Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 27.
Homeन्यूजPM Cares Fund प्राइवेट तो PMO का Address क्यों, कांग्रेस नेता ने उठाए सवाल, पढ़ें पूरी जानकारी

PM Cares Fund प्राइवेट तो PMO का Address क्यों, कांग्रेस नेता ने उठाए सवाल, पढ़ें पूरी जानकारी

PM Cares Fund
Share Now

पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) को लेकर एक बार फिर सवाल उठने लगे हैं, सवाल यह है कि आखिर पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) की जानकारी सार्वजनिक क्यों नहीं की जा रही, इन सवालों को लेकर बल तब मिला जब एक आरटीआई के जवाब में ऐसी जानकारी सामने आई कि यह फंड पब्लिक अथॉरिटी नहीं है. जिसके बाद सवाल यहीं से उठने शुरू हुए, सवाल उठने का एक और कारण यह है कि देश में पहले से ही प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष उपलब्ध है तो फिर इसकी जरूरत क्या है.

 

गुरुवार को ऐसी जानकारी सामने आई कि दिल्ली हाईकोर्ट में मोदी सरकार की ओर से जानकारी दी गई कि यह भारत सरकार के अधीन नहीं है, महामारी या आपातकाल के वक्त लोगों की मदद के लिए इसका गठन किया गया है. इसके अलावा और भी कई बातें हाईकोर्ट में कही गई. जानकारी के मुताबिक वकील सम्यक गंगवाल ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर इसे पब्लिक फंड घोषित करने की मांग की है ताकि इसकी जानकारी सार्वजनिक हो सके, इसकी पारदर्शिता बनी रह सके.

बीवी श्रीनिवास ने साधा निशाना 

जहां तक सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध जानकारी की बात है तो पीएम केयर्स फंड के नाम से बनी वेबसाइट पर जो जानकारी उपलब्ध है, उसमें लिखा है कि कोविड 19 जैसी किसी भी तरह की आपातकालीन या संकट की स्थिति से निपटने और प्रभावितों की मदद के लिए इसे बनाया गया है. पीएम केयर्स फंड का पूरा नाम प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष है, जो एक तरह का सार्वजनिक धर्मार्थ ट्रस्ट है. इसी बात को लेकर कई नेता सवाल उठा रहे हैं, यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास ने ट्वीट कर लिखा है कि अगर यह प्राइवेट है तो फिर इस पर पीएमओ का पता क्यों है.

ये भी पढ़ें: जानिए क्या है QUAD और कितने देश हैं इसमें शामिल, 24 सितंबर को बैठक में शामिल होंगे PM मोदी

पीएम केयर्स फंड के पदेन अध्यक्ष हैं पीएम 

अब ट्रस्ट को लेकर देश में अलग कायदे-कानून हैं. पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) की बात करें तो पीएम मोदी इसके पदेन अध्यक्ष और भारत सरकार के रक्षामंत्री, गृहमंत्री और वित्त मंत्री इसके पदेन ट्रस्टी हैं. पदेन का मतलब ये हुआ कि जो भी इस पद पर रहेंगे वो इसके ट्रस्टी होंगे. इनके अलावा बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज में तीन लोगों को नामित करने की शक्ति प्रधानमंत्री के पास होगी, ट्रस्टी नियुक्त किया गया व्यक्ति निशुल्क रूप से काम करेगा.

Image Courtsey: PMCares.Gov.in

 

पीएम केयर्स फंड में दान पर सवाल 

अब सवाल पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) में दिए गए दान को लेकर उठ रहे हैं. फिलहाल वेबसाइट पर इतनी जानकारी उपलब्ध है कि साल 2019-20 में इसमें 3 हजार 76 करोड़ रुपये जमा हुए. अब इसे लेकर सवाल इसलिए उठ रहे हैं कि ये पैसे कहां खर्च हो रहे हैं, 2020-21 का कोई डाटा क्यों नहीं, आरटीआई के दायरे में यह क्यों नहीं है, ऐसी कई वजह से सवाल उठ रहे हैं.

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष की तरह ही है पीएम केयर्स फंड

बड़ी बात ये है कि इसमें दान की गई रकम पर इनकम टैक्स में 100 फीसदी छूट मिलेगी, विदेशों से धन प्राप्त करने के लिए एक अलग अकाउंट है, जिसे FCRA के तहत छूट मिली है. पीएम केयर्स फंड की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के आखिरी में यह भी लिखा है कि यह प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष की तरह ही है, हालांकि ये नहीं लिखा कि ये सरकार के अधीन नहीं है, अब इस बात की जानकारी सामने आई है.  

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment