Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Wednesday / October 5.
Homeहेल्थआखिर छींक क्यों आती है? जानिए वजह

आखिर छींक क्यों आती है? जानिए वजह

sneezing
Share Now

अक्सर मीटिंग के दौरान या सफर करते वक्त अगर किसी को छींक(Sneezing) आ जाए तो वह पहले रोकने की कोशिश करता है लेकिन फिर भी छींक नहीं रुकती. क्या कभी सोचा है आपने कि चाहकर भी आप अपनी छींक रोक क्यों नहीं पाते या फिर छींक आती क्यों है.

छींक आने की वजह
अगर आप ये कहें कि छींक आपको कभी-कभी शर्मिंदा कर देता है तो शायद ये सही नहीं होगा क्योंकि छींक एक ऐसी स्वभाविक प्रक्रिया है, जैसे न्यूटन का तीसरा नियम. जैसे ही आपके शरीर के अंदर कोई ऐसी चीज पहुंच जाती है जिसे मस्तिष्क संदेश देता है कि उसे तुरंत बाहर निकालना है तो नाक के जरिए छींक आते ही वो चीज बाहर निकल जाती है. आसान शब्दों में कहें तो छींक तब आती है जब आपके नाक में कोई बैक्टीरिया सांस के माध्यम से आपके अंदर पहुंच जाता है तो म्युकस झिल्ली एक्टिव हो जाती है और आपको छींक आ जाती है.

हालांकि ऐसा नहीं है कि अगर आपके नाक में कुछ घुस जाए तभी आपको छींक आएगी, बल्कि कभी-कभी ऐसा भी होता है जब आपको किसी चीज से एलर्जी हो आपको उसके सुगंध या दुर्गंध से छींक आ जाए.

 

ये भी पढ़े: जानिए, बालों के झड़ने के पीछे की वजह और उपाय

 

बड़ी बात ये है कि अगर आपको ज्यादा छींक आ रही है तो ये बीमारी का संकेत है लेकिन छींक न आना किसी बीमारी का संकेत होना नहीं हो सकता. मेडिकल की भाषा में कहें तो बार-बार छींक आना ये दिखाता है कि आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है. हो सकता है कि आप रोग प्रतिरोधक क्षमता से वाकिफ न हो तो इसे ऐसे समझिए कि आपका शरीर किसी रोगाणु से लड़ने की कितनी क्षमता रखता है वही रोग प्रतिरोधक क्षमता है.

क्या है साइनस की समस्या
हालांकि छींक और नाक से जुड़ी समस्याओं की बात आती है तो लोगों के जेहन में साइनस का ख्याल भी आने लगता है. कई लोगों को बचपन से ही साइनस की समस्या होती है.

साइनस दरअसल नाक का ऐसा रोग है जिसमें आम तौर पर ये कहा जाता है कि इससे ग्रसित मरीजों की नाक की हड्डी बढ़ जाती है, जिसका बाद में ऑपरेशन भी करना पड़ता है. जो व्यक्ति साइनस से ग्रसित होता है कि उसकी नाक के अंदर की एक लाइनिंग में समस्या होने लगती है, जिसकी वजह से भी व्यक्ति को कभी-कभी छींक आती है. मतलब छींक आने के एक नहीं कई कारण हैं.

इससे बचाव का सबसे बड़ा उपाय यही है कि साइट्रस फ्रूट खाएं और एंट्री बैक्टरीयिल गुणों से भरपूर चीजों का सेवन करें. हालांकि ये सब घरेलू उपचार हैं, अगर बार-बार छींक आती है तो एक बार डॉक्टर को अवश्य दिखाएं.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4
IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment