Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Friday / October 15.
Homeन्यूजलखीमपुर खीरी हिंसा: अभी भी हाउस अरेस्ट में प्रियंका गांधी, कहा- किसानों से मिले बिना नहीं जाऊंगी

लखीमपुर खीरी हिंसा: अभी भी हाउस अरेस्ट में प्रियंका गांधी, कहा- किसानों से मिले बिना नहीं जाऊंगी

Lakhimpur Violence
Share Now

Lakhimpur Violence: उत्तरप्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों को गाड़ी से कुचलने की घटना के बाद जमकर हिंसक प्रदर्शन हुआ। इस घटना के बाद भड़की हिंसा में अभी तक 9 लोगों की जान चली गई है। सोमवार को इस मुद्दे पर पुरे देश की सियासत गरमा गई। लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Violence) से लेकर दिल्ली तक विपक्षी पार्टियों ने जमकर प्रदर्शन किया।

प्रियंका गांधी अभी भी सीतापुर में हाउस अरेस्ट:

वहीं किसानों से मिलने के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी देर रात ही निकल पड़ी। लेकिन उन्हें सीतापुर में पुलिस ने अरेस्ट कर लिया। वहीं पूर्व सीएम अखिलेश यादव को भी उनके घर से थोड़ी दूर ही पुलिस ने हिरासत में लिया था। कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी अभी भी सीतापुर में हाउस अरेस्ट हैं। प्रियंका गांधी ने ऐलान किया है कि पुलिस उन्हें जब भी छोड़ेगी वह किसानों से मिलने लखीमपुर जरूर जाएंगी। और किसान परिवारों (Lakhimpur Violence) से मुलाकात होने तक अन्न ग्रहण नहीं करने का ऐलान किया है।

किसानों से बिना मिले नहीं जाऊंगी: प्रियंका गांधी

गौरतलब है कि यूपी में प्रियंका गांधी पिछले कई सालों से सक्रिय है। ऐसे में जब भी कोई बड़ी घटना होती है तो प्रियंका गांधी पीड़ित परिवार या पक्ष से मिलने जरूर जाती है। रविवार को भी देर रात पुलिस से बचते हुए प्रियंका गांधी तीन गाड़ियों को बदलकर लखीमपुर खीरी पहुंचने ही वाली थी कि पुलिस ने उन्हें सीतापुर के पास से हिरासत में लिया। उन्हें सीतापुर पीएसी कैम्पस में हाउस अरेस्ट किया गया है। पीएसी कैंप के बाहर कांग्रेसियों का बड़ी संख्या में जमावड़ा भी है। वहीं प्रियंका गांधी ने साफ़ कहा है कि जब तक वो पीड़ित परिवार से नहीं मिल लेती तब तक अन्न ग्रहण नहीं करेगी। इसके साथ ही प्रियंका ने ट्वीट में पीएम मोदी को टैग करते हुए लिखा कि ”पीएम नरेंद्र मोदी जी आपकी सरकार ने बग़ैर किसी ऑर्डर और FIR के मुझे पिछले 28 घंटे से हिरासत में रखा है। अन्नदाता को कुचल देने वाला ये व्यक्ति अब तक गिरफ़्तार नहीं हुआ। क्यों?

ये भी पढ़ें: लखीमपुर हिंसा: मृतक किसानों के परिजनों को मिलेंगे 45-45 लाख रुपये, रिटायर जज करेंगे जांच

योगी सरकार 24 घंटे में ही किया समझौता:

हालांकि योगी सरकार ने इस पुरे मामले को समझौता करके शांत कर दिया। सोमवार दोपहर को ही लखीमपुर में सरकार और किसानों के बीच समझौते पर बात बनी। योगी सरकार ने मृतकों के लिए 45 लाख रुपए का मुआवजा देने का ऐलान किया है। वहीं उनके परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी। इसके साथ ही घटना की न्यायिक जांच और 8 दिन में आरोपियों को अरेस्ट करने का वादा भी किया गया है। इस मौके पर किसान नेता राकेश टिकैत भी मौजूद रहे थे।

ये भी पढ़ें: लखीमपुर खीरी में बड़ा बवाल, किसानों पर चढ़ाई गाड़ी, दो की मौत और कई घायल

कांग्रेस के बाद सपा-बसपा भी हुई हमलावर: 

लखीमपुर खीरी मामले को लेकर जमकर सियासत भी देखने को मिली। रविवार जैसे ही प्रियंका गांधी के घटनास्थल पर जाने की खबर आई तो अन्य विपक्षी पार्टियों ने भी कमर कस ली थी। पहले देर रात को ही बसपा के सतीशचंद्र मिश्रा को पुलिस ने वहां जाने से रोका। लेकिन इसके बाद सुबह जब सपा के प्रमुख पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने प्रदर्शन शुरू किया। उनके घर के बाहर समर्थकों का हुजूम उमड़ पड़ा। सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए यूपी पुलिस ने अखिलेश को भी गिरफ्तार कर लिया। अब मंगलवार को भी ये बड़े विपक्षी नेता लखीमपुर खीरी का दौरा करने का प्रयास कर सकते है।

ये भी पढ़ें: लखीमपुर खीरी हिंसा! प्रियंका गांधी का दिखा रौद्र रूप, पुलिस से कहा- हिम्मत है तो छूकर दिखाओ

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment