद पार्क में आयोजित शहीद-ए-आजम भगत सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित की.

पार्टी ने कहा था खारिज करें अटकलें, अब सच साबित हुई अटकलें 

ख़बरों की मानें तो सोमवार को कन्हैया कुमार ने दिल्ली स्थित पार्टी ऑफिस में सीपीआई (एम) नेताओं को घंटों इंतजार करवाया लेकिन खुद नहीं पहुंचे. दरअसल उनसे सीपीआई(एम) की ओर से कहा गया था कि कांग्रेस में शामिल होने को लेकर चल रही अटकलों पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सफाई दें, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और कांग्रेस में शामिल (Kanhaiya-Jignesh Join Congress) हो गए.

Kanhaiya-Jignesh Join Congress

Image Courtesy: Twitter.com

ये भी पढ़ें: पंजाब कांग्रेस में कलह: अब प्रदेश अध्यक्ष पद के पद से नवजोत सिंह सिद्धू ने दिया इस्तीफा

कन्हैया कुमार ने 2019 में लड़ा था लोकसभा चुनाव 

कन्हैया कुमार की बात करें तो जेएनयू में नारेबाजी कर सुर्खियों में कन्हैया पर राजद्रोह का आरोप लगा, वो जेल भी गए, कन्हैया ने बिहार टू तिहाड़ किताब भी लिखी है. इसके अलावा कन्हैया की राजनीतिक करियर की बात करें तो साल 2019 के लोकसभा चुनाव में कन्हैया कुमार ने बिहार के बेगुसराय लोकसभा सीट से गिरिराज सिंह के सामने चुनाव लड़ा और हार गए. जिसके बाद से ही उन्हें पार्टी की ओर से खास तवज्जो नहीं दी जाने लगी थी.

Kanhaiya Kumar

कॉमरेड कन्हैया हुए कांग्रेसी 

बड़ी बात ये रही कि लंबे समय से अपनी पार्टी से नाराज चल रहे कन्हैया युवा राजनेता के तौर पर अपने करियर को बढ़ाने के लिए कांग्रेस को एक विकल्प के रूप में लंबे समय से देख रहे थे. इसके पीछे की वजह राजनीतिक विश्लेषक ये मानते हैं कि कन्हैया की राजनीति बीजेपी के पूरी तरह खिलाफ रही है, वहीं कांग्रेस के अलावा उनके पास कुछ क्षेत्रीय दलों का विकल्प था, जिसे शायद वो अपने राजनीतिक करियर के तौर पर सही रूप से नहीं देखते. शायद यही वजह रही कामरेड कन्हैया अब कांग्रेसी हो गए. अब देखने वाली बात ये होगी कि बिहार से आने वाले कन्हैया कुमार को कांग्रेस बिहार कांग्रेस में कोई बड़ी जिम्मेदारी देती है या फिर राष्ट्रीय स्तर पर कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी को कोई खास जिम्मेदारी दी जाएगी.

jignesh mewani

गुजरात के वडगाम से विधायक हैं जिग्नेश मेवाणी 

वहीं जिग्नेश मेवाणी की बात करें तो साल 2017 के विधानसभा चुनाव में जिग्नेश मेवाणी ने बतौर निर्दलीय उम्मीदवार विधानसभा चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी. उस वक्त भी कांग्रेस ने वहां से अपना उम्मीदवार नहीं उतारा था, जिससे जिग्नेश की जीत का रास्ता साफ हो गया था. जिग्नेश मेवाणी की छवि एक युवा और दलित नेता की है. जिग्नेश मेवाणी के कांग्रेस में शामिल होने से गुजरात कांग्रेस को मजबूती मिलेगी. फिलहाल हार्दिक पटेल गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हैं, ऐसे में आने वाले विधानसभा चुनावों में हार्दिक और जिग्नेश की जोड़ी गुजरात की राजनीति में कांग्रेस को मजबूती दे सकती है. हालांकि ये देखने वाली बात होगी कि अब जिग्नेश मेवाणी को कांग्रेस की ओर से कौन सी जिम्मेदारी दी जाती है.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment