Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Monday / January 17.
Homeभक्तिमंगलवार के दिन व्रत रखने और इस कथा का पाठ करने से पूरी होती हैं सारी मनोकामनाएं

मंगलवार के दिन व्रत रखने और इस कथा का पाठ करने से पूरी होती हैं सारी मनोकामनाएं

Hanuman
Share Now

हिंदू(Hindu) धर्म में हर दिन का अपना महत्व है, हर दिन किसी न किसी भगवान को समर्पित है. ऐसे में मंगलवार के दिन भक्त भगवान हनुमान की(Lord Hanuman) पूजा करते हैं. पूजा-अर्चना को लेकर कई तरह के विधि-विधान है. शास्त्रों के मुताबिक मंत्रोच्चार और पूरे नियम से पूजा करने और मंगलवार का व्रत रखने से हनुमान जी(Hanuman Ji) भक्त की हर मनोकामना पूरी करते हैं. ऐसे में ये जानिए कि मंगलवार व्रत की क्या कथा(Mangalwar Vrat Katha) है.

सुबह उठकर स्नानादि कर शुद्ध मन से करें पूजा

मंगलवार के दिन व्रत(Mangalwar Vrat) रखने वाले भक्त को सुबह उठकर स्नानादि कर शुद्ध मन से भगवान हनुमान की पूजा करनी चाहिए. अक्षत, चंदन, रोली, धूप और फल-फूल से भगवान हनुमान की पूजा करें, खासकर उस दिन लाल वस्त्र पहनें क्योंकि हनुमान जी(Hanuman Ji) को लाल रंग पसंद है. विधि-विधान से चंदन-टीका करने और भोग लगाने के बाद इस कथा को पढ़ना या सुनना चाहिए.

Hanuman Ji

Image Courtesy: Google.com

मंगलवार व्रत कथा

Mangalwar Vrat Katha: प्राचीन काल में एक ब्राह्मण दंपत्ति रहते थे, जो पूरी तरह से धार्मिक प्रवृति के थे, लेकिन उन्हें कोई संतान न था, इसलिए दोनों पति-पत्नी दुखी रहते थे. एक ओर ब्राह्मण वन में जाकर भगवान हनुमान की पूजा करता था तो वहीं पत्नी घर पर रहकर तन-मन से हनुमान जी की भक्ति में लीन रहती थी. खासकर मंगलवार को ब्राह्मण(Brahaman) की पत्नी व्रत भी रखती थी और हनुमान जी को भोग लगाकर ही भोजन ग्रहण करती थी.

संतान न होने की वजह से दुखी रहते थे पति-पत्नी

एक बार की बात है मंगलवार को किसी कारणवश वह खाना नहीं बना पाई, जिसकी वजह से हनुमान जी को भोग नहीं लग सका. इसके बाद ब्राह्मण की पत्नी ने ये निश्चय किया कि अगले मंगलवार को वह हनुमान जी को भोग लगाने के बाद ही अन्न ग्रहण करेगी, छह दिनों तक वह भूखी-प्यासी पड़ी रही. ब्राह्मण की पत्नी की भक्ति देखकर हनुमान जी बड़े प्रसन्न हुए और आशीर्वाद स्वरूप एक पुत्र दिया और कहा कि यह तुम्हारी सेवा करेगी. उसका नाम मंगल रखा गया.

Mangalwar Vrat Katha

Image Courtesy: Google.com

मंगलवार को व्रत रखने से पूरी होती हैं मनोकामनाएं

मनोकामना पूरी होने पर ब्राह्मण की पत्नी बहुत खुश हुई, लेकिन ये बातें ब्राह्मण को नहीं पता थी और जब वह घर पहुंचा तो बच्चे को देखकर उसने पूछा तो पत्नी ने सारी बातें बताई, लेकिन ब्राह्मण को यकीन नहीं हुआ. एक दिन उसने बच्चे को कुएं में डाल दिया और घर पहुंचने पर पत्नी ने पूछा कि मंगल कहा है तो पीछे से दौड़ता हुआ मंगल भी पहुंच गया, जिसे देखकर ब्राह्मण चौंक गया.

ये भी पढ़ें: नाम भले ही विवाह पंचमी है लेकिन इस दिन विवाह नहीं होते बल्कि पूजा होती है, पढ़ें विवाह पंचमी की खास बातें

हनुमान जी ने ब्राह्मण को स्वप्न दिया कि ये पुत्र उनके आशीर्वाद से प्राप्त हुआ है, इसे जानकर ब्राह्मण काफी प्रसन्न हुआ और उसके बाद से नियमित रूप से दोनों व्रत रखने लगे, मंगलवार के दिन नियम से व्रत करने और कथा(Mangalwar Vrat Katha) पढ़ने से भक्त की हर मनोकामनाएं पूरी होती है.

No comments

leave a comment