Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Thursday / December 1.
Homeन्यूजअब आपस में नहीं टकराएगी ट्रेन, Video में देखें कैसे ‘कवच’ ने रोक दी दो ट्रेनों की टक्कर

अब आपस में नहीं टकराएगी ट्रेन, Video में देखें कैसे ‘कवच’ ने रोक दी दो ट्रेनों की टक्कर

trial
Share Now

ट्रेन(Train) से सफर करने वाले लोगों के दिमाग में अक्सर एक सवाल आता है कि अगर इसी पटरी पर दूसरी ट्रेन आ गई तो क्या होगा, क्योंकि ट्रेन इतनी स्पीड में होती है कि उसे कंट्रोल(Control) करना मुश्किल हो जाता है. ये कोई सामान्य बात नहीं है कि दो ट्रेन एक पटरी पर आए जाए लेकिन कभी गलती की वजह से ऐसा हो सकता है और हो भी चुका है. ऐसे में जान-माल के नुकसान का खतरा बना रहता है.

कवच तकनीक का ट्रायल

इसी नुकसान को रोकने के लिए तमाम कोशिशें की गईं, विदेशों में कई तरह की महंगी टेक्नोलॉजी है लेकिन भारत अब तक ऐसा कुछ नहीं बना सका था. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव(Ashwini Vaishnaw) ने आज एक ऐसी ही तकनीक कवच(Kavach Technology)का ट्रायल करवाया. एक तरफ रेल के इंजन में रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव थे तो दूसरी तरफ अन्य रेलवे अधिकारी जो उनकी ट्रेन से सिर्फ 380 मीटर की दूरी पर आगे उसी पटरी पर थे.

खुद ब खुद रुक गई ट्रेन

अब दोनों ट्रेन एक ही पटरी पर थी, दोनों के बीच की दूरी 380 मीटर थी और जैसे ही इससे आगे ट्रेन बढ़ाने की कोशिश लोको पायलट(Loco Pilot) ने की ट्रेन में सायरन बजने लगा. सबसे खास बात ये रही है कि इस निश्चित दूरी यानि 380 मीटर पहले ही ट्रेन अपने आप रूक गई. मतलब किसी भी स्थिति में अगर दो ट्रेन एक पटरी पर आ जाती है तो हादसा(Train Accident) नहीं होगा.

रेल मंत्री ने शेयर किया वीडियो

अक्सर आशंका इस बात की होती है कि या तो ट्रेन आमने-सामने एक पटरी पर आए या फिर पीछे से दोनों की टक्कर हो लेकिन किसी भी तरह से अगर ऐसी स्थिति आएगी तो ट्रेन पहले ही रूक जाएगी. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने इस ट्रायल का वीडियो सोशल मीडिया(Viral Video) पर भी शेयर किया है, जिसमें आप देख सकते हैं कि कवच तकनीक(Kavach) की वजह से कैसे ट्रेन आगे वाली ट्रेन को देखकर खुद ही रूक जाती है और उसके बाद वह रेलवे कर्मियों से दोबारा ऐसा करने को कहते हैं तो फिर से सायरन की आवाज सुनाई देती है.  

ये भी पढ़ें: रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, करीब दो साल अब जनरल टिकट लेकर भी ट्रेन में कर सकेंगे सफर

कवच तकनीक की खासियत

इसके नाम से ही स्पष्ट है कि ये दो ट्रेन के टक्कर की स्थिति में कवच(kavach) का काम करेगा, उन्हें टकराने से रोकेगा. यह पूरी तरह से स्वदेशी तकनीक है, जिसे देश में ही बनाया गया है. इसकी मदद से न सिर्फ सुरक्षा सुनिश्चित होगी बल्कि ट्रेन की स्पीड भी बढ़ेगी और फिर रेलवे की लेट-लतीफी वाले दौर का पूरी तरह से खात्मा हो जाएगा. फिर आपको ये चिंता नहीं होगी कि अगर ट्रेन आपके घर तक पहुंचने में 12 घंटे का समय लेती है तो वह लेट भी हो सकती है, बल्कि सारा काम ऑन टाइम होगा.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment