Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Tuesday / November 30.
Homeन्यूजमहंगाई के जमाने में अब बिस्कुट भी होने जा रहे है महंगे, Parle कंपनी ने बढ़ाए अपने प्रोडक्ट्स के दाम

महंगाई के जमाने में अब बिस्कुट भी होने जा रहे है महंगे, Parle कंपनी ने बढ़ाए अपने प्रोडक्ट्स के दाम

Parle
Share Now

भारत में महंगाई का दौर बढ़ते ही चले जा रहै है. सिलेंडर और टमाटर जैसी चीजों के दाम बढ़ने के बाद आम-आदमी के लिए अब रोज का गुजारा करना भी मुश्किल होता जा रहा हैं. अब खबर है कि भारत को लोगों की मनपसंद बिस्कुट की ब्रांड भी अपने प्रोडक्ट्स के भाव बढ़ाने वाली है.  भारत में लीडींग फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स (FMCG) कंपनियों में से एक है पारले प्रोडक्ट्स (Parle Products) कंपनी. पारले प्रोडक्ट्स ने अपने लोकप्रिय उत्पादों जैसे पार्ले-जी, हाईड एंड सीक और क्रैकजैक की कीमतों में बढ़ोतरी की घोषणा की है.

कंपनी के एक अधिकारी ने कथित तौर पर कहा कि बिस्कुट की कीमतों में 5 से 10 फीसदी तक की बढ़ोतरी की गई है. कीमतों में वृद्धि के पीछे प्रमुख कारण चीनी, गेहूं और खाद्य तेल जैसे कच्चे माल की कीमतों में भारी वृद्धि है.

देखें ये वीडियो: Ahmedabad Street Food | Shiv Frankie Ahmedabad

आपको बता दें कि बिस्कुट के अलावा, कंपनी ने रस्क और केक सेगमेंट में भी कीमतों में 7-8 फीसदी की बढ़ोतरी की है. लोकप्रिय ग्लूकोज बिस्किट पार्ले-जी की कीमत अब 6-7 फीसदी बढ़ गई है. पारले प्रोडक्ट्स के सीनियर कैटेगरी हेड मयंक शाह ने PTI से बात करते हुए कहा, ‘हमने कीमतों में 5-10 फीसदी की बढ़ोतरी की है. हालांकि, बिस्कुट की कीमतों में बढ़ोतरी 20 रुपये से ऊपर के पैक में ही दिखाई देगी.

मयंक शाह ने कहा, “कंपनी ने बिस्कुट और अन्य उत्पादों की कीमतों में 20 रुपये से अधिक की वृद्धि की है और आकर्षक मूल्य बिंदुओं को बनाए रखने के लिए इसके नीचे के व्याकरण को कम किया है.” विशेष रूप से, चालू वित्तीय वर्ष में पारले द्वारा शुरू की गई यह पहली मूल्य वृद्धि है. कीमतों में पिछली बार बढ़ोतरी जनवरी-मार्च 2021 तिमाही में हुई थी.

ये  भी पढ़ें: अगर ठंड में नहीं पड़ना चाहते बीमार, तो खाने में शामिल कीजिए यह सारे आहार

उन्होंने कहा, ‘यह इनपुट कोस्ट पर मुद्रास्फीति के दबाव पर विचार करने के बाद है, जिसका हम सामना कर रहे हैं. ज्यादातर कंपनियां इसका सामना कर रही हैं.’ उन्होंने कहा कि कंपनी मुद्रास्फीति के दबाव यानि इन्फ्लेशनरी प्रेशर का सामना कर रही है क्योंकि खाद्य तेल जैसी इनपुट सामग्री की कीमतों में पिछले साल की तुलना में 50-60 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. शाह ने कहा, ‘अगर हम गेहूं और चीनी को देखें तो दोनों में पिछले साल की तुलना में 8-10 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है.’

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt 

No comments

leave a comment