Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Sunday / July 3.
HomeकहानियांMayawati Bday Special: संघर्षों भरा रहा है मायावती का जीवन, टीचर से 4 बार मुख्यमंत्री तक का सफर, जानिए..

Mayawati Bday Special: संघर्षों भरा रहा है मायावती का जीवन, टीचर से 4 बार मुख्यमंत्री तक का सफर, जानिए..

Mayawati Bday Special
Share Now

Mayawati Bday Special: यूपी में इस समय चुनावी रणभेरी बजी हुई है। इस बार मुकाबला अभी तक भाजपा और सपा के बीच दिखाई दे रहा है। यूपी की राजनीति में बड़ा दबदबा रखने वाली बसपा सुप्रीमो मायावती का जन्मदिन भी है। मायावती की राजनीति की ताकत का इसी बात से पता चलता है कि वो देश के सबसे बड़े राज्य यूपी की चार बार मुख्यमंत्री रही है। बहुत ही कम लोग जानते है कि मायावती राजनीति में आने से पहले टीचर हुआ करती थी। चलिए आज जानते है उनके (Mayawati Bday Special) टीचर से लेकर 4 बार की मुख्यमंत्री तक का पूरा सफर….

MAYAWATI

मायावती का पूरा नाम:

BSP सुप्रीमो मायावती का जन्म 15 जनवरी 1956 में दिल्ली में हुआ था। बहनजी या मायावती का पूरा नाम बेहद ही कम लोगों को पता है। अक्सर मीडिया में भी उनका नाम सिर्फ मायावती ही दिखाया जाता और लिखा जाता है। लेकिन उनका पूरा नाम मायावती नैना कुमारी है। मायावती के पिता सरकारी नौकरी में थे। उनकी मां रामरती डेरी संबंधी बिजनेस चलाती थीं। हाल ही में उनकी मां का निधन हो गया था। राजनीति में जैसे-जैसे उनका कद बढ़ता गया लोग उन्हें मायावती से बहनजी बुलाने लगे। लेकिन आजतक उनका पूरा नाम बहुत ही कम बार देखने को सुनने को मिलता है।

BAHANJI

राजनीति में आने से पहले टीचर:

मायावती पढ़ाई में काफी तेज़ थी। उन्होंने एलएलबी और बीएड की पढ़ाई की हैं। पढ़ाई पूरी होने के बाद उन्होंने टीचर के रूप में कार्य किया था। इसके बाद उन्होंने राजनीति में एंट्री की। मायावती ने अपना पहला चुनाव मुजफ्फरनगर के कैराना सीट से लड़ा था। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और वो उत्तर प्रदेश की चार बार मुख्यमंत्री बन चुकी हैं। पहली बार 1995-95, फिर 1997-97, 2002-03 और फिर 2007-12 तक उन्होंने मुख्यमंत्री का पद संभाला।

राजनीति के सारे दांव-पेच जानती है बहनजी:

मायावती देश की इस समय सबसे बड़ी महिला नेता के रूप में जानी जाती है। यूपी के राजनीति में उन्होंने बड़े-बड़े धुरंधरों को भी धूल चटाई है। दलित और मुलिम वोटों पर एक समय मायावती का एक तरफा राज हुआ करता था। लेकिन धीरे-धीरे उनका राजनीतिक कद कमजोर होता गया है। और उनके ये वोट बैंक उनसे छिटकते गए। लेकिन अभी भी देश की राजनीति में उनका अहम योगदान माना जाता है।

ये भी पढ़ें: कोरोना में फिर बड़ा उछाल, एक दिन में करीब 2 लाख तक पहुंचा नए केस का आंकड़ा

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

iOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment