Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Sunday / June 26.
Homeभक्तिपौराणिक कथा: जब शिवजी ने किया था रावण के घमंड को चकनाचूर, फिर रावण ने महादेव को बनाया अपना गुरु

पौराणिक कथा: जब शिवजी ने किया था रावण के घमंड को चकनाचूर, फिर रावण ने महादेव को बनाया अपना गुरु

Lord Shiva And Ravana
Share Now

Lord Shiva And Ravana: भगवान राम ने रावण को हराकर लंका फतह की थी। रावण जैसे शक्तिशाली योद्धा को हराना हर किसी के बस की बात नहीं थी। लेकिन ज्यादातर लोगों को सिर्फ यही जानकारी है कि लंकापति रावण की हार सिर्फ श्रीराम से ही हुई थी। लेकिन श्री राम से पहले रावण महादेव शिव, राजा बलि, बालि और सहस्त्रबाहु से भी हार का सामना कर चुके थे। रावण को महादेव का सबसे बड़ा भक्त बताया जाता था। आज हम आपको उस घटना (Lord Shiva And Ravana) के बारें में बताएंगे जिसके बाद से रावण ने शिवजी को अपना गुरु बना लिया था।

शिवजी से रावण की हार:

एक बार घमंड में रावण ने कैलाश पर्वत पर जाकर शिव जी को भी ललकारा था, तब शिव जी रावण को बड़ा सबक सिखाया था। उसी दौरान रावण ने पहली बार शिव तांडव स्रोत गाकर शिव जी को प्रसन्न किया था। रावण को अपनी ताकत पर हमेशा से घमंड रहा है। कहा जाता है कि रावण शिव जी का सबसे बड़ा भक्त था। इसके पीछे एक बहुत ही रोचक पौराणिक कथा जुड़ी हुई है। रावण अपनी ताकत के बल पर देवतों को कई बार परेशान करता था।

जब रावण ने गया था शिव तांडव स्तोत्र:

लेकिन रावण जब एक बार भगवान शिव का ध्यान भंग करने कैलाश पर्वत जा पहुंचा तो रावण को ऐसा सबक मिला, जिसे वो कभी नहीं भूल पाया। और उसी समय से शिव जी का सबसे बड़ा भक्त बन गया था। रावण ने शिव तांडव स्रोत गाकर भगवान शिव को प्रसन्न करके अपनी जान बचाई थी। अपनी ताकत के घमंड में रावण ने शिवजी को हराने कैलाश पर्वत जा पहुंचा था। वहां जाकर लंकापति ने महादेव को युद्ध के लिए ललकारा, लेकिन शिव जी उस समय ध्यान में लीन थे। इसका बात का फायदा उठाकर जब रावण ने कैलाश पर्वत को ही उठाने की कोशिश की तो शिवजी ने पैर के अंगूठे से ही कैलाश का वजन बढ़ा दिया, रावण घबरा गया और उसका हाथ पर्वत के नीचे दब गया।

रावण ने शिवजी को अपना गुरु बना लिया:

इसके बाद उसे बहुत पीड़ा महसूस होने लगी। लेकिन अपनी सारी ताकत लगाने के बावजूद रावण अपना हाथ वहां से नहीं निकाल सका। तब रावण ने अपनी गलती मानते हुए शिवजी को प्रसन्न करने के लिए शिव तांडव स्तोत्र गाना शुरू कर दिया। शिवजी इस स्रोत से बहुत प्रसन्न हो गए और उसने रावण को मुक्त कर दिया। कहा जाता है उसी दिन से रावण ने शिवजी को अपना गुरु बना लिया।

ये भी पढ़ें: जब गणेश जी ने तोड़ा था कुबेर का घमंड, जानिए इससे जुड़ी रोचक पौराणिक कथा

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं। OTT India इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

No comments

leave a comment