Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / August 12.
Homeहेल्थपलकों का झपकना क्यों होता है जरूरी?

पलकों का झपकना क्यों होता है जरूरी?

blink
Share Now

एक मिनट में करीब दस बार आपकी पलकें बगैर आपकी मर्जी की झपक (Blinking Eyes) जाती हैं, क्या आपने कभी सोचा है कि ये पलकें क्यों झपकती हैं, या फिर इनका ज्यादा या कम झपकना भी बीमारी कारण बन सकता है. आंख इंसान के शरीर का वो हिस्सा है जो काफी सेंसेंटीव यानि संवेदनशील होता है. जिसमें किसी भी तरह की समस्या हो तो आंखों की रोशनी तक जाने का खतरा बना रहता है, लेकिन क्या सोचा है आपने कि पलकें गिरने और उठने में कितने सेकंड का वक्त लगता है, और इतनी जल्दी कैसे हो जाता है. तो इसे जानने के लिए आपका ये समझना जरूरी है कि इंसान की पलकें एक मिनट में दस बार तक झपकती हैं.

यानि इसका मतलब ये है कि अगर एक मिनट में आपकी आंख की पलकें दस बार से ज्यादा झपक रही हैं तो आपकी आंखें किसी बीमारी का शिकार हैं. वो बीमारी कौन-कौन सी हो सकती हैं, आइए जानते हैं.

आंखों से जुड़ी बीमारियां 

आम तौर पर आंखों से जुड़ी बीमारियों की बात करें तो मोतियाबिंद, दूर दृष्टि दोष और निकट दृष्टि दोष जैसी कई बीमारियों का नाम जेहन में आता है,लेकिन क्या कभी आपने ब्लेफरोस्पाज्म (Blefrospajm) और ड्राइ आई सिंड्रोम बीमारी का नाम सुना है, अगर नहीं तो ये जान लीजिए कि पलकें कम या ज्यादा झपकने की वजह से यही बीमारियां होती हैं. ब्लेफरोस्पाज्म आम तौर पर बच्चों और बूढ़ों को होता है तो वहीं ड्राइ आई सिंड्रोम बीमारी तब होती है जब आंखों की पुतलियां सूख जाती हैं.

ये भी पढ़े: जानिए, मुंह से बदबू आने की वजह और उपाय

बीमारियों के लक्षण

अक्सर आपने देखा होगा कि कंप्यूटर पर काम करते वक्त या ज्यादा देर तक मोबाइल चलाने की वजह से आपकी आंखों में सूखापन आ गया हो, आंखें पूरी तरह ड्राइ हो गईं हैं, दरअसल ये ड्राइ आई सिंड्रोम का ही लक्षण है.

इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि अगर आप पूरी तरह ध्यान लगाकर स्क्रीन पर देख रहे हैं तो जाहिर तौर पर आपकी पलकें कम झपकेंगी ऐसे में आंखों में सूखापन आना स्वभाविक है. हालांकि ये तो पलकों के ज्यादा झपकने और कम झपकने की बात हो गई लेकिन ये पलकें झपकती कैसे हैं ये जानना भी जरूरी है. दरअसल आंखों की पुतलियों पर एक खास तरह का लिक्विड होता है, जो ल्यूब्रिकेंट की तरह काम करता है, जब आप पलकें झपकातें हैं तो ये ल्यूब्रिकेंट आंखों में पूरी तरह फैल जाता है, लेकिन कम झपकाने की वजह से पूरी तरह नहीं फैल पाता. ऐसे में आपको शरीर के अन्य अंगों की तरह इस पर भी ध्यान देने की जरूरत है, ज्यादा परेशानी होने पर डॉक्टर्स से सलाह अवश्य लें.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4
IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment