Ott India News Logo
Recent Posts
Connect with:
Sunday / January 16.
Homeन्यूजचुनाव सिर पर हैं फिर भी बहनजी रैलियों से आखिर दूर क्यों हैं, जवाब जानकर आप उनकी ‘दूरदर्शिता’ समझ जाएंगे

चुनाव सिर पर हैं फिर भी बहनजी रैलियों से आखिर दूर क्यों हैं, जवाब जानकर आप उनकी ‘दूरदर्शिता’ समझ जाएंगे

mayawati
Share Now

UP Election 2022: दूरबीन लगाकर अपराधियों को ढूंढने की बात और फिर उसी दूरबीन पर सियासत करने वालों से लेकर आम जनता तक को इस चुनाव में मायावती(Mayawati) की झलक नहीं दिखाई दे रही है. ऐसा लगता है मानो मायावती(Mayawati) दूरबीन से भी दूर चली गई हों, इसलिए सियासी दूरबीन से उन पर तंज कसा गया तो खुद कहने लगीं कि हमें अभी प्रचार नहीं करना, जिसे जो कहना है कहे.

दरअसल उत्तर प्रदेश में आने वाले दिनों में विधानसभा चुनाव(UP Election 2022) होने वाले हैं, हर पार्टी अपनी-अपनी तैयारियों में जुटी है. केन्द्र और राज्य में सत्तासीन पार्टी बीजेपी के कई बड़े नेता जोर-शोर से रैलियां कर रहे हैं, वहीं कांग्रेस की ओर से प्रियंका गांधी ने पूरी तरह से प्रचार की कमान संभाल ली है. इसके अलावा दोबारा सत्ता में वापसी का रास्ता देख रही समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव चुनाव से पहले ही विजय यात्रा निकाल रहे हैं. इन सबके बीच दलितों के उत्थान के दावे करने वाली बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती(BSP Chief Mayawati) चुप बैठी हैं.

मायावती की रैली न होने पर उठे सवाल

सवाल उनके चुप बैठने का नहीं बल्कि पार्टी के चुनाव प्रचार(Election Campaign) का है. क्योंकि अगर सुप्रीमो शांत है तो फिर पार्टी का प्रचार कैसे होगा. इस बात की चिंता बहुजन समाज पार्टी(BSP) को कम और अन्य राजनीतिक दलों को ज्यादा दिखाई दे रही है. तभी तो कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने एक दिन कहा कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को छोड़कर कोई भी ऐसी पार्टी नहीं है जो जनता के मुद्दों को लेकर सड़क पर उतर रही हो.

UP Election 2022

UP Election 2022

प्रियंका गांधी और अमित शाह ने साधा था निशाना

प्रियंका गांधी(Priyanka Gandhi) ने कहा था कि मुझे समझ नहीं आ रहा कि आखिर मायावती इतनी चुप क्यों हैं. कुछ दिनों पहले केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह(Amit Shah) ने भी तंज कसते हुए कहा था कि लगता है बहनजी की ठंड अभी उड़ी नहीं है, बहनजी चुनाव आ गया है, थोड़ा बाहर निकलिए,प्रचार कीजिए. वरना ये मत कहिएगा कि हमने तो प्रचार ही नहीं किया.

नए साल में मायावती का नया वार

रैली(Rally) न करने को लेकर उठते सवालों का जवाब मायावती ने नए साल में दिया है. मायावती ने प्रेस रिलीज जारी कर कहा है कि ठंड में जो इन्हें गर्मी चढ़ी है, यह गरीबों के खजाने की गर्मी है. जब सत्ता में नहीं होते तो विरोधियों पर ठंडी और गर्मी के कटाक्ष की इन्हें याद नहीं आती. उन्होंने ये भी कहा कि हमारी पार्टी के लिए दूसरी पार्टियों को चिंता करने की जरूरत नहीं है, हमारी अपनी कार्यशैली है.

UP Chunav 2022

UP Chunav 2022

ये भी पढ़ें: यूपी चुनाव से पहले मायावती ने किया ऐलान, कहा- प्रदेश की सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ेगी बसपा

मायावती ने बताई प्रचार न करने की वजह

मायावती(Mayawati) ने आगे कहा कि बीजेपी और कांग्रेस के पास पूंजीपतियों और धन्नासेठों का पैसा है. लेकिन हमारी पार्टी गरीबों-मजलूमों की पार्टी है. अगर हमारी पार्टी भी चुनाव से इतने पहले प्रचार में जुट जाएगी तो इसका खर्च नहीं उठा पाएगी. इसलिए अगर हम दूसरी पार्टियों की नकल करेंगे तो हमें चुनाव(UP Election 2022) में काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है.

अधिक रोचक जानकारी के लिए डाउनलोड करें:- OTT INDIA App

Android: http://bit.ly/3ajxBk4

IOS: http://apple.co/2ZeQjTt

No comments

leave a comment